ओवरवेट महिलाओं को ज्यादा होता है वेजाइनल इंफेक्शन का जोखिम, एक्सपर्ट बता रही हैं कारण और बचाव के टिप्स

गर्मी के मौसम उन महिलाओं के लिए ज्यादा समस्याग्रस्त हो सकता है, जिनका वजन अधिक है। पेट, कमर और प्यूबिक एरिया पर जमी हुई अतिरिक्त चर्बी पसीना और इंफेक्शन का कारण बन सकती है।

vaginal hygiene tips
यहां हैं इंटिमेट हाइजीन को मेंटेन करने के कुछ जरूरी टिप्स। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 18 Jun 2023, 20:00 pm IST
  • 139

मोटापे से ग्रसित महिलाओं को इंटिमेट हाइजीन का विशेष ध्यान रखने की आवश्यकता होती है। वजन बढ़ने से इंटिमेट एरिया, खासकर जांघो में अधिक चर्बी जमा हो जाती है जिसकी वजह से एयर पास होने में बहुत परेशानी आती है। वहीं गर्मी में पसीना आने की वजह से यह समस्या और ज्यादा बढ़ जाती है। हवा पास न होने के कारण पसीना वेजाइना और वेजाइना के आसपास की त्वचा पर जमा रहता है। जिसकी वजह से रैशेज, बम्प्स, इचिंग जैसी समस्याएं हो सकती हैं। वहीं अधिक वजन वाली महिलाओं में यूटीआई इन्फेक्शन और अन्य वेजाइनल इन्फेक्शन का अधिक खतरा होता है।

वजन कम करना आपको डायबिटीज और हृदय रोगों से ही नहीं बचाता, बल्कि यह आपको वेजाइनल इंफेक्शन से भी बचाए रखता है। आंकड़े बताते हैं कि अधिक वजन वाली महिलाएं पीरियड्स, मेनोपॉज और उमस भरे मौसम के दौरान इंफेक्शन की ज्यादा शिकार होती हैं। हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर मारेंगो एशिया हॉस्पिटल फरीदाबाद की ऑब्सटेट्रिक और गायनेकोलॉजिस्ट डॉक्टर गुंजन भोला से बात की। डॉ गुंजन मोटापे से ग्रसित महिलाओं के लिए कुछ खास हाइजीन टिप्स दिए हैं। तो चलिए जानते हैं आप किस तरह अपनी इंटिमेट एरिया को स्वस्थ रख सकती हैं (vaginal hygiene tips for obese women)।

no underwear
अंडरवियर न पहनने पर असल में आपकी निजी अंग बेहतर तरीके से सांस ले पाते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां हैं इंटिमेट हाइजीन को मेंटेन करने के कुछ जरूरी टिप्स

1. ढीले ढाले और कॉटन के कपड़े पहने

अधिक वजन वाली महिलाओं को अपने इंटिमेट हाइजीन पर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता होती है। क्योंकि उन्हें इंटिमेट एरिया में अधिक पसीना आता है जिससे कि संक्रमण का खतरा बना रहता है। ऐसे में ढीला कपड़ा पहने ताकि जितनी एयर पास हो पा रही है वह अच्छी तरह से वेजाइना तक पहुंच पाए। इसके साथ ही कॉटन की हल्की पैंटी पहनना जरूरी है।

ऐसा करने से वेजाइना की त्वचा पर कीटाणु नहीं पनपते हैं, जिससे कि आपको गर्मी के मौसम में वेजाइनल इनफेक्शन जैसी समस्याएं परेशान नहीं करती हैं।

2. प्यूबिक हेयर रिमूव करने के मेथड का रखें खास ख्याल

यदि आप अपने प्यूबिक हेयर को वैक्स या फिर हेयर रिमूवल क्रीम से हटाती हैं, तो सावधान हो जाएं। डॉक्टर के अनुसार यह तरीके आपके लिए बेहद खतरनाक हो सकते हैं। इनकी वजह से वेजाइना में रैशेज, बम्स और अन्य प्रकार के संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें

प्यूबिक हेयर को पूरी तरह से हटाना भी सुरक्षित नहीं है। यदि आप इन्हें पूरी तरह से हटा रही हैं, तो इससे भी संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। यह आपके वेजाइना में बैक्टरिया और अन्य कीटाणुओं को प्रवेश नहीं होने देते।

यदि आप अपने प्यूबिक हेयर को रिमूव करना चाहती हैं, तो इसके लिए ट्रिमिंग एक बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। अपने प्यूबिक हेयर को ट्रिमर से छोटा कर लें, ताकि इनग्रोन हेयर और किसी भी केमिकल युक्त पदार्थ के साइड इफेक्ट का सामना न करना पड़े।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

यह भी पढ़ें : किसी भी ब्रांडेड लुब्रिकेंट से ज्यादा फायदेमंद है सेक्स के दौरान नारियल के तेल का इस्तेमाल, एक्सपर्ट बता रहीं हैं कैसे

3. एसएलएस (sodium Lauryl sulphate) फ्री हाइजीन प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें

गयनेकोलॉजिस्ट के अनुसार इंटिमेट एरिया की साफ़ सफाई करने के लिए एसएलएस फ्री प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करें। एसएलएस युक्त प्रोडक्ट्स जैसे की साबुन और अन्य बॉडी वॉश वेजाइना के पीएच लेवल को प्रभावित कर सकती है जिसकी वजह से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

यदि आपको वेजाइनल इंफेक्शन है और यह लंबे समय से बना हुआ है तो जितनी जल्दी हो सके डॉक्टर से मिलें और इस विषय पर राय लें। गर्मी में योनि संबधी संक्रमण जल्दी ठीक नहीं हो पाती खासकर यदि आपका वजन अधिक है तो इसे ठीक करना और कठिन हो जाता है, बाद में यह बड़ी समस्या का रूप ले लेता है।

vaginal-dryness
गर्म पानी और नमी की मौजूदगी से स्किन के साथ फ्रिक्शन हो सकता है। इससे योनि के पीएच में बदलाव हो सकता है। चित्र : शटर स्टॉक

4. वेजाइना और पैंटी को ड्राई रखें

हर बार बाथरूम जाने के बाद अपनी वेजाइना एवं अंडरगारमेंट्स को पूरी तरह से ड्राई करना जरूरी है। इसके लिए हर बार पेशाब करने के बाद टिशू पेपर से अपने वेजाइना को अच्छी तरह से ड्राई कर लें। पसीने से पैंटी गीली हो जाती है तो पैंटीलाइनर, स्वेटिंग पैड का इस्तेमाल कर सकती हैं। यह वेजाइना को बेक्टिरिया और फंगस फ्री रहने में मदद करेगा साथ ही साथ संक्रमण से भी बचाव करेगा।

5. नियमित जांच है जरूरी

डॉक्टर के अनुसार चाहे आपका वजन अधिक हो या नहीं सभी को नियमित रूप से वेजाइनल चेकअप करवाना चाहिए। यदि आपकी वेजाइनल डिसचार्ज में किसी तरह का बदलाव नजर आ रहा है, या आपके डिस्चार्ज से खराब बदबू आ रही है, तो समझ जाइये ये संकेत संक्रमण की ओर इशारा करते हैं। इसलिए इन्हें भूलकर भी नजरअंदाज न करें और समय रहते डॉक्टर से मिलकर इस विषय पर चर्चा करें।

साथ ही किसी प्रकार की खुजली, रैशेज और अन्य प्रकार के बम्स नजर आने पर डॉक्टर से मिलना और अपनी वेजाइना की जांच करवाना जरूरी है।

यह भी पढ़ें : तनाव बढ़ाकर याद्दाश्त में कमी ला सकता है सेक्स के बीच लंबा गैप, जानिए क्यों जरूरी है रेगुलर सेक्स

  • 139
लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख