मानसून में प्यूबिक हेयर रिमूव करना बढ़ा सकता है आपकी परेशानी, जाने क्यों जरूरी है प्यूबिक हेयर

अक्सर लोग इंटिमेट हाइजीन के नाम पर प्यूबिक हेयर को रिमूव कर देते हैं। परंतु यह हाइजीन की जगह वजाइनल हेल्थ को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है। यहां जाने क्यों जरूरी है प्यूबिक हेयर।
मानसून में प्यूबिक हेयर रिमूव करना बन सकता है वजाइनल इन्फेक्शन का कारण। चित्र शटरस्टॉक।
अंजलि कुमारी Published on: 4 August 2022, 18:34 pm IST
ऐप खोलें

अक्सर लोग इंटिमेट हाइजीन के नाम पर प्यूबिक हेयर को रिमूव करते है। कुछ महिलाएं रेजर का इस्तेमाल करती है, तो कुछ बिकिनी वैक्स की मदद से प्यूबिक हेयर्स को रिमूव करती हैं। हालांकि, इस बात की जानकारी होना बहुत जरूरी है प्यूबिक हेयर किसी भी तरह से अनहाइजीनिक नहीं होता। यह आपकी वेजाइनल हेल्थ को बनाए रखने के लिए काफी ज्यादा महत्वपूर्ण है। प्यूबिक हेयर वजाइना के लिए एक प्रोटेक्टर के रूप में काम करता है और होने वाली विभिन्न प्रकार के संक्रमण को रोकता है।

मानसून में ह्यूमिडिटी काफी ज्यादा होती है। जिसके कारण वेजाइनल हेल्थ (Vaginal Health) के प्रभावित होने की संभावना बनी रहती है। ऐसे में प्यूबिक हेयर को रिमूव करना किसी बेवकूफी से कम नहीं है। यदि आपकी प्यूबिक हेयर ज्यादा बढ़ चुकी है, और आपको इससे इरिटेशन होने लगा है, तो ऐसे में इसे सेव या वैक्स करने की जगह ट्रिम करना ज्यादा उचित रहेगा। हालांकि, मानसून में वेजाइनल हेल्थ का ध्यान रखना बहुत जरूरी है। इसलिए कुछ भी ऐसा न करें जिससे आपकी इंटिमेट हेल्थ पर नकारात्मक प्रभाव पड़े। तो चलिए जानते हैं किस तरह प्यूबिक हेयर को रिमूव करना आपकी वजह न हेल्थ पर पड़ सकता है भारी।

वेजाइना के लिए जरुरी है प्यूबिक हेयर। चित्र: शटरस्‍टॉक

यहां जाने क्यों जरुरी है प्यूबिक हेयर

1. बैक्टीरिया से प्रोटेक्ट करें

प्यूबिक हेयर अनवांटेड बैक्टीरियल इनफेक्शन (Bacterial Infection) से प्रोटेक्ट करता है। इसके साथ ही यह डस्ट पार्टिकल्स और बैक्टीरिया को यूरिनरी ट्रैक्ट में एंटर करने से रोकता है। इसे कभी भी पूरी तरह रिमूव न करें, इरिटेशन होने पर ट्रिम कर सकती हैं।

2. हो सकता है इचिंग और इरिटेशन

जब आप प्यूबिक हेयर रिमूव करती हैं, तो शुरुआत में आपको काफी अच्छा महसूस होता है। परंतु जब धीरे-धीरे बेबी हेयर ग्रो होते हैं, तो यह इचिंग और इरिटेशन पैदा करते हैं। वहीं मॉनसून की ह्यूमिडिटी के कारन बॉडी अलग तरह से हीट रहती हैं, जिसके कारण अधिक स्वेटिंग होती है। यह बैक्टीरियाज के साथ रिएक्ट करके आपकी समस्या को और ज्यादा बढ़ा सकता है।

जानिए क्यों होता है यीस्ट इन्फेक्शन।। चित्र: शटरस्टॉक

3. इनग्रोन हेयर की समस्या

वैक्सिंग, सेविंग जैसी एक्टिविटीज स्किन पर इनग्रोन हेयर छोड़ जाती हैं। ऐसे में इन्हें रिमूव करना काफी ज्यादा मुश्किल होता है। खासकर प्यूबिक एरियाज जैसे सेंसिटिव बॉडी पार्ट पर यह एक बुरा प्रभाव डाल सकती है। इनग्रोन हेयर बॉडी पर स्वेलेन बम्प्स पैदा कर देती हैं। जो कि स्किन हेल्थ को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसके साथ ही यदि यह समय रहते ठीक न हो पाए तो मॉनसून की ह्यूमिडिटी इसे इंफेक्शन और एलर्जी के रूप में तब्दील कर सकती है।

4. वजाइनल टेंपरेचर को मेंटेन रखें

शरीर के अन्य पार्ट्स की तरह प्यूबिक एरिया से भी काफी ज्यादा स्वेटिंग होती है। ऐसे में प्यूबिक हेयर स्वेट और मॉइश्चर को सोखता है। साथ ही वजाइना के टेंपरेचर को मेंटेन रखता है।

5. शेविंग और वैक्सिंग से लग सकता है कट

शेविंग और वैक्सिंग करते वक्त स्किन के काटने और जलने की संभावना बनी रहती है। ऐसे में मॉनसून के मौसम में यह कई अन्य तरह के इन्फेक्शन्स का कारण बन सकती हैं। वहीं सेक्स के दौरान ऐसी समस्याएं आपके साथ-साथ आपके पार्टनर के इंफेक्शन का भी कारण बन जाती हैं।

बिकिनी वैक्स आपके लिए हो सकती है खतरनाक यहां जाने कैसे। चित्र शटरस्टॉक।

6. सेक्स के दौरान प्रोटेक्टर की तरह काम करती हैं

मानसून की ह्यूमिडिटी वजाइनल हेल्थ को कई तरह से प्रभावित कर सकती है। वहीं इस दौरान इंफेक्शन होने की संभावना काफी ज्यादा होती है। ऐसे में सेक्स करते वक्त पसीना हार्मोन और बैक्टीरिया मिलकर इंफेक्शन पैदा कर सकते हैं। इसके साथ ही यदि आपके पार्टनर को किसी प्रकार का इंफेक्शन है, तो प्यूबिक हेयर इस इंफेक्शन को ट्रांसमिट होने से रोकता है।

यह भी पढ़ें : मंकीपॉक्स आउटब्रेक : इस वायरस के बारे में जानें ये 10 महत्वपूर्ण बातें

लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story