अगर सेक्सुअली एक्टिव हैं तो आपको जरूर लेनी चाहिए सर्वाइकल कैंसर वैक्सीन, जानिए इस कैंसर के बारे में सब कुछ 

ब्रेस्ट कैंसर के बाद सबसे ज़्यादा मौतें सरविक्स यानी गर्भाशय के मुंह के कैंसर की होती हैं। जिसे सर्वाइकल कैंसर भी कहा जाता है। 

cervix vaccine
सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाएं, चित्र: शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Published on: 23 June 2022, 22:57 pm IST
  • 120

सर्वाइकल कैंसर (Cervical Cancer) एक प्रकार का कैंसर है, जो गर्भाशय ग्रीवा की कोशिकाओं में होता है। गर्भाशय का निचला हिस्सा यानी गर्भाशय का मुंह (cervix) जो योनि से जुड़ता है, में यह कैंसर  पाया जाता है। पेपिलोमावायरस (HPV) के विभिन्न उपभेद, यौन संचारित संक्रमण (STD), सर्वाइकल कैंसर पैदा करने में विशेष भूमिका निभाते हैं। तो क्या है इससे बचाव का तरीका आइए जानते हैं विस्तार से। 

सर्वाइकल कैंसर के बारे में बात करते हुए क्लाउड नाइन हॉस्पिटल गुड़गांव में गायनोकोलॉजी डिपार्टमेंट में सीनियर कंसल्टेंट डॉक्टर ऋतु सेठी कहती हैं कि ब्रेस्ट कैंसर के बाद सर्वाइकल कैंसर दूसरा ऐसा कैंसर है, जिसके कारण महिलाओं की मौतें होती हैं। अधिकांश मामले ह्यूमन पैपिलोमावायरस (HPV) के संक्रमण के कारण होते हैं, जिसे टीके से रोका जा सकता है।

क्या है सर्वाइकल कैंसर के लिए वैक्सीन 

 इस टीके को 9 साल की उम्र से लेकर 35 साल तक की उम्र तक लगवाया जा सकता है। प्राइवेट और सरकारी हॉस्पिटल में उपलब्ध यह टीका सेक्सुअली एक्टिव लड़कियों और महिलाओं को ज़रूर लगवाना चाहिए। सर्वाइकल कैंसर धीरे-धीरे बढ़ता है, इसलिए आमतौर पर गंभीर समस्याओं का कारण बनने से पहले इसका पता लगाना और इसका इलाज करना मुश्किल होता है। कई बार इसके पूरी तरह फैलने में 6 से 8 साल तक लग जाते हैं। 

किन महिलाओं को होता है ज्यादा जोखिम 

सर्वाइकल कैंसर शरीर के अंदरुनी भाग में होता है, जिसके कारण यह दिखाई भी नहीं देता। पैप परीक्षणों के माध्यम से बेहतर जांच की जा सकती है, जिसके कारण हर साल महिलाओं की मृत्यु संख्या में कमी आई है। इस टेस्ट को हर सेक्सुअली एक्टिव फीमेल को दो से ढाई साल में कराना चाहिए।

cervical cancer ho sakta hai black period blood ka kaaran
सर्वाइकल कैंंसर हो सकता हैं असमय हैवी पीरियड का कारण। चित्र: शटरस्‍टॉक

35 से 44 वर्ष की महिलाओं को इसके होने की संभावना सबसे अधिक होती है। 15% से अधिक नए मामले 65 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं में हैं, विशेष रूप से वे जो हर साल नियमित जांच नही करवाती डॉक्टर । 

जानिए सर्वाइकल कैंसर के विभिन्न प्रकार 

सर्वाइकल कैंसर एक से अधिक प्रकार का होता है।

स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा – यह गर्भाशय के मुंह पर बनता है। यह 90% मामलों में पाया जाता है।

एडेनोकार्सिनोमा – यह उन कोशिकाओं में बनता है जो बलगम पैदा करती हैं।

मिश्रित कार्सिनोमा – इसमें दो अन्य प्रकार की विशेषताएं हैं।

क्या हैं सर्वाइकल कैंसर के कारण 

सर्वाइकल कैंसर की शुरुआत आपके टिश्यू में असामान्य बदलाव से होती है। ज्यादातर मामले एचपीवी के संक्रमण से जुड़े होते हैं । विभिन्न प्रकार के एचपीवी त्वचा के मस्सों , जननांगों पर मस्सों और अन्य त्वचा विकारों का कारण बन सकते हैं । अन्य योनि, योनि, लिंग , गुदा , जीभ और टॉन्सिल से जुड़े कैंसर से जुड़े हैं ।

आपको सर्वाइकल कैंसर का अधिक खतरा हो सकता है यदि आप:

यदि आपने 16 साल की उम्र से पहले आपके पीरियड्स शुरू होने के एक साल के भीतर सेक्स करना शुरू कर दिया है। 

कई यौन साथी हैं। 

गर्भनिरोधक गोलियां लेती हैं , खासकर 5 साल से अधिक समय तक

सिगरेट का धूम्रपान करती हैं। 

कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली है।

यह यौन संचारित रोग यानी सेक्सुअल ट्रांसमिटेड (एसटीडी) डिजीज़ है जो किसी भी प्रकार के सेक्स चाहे वह वेजाइनल हो, एनल हो या ओरल से हो सकता है।

cervical-cance
सेक्सुअली एक्टिव लेडीज़ को हर दो साल पर ज़रूर चाहिए पैमसीयर टेस्ट, चित्र: शटरस्टॉक

सर्वाइकल कैंसर के लक्षण

हो सकता है कि आपको सर्वाइकल कैंसर के लक्षण तब तक नज़र न आएं जब तक कि यह बहुत बढ़ न जाए । उनमें शामिल हो सकते हैं:

सेक्स के दौरान होने वाला दर्द 

योनि से असामान्य रक्तस्राव , जैसे सेक्स के बाद, मासिक धर्म की डेट्स के बीच, रजोनिवृत्ति के बाद, या पैल्विक टेस्ट के बाद

असामान्य योनि स्राव

इसके फैलने के बाद, कैंसर पैदा हो सकता है:

पेडू में दर्द

पेशाब करने में परेशानी

सूजे हुए पैर

गुर्दे का ख़राब होना 

हड्डी का दर्द

वजन कम होना और भूख न लगना

थकान

अपने डॉक्टर को कब कॉल करें

मेनोपॉज के बाद ब्लीडिंग कभी भी सामान्य नहीं होती है। इसलिए अगर आपको हो तो जल्द से जल्द अपने डॉक्टर से बात करें।

अपने डॉक्टर को बताएं कि क्या आपको पीरियड्स के दौरान भारी रक्तस्त्राव हो रहा है या अक्सर पीरियड्स के बाद भी ब्लीडिंग होती है।

कुछ महिलाओं को संभोग के बाद रक्तस्राव होता है, खासकर हार्श सेक्स के बाद। अगर यह स्राव सामान्य से ज़्यादा है तो अपने डॉक्टर को ज़रूर बताएं।

अगर आपको कमजोरी हो और योनि से असामान्य रक्तस्त्राव हो रहा हो, तो डॉक्टर से जल्द से जल्द संपर्क करें।

सर्विक्स के कैंसर का निदान कैसे होता है?

सर्वाइकल कैंसर स्क्रीनिंग में सबसे महत्वपूर्ण  पैपनिकोलाउ टेस्ट (पैप स्मीयर है) पैप स्मीयर एक महिला की नियमित पेल्विक टेस्ट का हिस्सा है। आपके डॉक्टर आपके गर्भाशय ग्रीवा की सतह से कोशिकाओं को एकत्र करते हैं, और फिर एक तकनीशियन उन्हें माइक्रोस्कोप के नीचे देखता है। यदि वे कुछ भी असामान्य पाते हैं, तो आपके डॉक्टर बायोप्सी नामक प्रक्रिया में गर्भाशय ग्रीवा के ऊतक का थोड़ा सा हिस्सा निकाल आगे की प्रक्रिया के लिए भेज देते हैं ।

यह भी पढ़ें :क्या आप जानती हैं किन महिलाओं को ज्यादा होते हैं पीरियड्स क्रैम्प्स? इन 6 तरीकों से करें कंट्रोल 

  • 120
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory