डिलीवरी के बाद आपकी योनि में होने वाले ये बदलाव हैं बिल्कुल नाॅर्मल, जानिए कैसे रखना है अपना ध्यान

एक बच्चे को जन्म देना आपके शरीर में कुछ अस्थायी बदलाव कर सकता है। पर इसे लेकर बिल्कुल भी परेशान न हों, क्योंकि आप सही देखभाल से जल्दी ही ठीक हो जाएंगी।

vagina ka rakhen dhyan
रखें अपनी वेजाइना का ख्याल। चित्र: शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 14 November 2022, 22:00 pm IST
  • 126

जिस तरह से प्रेगनेंसी के बाद शरीर में कई सारे बदलाव आते हैं ठीक उसी तरह बच्चे को जन्म देने के बाद हमारी वेजाइना में भी कई तरह के परिवर्तन आते हैं। इनमें इसे कुछ बदलाव ऐसे हो सकते हैं, जिनके साथ हमारे लिए डील करना काफी मुश्किल हो सकता है। इसलिए बेहतर यही है कि हमें इनके बारे में पहले से जानकारी हो जिससे हम खुद को आने वाले बदलावों के लिए पहले से तैयार कर सकें।

यूनाइटेड किंगडम की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (एनएचएस) के अनुसार, बेबी को जन्म देने के बाद वेजाइना में अलग – अलग तरह के परिवर्तन (Vaginal Changes) आना बहुत नॉर्मल है। इसलिए आपको इन परिवर्तनों के बारे में पहले से पता होना बहुत ज़रूरी है, ताकि आप डॉक्टर से इस बारे में सलाह ले सकें।

जानिए प्रसव के बाद किस तरह से बदल जाती है आपकी वेजाइनल हेल्थ

1. वलवर एरिया का बड़ा हो जाना

बच्चे को जन्म देने के बाद सबसे पहला परिवर्तन जो वेजाइना में देखने को मिलता है, वो है वलवर एरिया के आकार में वृद्धि। यह प्रसव के शुरुआती दिनों में होने वाली एक आम समस्या है, जिससे हर महिला गुजरती है। जिनकी भी डिलीवरी नॉर्मल हुई है।

इस समस्या को ठीक करने के लिए आप कुछ कीगल एक्सरसाइज़ (Kegel Exercises) का सहारा ले सकती हैं।

2. वेजाइनल ड्राईनेस

बायोमेडिकल सेंट्रल पीयर रिवियू जर्नल के अनुसार प्रसव के बाद वेजाइनल ड्राईनेस एक आम समस्या है। यह लो एस्ट्रोजेन के कारण हो सकता है, जिसकी वजह से आपको सेक्स करने में भी कई दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि, आप लुब्रिकेट (Lubricate) का इस्तेमाल कर सकती हैं, लेकिन आपको फिर भी बहुत असहजता महसूस हो सकती है। इसलिए खुद को हाइड्रेट रखने की कोशिश करें।

3. दर्द और सूजन

बच्चे को जन्म देने के कई दिनों बाद तक आपको योनि में सूजन और दर्द का अनुभव हो सकता है। नेशनल जर्नल ऑफ हेल्थ के अनुसार प्रसव के बाद 6 से लेकर 12 हफ्तों तक आपको सूजन और दर्द हो सकता है। इसके लिए आप आइस पैक का इस्तेमाल कर सकती हैं। साथ ही आपको अन्य समस्याएं भी हो सकती हैं जैसे

vaginal discharge mein khoon aane ke karan
अपने वेजाइनल डिस्चार्ज पर ध्यान दें। चित्र : शटरस्टॉक

 

ऐंठन
पीठ, गर्दन, या जोड़ों का दर्द
योनि और गुदा के बीच के क्षेत्र में दर्द

4. डिस्चार्ज

बीएमसी प्रेगनेंसी एंड चाइल्डबर्थ जर्नल के अनुसार आपको कुछ हफ्तों तक वेजाइनल डिसचार्ज का अनुभव हो सकता है। यह डिसचार्ग पिंक कलर का हो सकता है और इसके लिए आप टैंपॉन के बजाय पैड का इस्तेमाल कर सकती हैं। धीरे – धीरे ये डिसचार्ज अपने आप कम हो जाएगा।

5. स्कार टिशू

प्रसव के बाद आपके वेजाइनल एरिया में स्कार बन सकता है। यह काफी नॉर्मल है और प्रेगनेंसी की प्रक्रिया की वजह से हो सकता है। इसमें आपको खुजली भी हो सकती है। बाद में यह कुछ दवाइयों और मसाज करने से ठीक भी हो सकता है।

आपके वेजाइनल एरिया में आए इन सब बदलावों को ठीक होने में लगभग 6 हफ्तों का समय लग सकता है। इसलिए आपको थोड़ा धीरज रखने की ज़रूरत है।

प्रसव के बाद रिकवरी में इन बातों का रखें ख्याल

इन सभी बदलावों के बारे में अपने डॉक्टर से बात करें और उनकी सलाह मानें

साथ ही, अपनी दवाएं टाइम पर लें और खुद से कोई नई मेडिसिन न लें।

यदि डॉक्टर नें कुछ चीजों से परहेज करने को कहा है तो उनकी बात मानें।

शरीर को आराम दें क्योंकि सही रेस्ट आपको जल्दी रिकवर होने में मदद करेगा।

यह भी पढ़ें : बार-बार मुंह सूखना या नींद न आना हो सकता है हॉर्मोनल इंबैलेंस का संकेत, जानें इसे नियंत्रित करने के प्रभावी तरीके

  • 126
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें