आपकी योनि के लिए संक्रमण के जोखिम बढ़ा देता है बरसात का मौसम, एक्सपर्ट दे रहीं हैं वेजाइनल केयर टिप्स

बरसात के मौसम में हर प्रकार के संक्रमण का खतरा अधिक होता है, खासकर वेजाइना आसानी से प्रभावित हो जाती है। ऐसे में कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखते हुए आप अपनी वेजाइना को पूरी तरह से सुरक्षित और स्वस्थ रख सकती हैं।
vaginal health ke liye foods
योनि स्वास्थ्य और कल्याण के लिए सर्वोत्तम खाद्य पदार्थों पर एक नज़र डालें। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 3 Jul 2023, 21:00 pm IST
  • 136

बरसात का मौसम शुरू हो चुका है और यह मौसम ह्यूमिडिटी यानी की नमी और उमस को अपने साथ लेकर आता है। ह्यूमिडिटी का यह मौसम विभिन्न प्रकार के बैक्टीरिया और वायरस का घर होता है, जिसकी वजह से संक्रमण का खतरा भी बढ़ जाता है। इस मौसम योनि यानी कि वेजाइना के प्रभावित होने का खतरा अधिक होता है। वेजाइना के आसपास नमी हमेशा बरकरार रहती है और इस मौसम अधिक नमी होने की वजह से यूटीआई, यीस्ट इन्फेक्शन और अन्य वेजाइनल संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

हेल्थ शॉट्स ने इस बारे में ऑरा क्लिनिक, गुड़गांव की डायरेक्टर एवं क्लाउड नाइन हॉस्पिटल, गुड़गांव की सीनियर कंसलटेंट डॉ रितु सेठी से सलाह ली। उन्होंने बरसात के मौसम में वेजाइनल संक्रमण को रोकने के लिए कई महत्वपूर्ण टिप्स दिए हैं। तो चलिए जानते हैं इन प्रभावी टिप्स के बारे में (Vaginal care in monsoon)।

जानिए बरसात के मौसम में क्यों बढ़ जाता है योनि संक्रमण का खतरा

डॉक्टर रितु सेठी के अनुसार बरसात में महिलाओं में योनि संक्रमण का खतरा अधिक बढ़ जाता है। खासकर यदि कोई महिला डायबिटीज से पीड़ित हैं, मोटापे की शिकार हैं, या गर्भवती हैं तो उनमें बरसात के दौरान वेजाइनल इंफेक्शन का खतरा सबसे अधिक होता है। बरसात के मौसम में ह्यूमिडिटी और नमी के कारण बैक्टीरियल फंगस अधिक तेजी से पनपते हैं ऐसे में फंगल इन्फेक्शन का शिकार होना बिल्कुल आम है। इस मौसम आपकी योनि को विशेष देखभाल की आवश्यकता होती है।

vaginal care ke baare me jaanen
जानिए योनि की देखभाल का तरीका। चित्र : एडॉबीस्टॉक

यहां जानें बचाव के कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

1. कपड़ों को पूरी तरह से ड्राई करें

बरसात के मौसम में अक्सर कपड़े पूरी तरह से सूख नहीं पाते और इनमें नमी बरकरार रहती है, ऐसे में इन कपड़ों को पहनने से पहले इन्हें अच्छी तरह से सुखाना महत्वपूर्ण है। खासकर अपने अंडरर्गारमेंट को पूरी तरह से ड्राई किए बिना न पहने। यदि धूप नहीं निकल रहा है तो अपने अंडरर्गारमेंट को पहनने से पहले प्रेस कर लें ताकि इनकी नमी निकल जाए।

इसके अलावा बरसात के मौसम में आपको भूलकर भी सिंथेटिक कपड़े के अंडरर्गारमेंट नहीं पहनने चाहिए, क्योंकि इन से हवा पास नहीं होती और यह वेजाइना के आसपास के एरिया में अधिक नमी पैदा करते हैं। ऐसे में इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है, इसलिए ढीले कॉटन के अंडरर्गारमेंट पहने, जिससे कि हवा आरपार हो पाए और वेजाइना ड्राई रह सके।

2. दिन में 2 बार अंडरर्गारमेंट बदलें

डॉक्टर के अनुसार बरसात के मौसम में ह्यूमिडिटी बढ़ने की वजह से अंडरर्गारमेंट जल्दी और अधिक नम हो जाती है। ऐसे में इन पर संक्रमण फैलाने वाले बैक्टीरिया और फंगस पनपना शुरू हो जाते हैं, इन स्थितियों से बचने के लिए आपको दिन में कम से कम 2 बार अपने अंडरर्गारमेंट को बदलना चाहिए। वहीं ध्यान रहे कि आप कॉटन और ड्राई अंडरर्गारमेंट पहन रही हैं।

vaginal summer care
योनि स्वास्थ्य का ध्यान रखें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

3. सेनेटरी पैड की जगह मेंस्ट्रूअल कप का इस्तेमाल करें

बरसात के मौसम में सैनिटरी पैड के इस्तेमाल से वेजाइनल एरिया में ह्यूमिडिटी अधिक बढ़ जाती है ऐसे में रैशेज और अन्य संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। यदि आप टैम्पोन का इस्तेमाल करती हैं, तो यह पीरियड ब्लड के साथ वेजाइनल फ्लूइड को भी सोख लेता है। जिसकी वजह से भी वेजाइनल इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में मेंस्ट्रूअल कप का इस्तेमाल एक सबसे अच्छा विकल्प है, यह न तो वेजाइना में ह्यूमिडिटी पैदा करता है, नाही वेजाइना को ड्राई करता है। इसलिए बरसात में मेंस्ट्रूअल कप का इस्तेमाल सबसे सुरक्षित है।

यह भी पढ़ें : थोक में खरीद लेती हैं सैनिटरी पैड या टैम्पोन? तो जानिए एक्सपायर्ड पीरियड प्रोडक्ट यूज करने के साइड इफेक्ट

4. प्यूबिक हेयर रिमूव करने के तरीके का रखें खास ध्यान

प्यूबिक हेयर के अपने फायदे होते हैं, यह सेक्स के दौरान फ्रिक्शन को कम करता है और बैक्टीरिया को ग्रो करने से रोकता है। लोग जानकारी के अभाव में आमतौर पर इसे पूरी तरह से शेव कर लेते हैं, जो कि बिल्कुल भी उचित नहीं है। मानते हैं बरसात के मौसम में ह्यूमिडिटी बढ़ जाती है जिसकी वजह से अधिक बाल होने पर आपको इरिटेशन और खुजली हो सकता है। इसका उपचार इसे सेव करना नहीं है।

आप चाहे तो अपने प्यूबिक हेयर को ट्रिम कर सकती हैं, इन्हें छोटा रखें परंतु इन्हें पूरी तरह से शेव न करें। वहीं हेयर रिमूवल क्रीम और वैक्सिंग को पूरी तरह से अवॉइड करें क्योंकि इससे संक्रमण का खतरा अधिक बढ़ जाता है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें

5. खुद को पूरी तरह से हाइड्रेटेड रखें

बरसात के मौसम में ह्यूमिडिटी काफी बढ़ जाती है, जिसकी वजह से शरीर फ्लूइड और साल्ट खोना शुरू कर देता है। ऐसे में पर्याप्त मात्रा में पानी पीना बेहद महत्वपूर्ण है, क्योंकि हाइड्रेटेड रहने से आप अपने बॉडी टॉक्सिंस को आसानी से बाहर निकाल पाती हैं। इसके अलावा हाइड्रेशन आपके वेजाइनल पीएच वैल्यू को मेंटेन रखता है, जिससे यूटीआई और अन्य संक्रमण का खतरा कम हो जाता है।

vaginal burning ke gharelu upay
वेजाइनल बर्निंग के लिए घरेलू उपाय। चित्र : शटरस्टॉक

6. हाइजीन मेंटेन करना है महत्वपूर्ण

डॉक्टर के अनुसार बरसात के मौसम में अपने वेजाइना को दिन में कम से कम 2 बार जरूर साफ करें, इसके लिए सेंटेड और केमिकल युक्त साबुन एवं इंटिमेट वॉश का इस्तेमाल न करें। साथ ही इन्हें करने के बाद सूती कपड़े या टिश्यू की मदद से अच्छी तरह टैप ड्राई करना जरूरी है।

इतना ही नहीं हर बार पेशाब करने के बाद अपने वेजाइना को पानी से साफ करने की जगह इसे टिश्यू से ड्राई करें क्योंकि बरसात के मौसम में योनि पहले से ही काफी ज्यादा नम रहती है। मेंस्ट्रुअल हाइजीन का भी ध्यान रखना जरूरी है, उचित समय पर के अंतराल पर टैम्पोन, पैड और मेंस्ट्रुअल कप को चेंज करना न भूलें।

यह भी पढ़ें Bikini hair removal cream : क्या कैंसर का कारण बन सकती हैं प्यूबिक हेयर हटाने वाली क्रीम? एक्सपर्ट से जानते हैं

  • 136
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख