यूटीआई का जोखिम और बढ़ा देता है अनसेफ सेक्स, जानिए क्या है दोनों का संबंध

कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें सेक्स करने के बाद अक्सर यूरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन(UTI) का सामना करना पड़ता है। यदि आप भी इनमें से एक हैं, तो क्या आपने इसका कारण जानने की कोशिश की है? आइए पता करते हैं।
सभी चित्र देखे Samajhiye unsafe sex aur UTI ka khatra.
अनसेफ सेक्स से बढ़ जाता है UTI का खतरा। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 3 Feb 2024, 22:20 pm IST
  • 124

इंटिमेट हाइजीन मेंटेन न करना यूटीआई का एक सबसे कॉमन कारण है। पर सेक्स भी यूटीआई में योगदान कर सकता है। जो लोग सेक्सुअली एक्टिव होते हैं, उनमें इसका खतरा अधिक होता है। वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें सेक्स करने के बाद अक्सर यूरिनरी ट्रैक इन्फेक्शन(UTI) का सामना करना पड़ता है। यदि आप भी इनमें से एक हैं, तो क्या आपने इसका कारण जानने की कोशिश की है? यदि नहीं तो आपको इस बारे में जरूर जानना चाहिए।

हेल्थ शॉट्स ने सेक्स करने से यूटीआई होने के कारण को समझने के लिए सी के बिरला हॉस्पिटल, गुरुग्राम की ऑब्स्ट्रक्ट्रिक्स और गायनेकोलॉजी डिपार्टमेंट की लीड कंसलटेंट डॉक्टर आस्था दयाल से बात की। डॉक्टर ने इस बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी है, तो चलिए जानते हैं, सेक्स आखिर किन स्थितियों में यूटीआई का कारण बन सकता है(Sex and uti)।

समझिए अनसेफ सेक्स और UTI का खतरा (Sex and uti)

यूरेथ्रा एक प्रकार का ट्यूब है जिसके माध्यम से यूरिन ब्लैडर से बाहर निकल आता है। महिलाओं में यूरेथ्रा ट्यूब काफी छोटी होती है, जिसकी वजह से बैक्टीरिया आसानी से ब्लैडर ओपनिंग में इंटर कर सकती है। ऐसे में ब्लैडर इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। सेक्सुअल एक्टिविटी के दौरान बैक्टीरिया के लिए ओपनिंग तक पहुंचना बेहद आसान हो जाता है।

सेफ Sex hai jaruri
सुरक्षित सेक्स करना बहुत जरुरी है। चित्र : अडोबी स्टॉक

यूटीआई का कारण बनने वाले बैक्टीरिया आम तौर पर एनस के आसपास रहते हैं, ऐसे में इंटरकोर्स और अन्य सेक्सुअल एक्टिविटीज के दौरान यह आपकी वेजाइना की ओर ट्रांसफर हो सकते हैं। जिसकी वजह से यूटीआई का खतरा बढ़ जाता है।

हालांकि, सेक्स के दौरान की जाने वाली कुछ गलतियां और लापरवाही यूटीआई के लिए जिम्मेदार होती हैं। यदि आप सेफ सेक्स प्रैक्टिस करती हैं, तो इसका खतरा खुद ब खुद बहुत कम हो जाता है।

जानें किन्हें होता है सेक्स के बाद यूटीआई का अधिक खतरा

हर बार सेक्स करने से यूटीआई नहीं होता, पर सेक्सुअल गतिविधियों के दौरान लापरवाही करने और सेक्स के बाद हाइजीन मेंटेन न करने से यूटीआई का खतरा भूत हद तक बढ़ जाता है। ऐसे लोगों में अधिक फ्रिक्वेंटली यूटीआई हो सकता है। अनसेफ सेक्स यूटीआई के कंडीशन को ट्रिगर कर सकता है। यूटीआई को हनीमून सिस्टाइटिस भी कहते हैं। सिस्टाइटिस एक प्रकार का ब्लैडर इंफेक्शन है। वहीं यूरोलॉजी केयर फाउंडेशन की माने तो फ्रिक्वेंट इंटरकोर्स यूटीआई का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़ें: ज्यादा नमक खाना बिगाड़ सकता है सेक्स लाइफ का स्वाद, यहां हैं यौन जीवन बर्बाद करने वाली 6 खराब चीजें

यदि आप नए पार्टनर के साथ सेक्स कर रही हैं, या आपको यूटीआई की हिस्ट्री है, आप और आपके पार्टनर प्री और पोस्ट सेक्सुअल हाइजीन मेंटेन नहीं करते, आपको डायबिटीज या पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स है, सेक्स के बाद यूरिन पास नहीं करते और प्रोटेक्शन यानी की बिना कंडोम के सेक्स करती हैं, तो ये सभी स्थितियां यूटीआई के खतरे को बढ़ा देती हैं। यही कुछ कारण हैं जिनकी वजह से सेक्स के बाद यूटीआई का खतरा बढ़ जाता है। यदि इन चीजों पर ध्यान दिया जाए तो इसके खतरे को कम किया जा सकता है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में यूटीआई का अधिक खतरा होता है।

female-condom
कंडोम का इस्तेमाल जरूर करें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

यौन सक्रिय हैं, तो UTI से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

UTI से बचाव के लिए आपको सेक्स करना बंद नहीं करना है। यहां कुछ टिप्स बताए गए हैं जो हानिकारक बैक्टिरियल बिल्डअप को कम करने में मदद करेंगे, जिससे यूटीआई का खतरा कम हो जाता है।

1. सेक्स के बाद यूटीआई के खतरे को कम करने के लिए सेक्स के पहले और बाद में दोनों समय यूरिन पास करना बहुत जरूरी है। इससे ट्यूब के बैक्टीरिया यूरिन के माध्यम से बाहर निकल आते हैं, और ब्लैडर तक नहीं पहुंच पाते।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें

2. अपने इंटिमेट एरिया को सेक्स के पहले और बाद में दोनों समय अच्छी तरह क्लीन करें। वहीं अपने पार्टनर से भी ऐसा करने को कहें। इस दौरान यदि इंटिमेट एरिया को वाइप कर रही हैं, तो हमेशा आगे से पीछे की ओर वाइप करें।

3. सेक्स के दौरान अपने पार्टनर को हमेशा कंडोम पहनने को कहें। वहीं फीमेल कंडोम का भी इस्तेमाल कर सकती हैं। कंडोम बैक्टीरिया को स्किन के डायरेक्ट कॉन्टैक्ट में नहीं आने देता जिससे यूटीआई का खतरा कम हो जाता है।

4. सेक्स के दौरान लुब्रिकेंट का इस्तेमाल जरूरी है। कई बार वेजाइना ड्राई हो जाती है, ऐसे में इंटरकोर्स के दौरान फ्रिक्शन होने से वेजाइना में कट लग सकता है। साथ ही यूटीआई का खतरा भी बढ़ जाता है। ऐसे में नेचुरल लुब्रिकेंट का इस्तेमाल आपके लिए पूरी तरह से सुरक्षित साबित होगा। यह सेक्स को स्मूद और अधिक मजेदार बना सकता है।

5. सेक्स करने के बाद, साथ ही पूरे दिन भरपूर मात्रा में पानी पिएं, और खुदको हाइड्रेटेड रखें। ये आपके ब्लैडर में मौजूद अनवांटेड बैक्टीरिया को रिमूव करने में मदद करेगा।

Monsoon sex mei UTI ka khatra
सेक्स के दौरान होने वाली समस्याएं और उससे बचने का तरीका भी। चित्र : एडोबी स्टॉक

क्या UTI होने पर सेक्स करना सुरक्षित है?

यदि आपको एक्टिव यूरिनरी ट्रैक्ट इनफेक्शन है, तो ऐसे में इंटरकोर्स के साथ ही अन्य सेक्सुअल एक्टिविटीज में पार्टिसिपेट नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह स्थिति को और ज्यादा खराब कर सकते हैं। यदि आप यूटीआई सेक्स कर रही हैं, तो ऐसे में यह और ज्यादा गंभीर हो सकता है और किडनी को भी संक्रमित कर सकता है। इतना ही नहीं यह आपके पार्टनर में ट्रांसफर हो सकता है। दोबारा से सेक्स करने से पहले आपको यूटीआई के पूरी तरह से ठीक होने का इंतजार करना होगा। यदि आप कंफर्टेबल महसूस कर रही हैं, फिर भी आपको डाउट है तो डॉक्टर से मिलकर चेकअप करवाने में कोई बुराई नहीं है।

यह भी पढ़ें: सर्वाइकल कैंसर से बचाव का इफेक्टिव तरीका है एचपीवी वैक्सीन, 2024 बजट में हुई इसे प्रमोट करने की घोषणा

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख