आपके पीरियड्स को भी लेट कर सकता है वायु प्रदूषण, जानिए कैसे खराब हवा में सांस लेना करता है हाॅर्मोन्स में गड़बड़ी

प्रदूषण में मौजूद पार्टीक्यूलेट मैटर स्वास्थ्य को तो प्रभावित करता ही है। साथ ही, आपके पीरियड्स को भी प्रभावित कर सकता है, जिसके कारण इंफर्टिलिटी, मेटाबॉलिक सिंड्रोम और पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम जैसी समस्याएं हो सकती हैं।

period and pollution
जानिए वायु प्रदूषण आपके पीरियड्स को कैसे प्रभावित कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 11 November 2022, 21:00 pm IST
  • 111

सर्दियों में दिल्ली का वातावरण बड़ी तेज़ी से बदलता है। ऐसे में मौसम में ठंड का कोहरा है या प्रदूषण का, यह पहचानना काफी मुश्किल हो जाता है। दिल्ली समेत कई शहरों की एयर क्वालिटी आजकल आपको खराब होती हुई नज़र आ जाएगी। यह सब हवा में मौजूद पार्टीक्यूलेट मैटर (particulate matter) की वजह से होता है, जो वातावरण में स्मॉग (smog) का कारण बनता है।

गिरती हुई एयर क्वालिटी कई तरह की स्वास्थ्य या कहें श्वास संबंधी बीमारियों को जन्म दे सकती है यह तो हम सभी जानते हैं। मगर क्या आप ये जानते हैं कि प्रदूषण का आपके पीरियड्स पर भी असर हो सकता है (Pollution effect on periods)? जी हां… कई अध्ययनों में यह पाया गया कि एयर पल्यूशन (air pollution) महिलाओं में मासिक धर्म की कई समस्याओं का कारण बन सकता है।

जानिए इससे जुड़े अध्ययन में क्या पाया गया?

ह्यूमन रिप्रोडक्शन जर्नल में प्रकाशित हुये एक अध्ययन के अनुसार वायु प्रदूषण महिलाओं में इंफर्टिलिटी, मेटाबॉलिक सिंड्रोम और पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम का कारण बन सकता है। और इन रोगों की शुरुआत सबसे पहले इर्रेगुलर पीरियड्स के साथ होती है।

इस अध्ययन में 14-18 वर्ष की आयु की लड़कियों पर किया गया। जिसमें यह देखा गया कि वायु प्रदूषण के संपर्क में आने पर मासिक धर्म की अनियमितता की संभावना थोड़ी बढ़ जाती है। यह पहला अध्ययन है जो दिखाता है कि वायु प्रदूषण प्रजनन तंत्र को प्रभावित करता है।

हॉरमोन्स को प्रभावित कर सकता है प्रदूषण

इससे जुड़े अध्ययन में यह भी सामने आया कि वायु प्रदूषण में मौजूद पार्टिकुलेट मैटर शरीर के अंदर जाने पर हार्मोनल बदलाव का कारण बन सकता है। और यह परिवर्तन आगे चलकर गंभीर बीमारियों का कारण बन सकते हैं। साथ ही, महिलाओं और पुरुषों के प्रजनन तंत्र को प्रभावित कर सकते हैं।

pollution
धूल, गंदगी, में जाने से बचें। चित्र शटरस्टॉक।

यदि आपको अपनी सेहत का ख्याल रखना तो आपको वायु प्रदूषण से बचना चाहिए, लेकिन आप इससे बचने के लिए बहुत कुछ नहीं कर सकती हैं क्योंकि यह हवा में मौजूद है। इसलिए मास्क, पहनना न भूलें।

इतना ही नहीं, गुंजन आईवीएफ वर्ल्ड ग्रुप की संस्थापक, आईवीएफ और स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉ गुंजन गुप्ता गोविल के अनुसार प्रदूषण टेस्टोस्टेरोन में भी कमी कारण बन सकता है, जिसकी वजह से पुरुषों में स्पर्म काउंट कम हो सकता है।

अपनी पीरियड साइकल का ख्याल रखने के लिए क्या कर सकती हैं आप

स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि वजन बढ़ने, असंतुलित खराब खान-पान, शारीरिक व्यायाम न करना और खराब जीवनशैली के कारण भी पीरियड साइकल में बदलाव हो सकता है। इसलिए आप अपने खाने की आदतों को थोड़ा बदल सकती हैं और हेल्दी लाइफस्टाइल पर स्विच कर सकती हैं जैसे –

संतुलित भोजन लें और हरी संजियों का ज़्यादा सेवन करें जिससे आपको सभी प्रकार के पोषक तत्व मिलें।

रेगुलर एक्सरसाइज़ को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं और प्रयाप्त मात्रा में पानी पिएं।

इसके अलावा, यदि आपको लग रहा है कि आपके पीरियड्स अनियमित हैं तो डॉक्टर को तुरंत दिखाएं।

यह भी पढ़ें : Sex Education : बच्चा पूछता है सेक्स से जुड़े सवाल, तो जानिए कैसे देना है उनका जवाब

  • 111
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory