वैलनेस
स्टोर

Keto crotch : जानिए कीटो डाइट पर होने पर क्‍यों आती है आपकी वेजाइना से असहनीय गंध

Updated on: 23 December 2020, 12:02pm IST
इसमें कोई संदेह नहीं है कि कीटो डाइट वजन कम करने का एक शानदार तरीका है, लेकिन यह आप की योनि में समस्या भी पैदा कर सकता है। आइये जानते हैं योनि पर कीटो आहार के दुष्प्रभाव।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 84 Likes
जानिए क्या है कीटो क्रॉच और किस तरह ये आपकी योनि को प्रभावित करता है। चित्र- शटरस्टॉक।

क्या आप कीटो डाइट पर हैं? यदि आप हैं, तो हमारे पास आपके लिए एक प्रश्न है। क्या आपने हाल ही में अपनी योनि के बारे में कुछ अजीब महसूस किया है? नहीं, हम आपको इन सवालों के साथ भ्रमित नहीं कर रहे हैं, बल्कि हमारे पास साबित करने के लिए एक खास मुद्दा है। जाहिर है, एक कीटो आहार आपकी योनि को अजीब गन्ध दे सकता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें, इसे कीटो क्रॉच के रूप में जाना जाता है।

आप जो खाते हैं वह सिर्फ आपके वजन पर ही नहीं, बल्कि आपकी योनि पर भी प्रभाव डालता है। हम में से अधिकांश लोग अपने आहार के दुष्प्रभावों के बारे में परामर्श या शोध किए बिना विभिन्न आहारों पर अपना हाथ आजमाते हैं, और फिर परेशानी में पड़ जाते हैं। यही कारण है कि हमने आपके लिए इस समस्या के बारे में सब कुछ पता किया। आपके सवालों के जवाब और कीटो क्रॉच के बारे में सब कुछ जानने के लिए हम एक स्त्री रोग विशेषज्ञ के संपर्क में आए, जो कि कीटो आहार के सबसे आम दुष्प्रभावों पर प्रकाश डालती हैं।

क्या है कीटो क्रॉच (Keto crotch)

हां, यह 100 प्रतिशत सच है कि कीटो आहार खाने से आपकी योनि का पीएच गड़बड़ हो सकता है
कीटो आहार उच्च प्रोटीन और वसा, और कम कार्ब्स खाने पर आधारित है। वजन कम होने पर ये डाइट आपको बहुत अच्छी लग सकती है, लेकिन जब आप अपनी योनि के पीएच स्तर के बारे में बात करते हैं, तो यह बुरी तरह से विफल हो जाती है।

इस स्थिति में वेजाइना से असहनीय गंध आती है। चित्र: शटरस्टॉक
इस स्थिति में वेजाइना से असहनीय गंध आती है। चित्र: शटरस्टॉक

“कीटो आहार में आप जिस तरह का भोजन करते हैं, वह उच्च वसा और प्रोटीन युक्त होता है। यह सब हमारे लीवर और किडनी में मेटाबोलाइज हो जाता है। जब बहुत अधिक वसा और प्रोटीन पचता है, तब तक तो केटोसिस की प्रक्रिया हमारे शरीर में शुरू हो गयी होती है।

वसा आगे केटोन्स (एसीटैसेटेट, बीटा-हाइड्रॉक्सीब्यूटाइरेट, और एसीटोन) जैसे रसायनों में टूट जाता है। जब हम पेशाब को पास करते हैं, तो ये कीटोन्स हमारे शरीर से निकलते हैं और आपकी योनि के पीएच स्तर को बाधित करते हैं। वे योनि स्राव से भी मुक्त होते हैं“, बताती हैं अपोलो स्पेक्ट्रा अस्पताल, मुंबई में स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ मालिनि गडोया।

यह भी पढ़ें – अगर आपके मल्‍टीपल सेक्‍स पार्टनर हैं, तो एड्स के बारे में आपको जाननी चाहिए ये 8 बातें

कीटो क्रॉच के लक्षण

कीटो आहार के इस दुष्प्रभाव के बारे में बात करते हुए, वह कहती हैं, “एक स्वस्थ योनि थोड़ा एसिडिक होती है, और इसीलिए योनि का पीएच स्तर बनाए रखना महत्वपूर्ण होता है। अन्यथा बैक्टीरिया और यीस्ट के विकास का खतरा होता है। यही कारण है कि आप बैक्टीरियल वेजाइनाइटस या यीस्ट इन्फेक्शन जैसे संक्रमणों के लिए अधिक प्रवण हो जाते हैं।”

खुजली, सेक्स के दौरान दर्द, असामान्य डिस्चार्ज, बेचैनी और योनि से खराब गंध भी उन लोगों द्वारा अनुभव की जाती है जिन्हें कीटो क्रॉच की समस्या होती है।

सिर्फ इतना ही नहीं, बल्कि डॉ गडोया के अनुसार, कीटो आहार हमारी किडनी पर इतना अधिक भार डालता है कि इससे किडनी फेल भी हो सकती है। वास्तव में, गुर्दे की खराबी के कारण, लोगों को पेशाब करते समय भी जलन का सामना करना पड़ सकता है।

कीटो क्रॉच आपको कीटो रैश भी दे सकता है

अगर आपको कीटो क्रॉच है, तो आपको बहुत असुविधा और खुजली होती है। और लगातार इसे बिना हाथ धोए छूने या अपनी योनि को अंडरवियर से रगड़ने से भी दाने हो सकते हैं।

इससे वेजानइा में रैश भी हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
इससे वेजानइा में रैश भी हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके अलावा, आपकी यूरिन में इतना एसिड हो जाता है कि जब आप कीटो आहार पर होते हैं तो यह त्वचा में जलन भी पैदा कर सकता है।

यहां हैं 4 चीजें जो आप कीटो क्रॉच से छुटकारा पाने के लिए कर सकती हैं 

1. संतुलित आहार लें

“कीटो ही नहीं, बल्कि कई डाइट योनि के पीएच संतुलन को बिगाड़ सकती हैं। इसलिए बेहतर होगा कि आप अपनी योनि के पीएच स्तर को नियंत्रित करने के लिए संतुलित आहार अपनाएं। अपने आहार में स्वस्थ कार्ब्स को शामिल करने से कोई नुकसान नहीं होता है”, डॉ गाडोया बताती हैं।

2. अपने भोजन का पोर्शन नियंत्रित करें

हमें अपने आहार की मात्रा को लेकर सतर्क रहना होगा। सुनिश्चित करें कि आप छोटे पोर्शन खाते हैं, ताकि आपका वजन कम हो। अपनी योनि को खुश और स्वस्थ रखने के लिए सभी पोषक तत्वों को आहार में शामिल करें।

3. लैक्टैसिड या वैजाइनल वॉश का इस्तेमाल करें

“यह एक अल्पकालिक उपाय है जो आप तुरंत राहत पाने के लिए कर सकते हैं। पीएच स्तर को सामान्य करने के लिए आप लैक्टैसिड या किसी मेडिकेटेड वेजाइनल वॉश का उपयोग कर सकते हैं। लेकिन यह स्थाई समाधान नहीं है।

घर पर आरामदायक कपड़ों में काम करना आपकी इंटीमेट हेल्‍थ के लिए भी अच्‍छा है। चित्र: शटरस्‍टॉक

4. रोजाना व्यायाम करें

नियमित रूप से व्यायाम करना बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह आपके मेटाबॉलिज्म को स्वस्थ रखने में मदद करता है। और फिर आपको अपना वजन बनाए रखने के लिए इन फर्जी आहार जैसे कीटो आदि की आवश्यकता नहीं होगी।

तो अब जब आप कीटो आहार के दुष्प्रभावों को जानती हैं, तो उनसे दूर रहना और सही बातों का पालन करते रहना ही बेहतर है।

यह भी पढ़ें – क्यों महिलाएं पुरुषों की तुलना में कम ऑर्गेज़म का अनुभव करती हैं, बताता है साइंस

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।