क्या बिना यौन उत्तेजना के ऑर्गेज़्म संभव है? जानिए क्यों यह महिलाओं को ज्यादा परेशान करता है

Published on: 14 December 2021, 21:00 pm IST

क्या आप जानते हैं कि कुछ लोग यौन गतिविधि के बिना भी ऑर्गेज़्म का अनुभव कर सकते हैं? इसके बारे में और जानने के लिए पढ़ें।

aapki sex drive badha sakta hai hamas
आपकी सेक्स ड्राइव बढ़ा सकता है हमस। चित्र: शटरस्टॉक

यकीनन, ऑर्गेज़्म कमाल की चीज है। यह आपके स्वास्थ्य और सेक्स सेशन के लिए बहुत फायदेमंद है। लेकिन क्या आपने कभी बिना किसी यौन उत्तेजना या गतिविधि के अप्रत्याशित, अवांछित रूप से ऑर्गेज़्म का सामना किया है? अजीब है, है न? वास्तव में, यह एक अनैच्छिक ऑर्गेज़्म है, जो कहीं से भी, कभी भी, किसी भी स्थिति में आप अनुभव कर सकती हैं! 

यह आश्चर्य की बात है कि सहज संभोग, यानी सेक्सुअल क्लाइमैक्स किसी भी शारीरिक उत्तेजना के बिना हो रहा है। जबकि कुछ लोग जो इसका अनुभव करते हैं, उन्हें वह आनंददायक लग सकता है। पर दूसरों के लिए वह पूरी तरह से अवांछित व्याकुलता और संकट का स्रोत हैं।

तो अनैच्छिक ऑर्गेज़्म  (spontaneous orgasm) वास्तव में क्या है?

हेल्थशॉट्स ने फोर्टिस अस्पताल, कनिंघम रोड, बेंगलुरु के मनोवैज्ञानिक, शमंथा के से सहज संभोग के बारे में बात की और वे क्यों होता है।

वह कहती हैं, “अस्थिर संवेदी उत्तेजनाओं या ऑर्गेज़्म के इस श्रृंखला का अनुभव करने से परसिस्टेंट जेनिटल अराउजल डिसऑर्डर का निदान हो सकता है। इसे आमतौर पर पीजीएडी (PGAD) भी कहा जाता है।”

ये ऑर्गेज़्म बिना किसी यौन गतिविधि के शुरू हो जाते हैं और इससे कई प्रकार के ऑर्गेज़्म हो सकते हैं। शमंथा ने कहा कि यह उत्तेजना छह घंटे तक चल सकती है। यह अत्यधिक कष्टदायक है, क्योंकि यह एक अवांछित भावना है जिसका इससे पीड़ित व्यक्तियों द्वारा आनंद नहीं लिया जाता है।

Orgasm aapki immunity ko strong karta hai
ऑर्गेज़्म आपकी इम्युनिटी को बढ़ा सकता है। चित्र:शटरस्टॉक

सहज संभोग के दुष्प्रभावों के बारे में बात करते हुए, शमंथा ने कहा, “इससे तनाव, शारीरिक दर्द, मानसिक और भावनात्मक कठिनाइयां जैसे चिंता, घबराहट के दौरे, अनिद्रा, गिल्ट, अवसाद आदि हो सकते हैं, जो दैनिक गतिविधियों को करने में परेशानी उत्पन्न करते हैं।” 

इतना ही नहीं, अंतरंग संबंधों में समस्याएं भी उत्पन्न हो सकती हैं। यदि पार्टनर अनुभव की गई गंभीरता और लाचारी को समझने में विफल रहते हैं। ऐसे लोग यौन सुख के अपने विचार को भी खो सकते हैं, क्योंकि ऑर्गेज़्म के मूल सुख के बजाय इसमें दर्द का अनुभव होता है।

शमंथा ने कहा, “पीजीएडी (PGAD) पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक प्रभावित करता है।” 

तो आइए जानें कि ऐसा क्यों होता है

इसके पीछे का सटीक कारण काफी हद तक अज्ञात हैं, लेकिन कई अध्ययन हुए हैं जो इसे विज्ञान के संदर्भ में समझने की कोशिश कर रहे हैं। शमंथा ने कहा, “पीजीएडी के कुछ ट्रिगर प्वाइंट तनाव और चिंता, हस्तमैथुन या यौन उत्तेजना हैं। व्यक्तियों के लिए लक्षणों से बचने के लिए उनकी पहचान करना मुश्किल है।”

कुछ शोध निहितार्थ यह भी बताते हैं कि पीजीडीए विकार, नर्वस सिस्टम की समस्या और कुछ दवाओं के कारण होने वाले रासायनिक असंतुलन के बीच एक संबंध है।

इसके अलावा, टारलोव सिस्ट जैसी शारीरिक स्थितियां भी इसे जन्म दे सकती हैं। टारलोव सिस्ट एक ऐसी बीमारी है जिसमें रीढ़ की हड्डी में तरल पदार्थ जमा हो सकता है। यह मस्तिष्क से जननांगों, बृहदान्त्र और मूत्राशय जैसे विभिन्न क्षेत्रों में संकेत मिलने की प्रक्रिया को प्रभावित करता है। 

क्या इस तरह के ऑर्गेज़्म को रोकने का कोई तरीका है?

शमंथा के अनुसार यदि आपका ऑर्गेज़्म अन्य कारणों से शुरू होता है, तो आप इस स्थिति से निपटने के लिए इन टिप्स का पालन कर सकती हैं। 

Aap bahut baar orgasm kar sakte hai
हां ये सच है, आप एक सेशन में कई बार ऑर्गेज्‍म पा सकती हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
  • तनाव को कम करने से कुछ लोगों में गंभीरता को नियंत्रित किया जा सकता है, जो इसे कुछ हद तक मनोवैज्ञानिक बना देता है। 
  • पीजीएडी के लिए उत्तेजना को नियंत्रित करने के लिए तनाव प्रबंधन दिनचर्या, विश्राम तकनीक, योग, ध्यान कुछ गैर-औषधीय तरीके हैं। 
  • अन्य सहज ऑर्गेज़्म के लिए, ट्रिगर्स की पहचान करना और उनका मुकाबला करना एक बड़ी राहत होगी। 
  • यदि आप लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करें। 
  • ट्रिगर्स की पहचान करने में मदद करने के लिए, कॉग्निटिव बिहेवियर थेरेपी (CBT) के क्षेत्र में विशेषज्ञता वाला एक मनोवैज्ञानिक हस्तक्षेप कर सकता है।
  • इलेक्ट्रोकोनवल्सी थेरेपी का भी उपचार पर सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। हमें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि कई लोग इससे जुड़े टैबू और शर्मिंदगी के कारण मदद लेने से कतराते हैं।

अपने आप को शांत रखें और घबराएं नहीं! सहज चरम सुख किसी अंतर्निहित बीमारी के कारण नहीं होते हैं।

यह भी पढ़ें: पीरियड्स और वर्कआउट! अगर आप भी इसे लेकर कन्फ्यूज हैं, तो सारा अली खान का ये वीडियो आपके लिए है

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें