एक्सपर्ट से जानिए क्या सेफ है पीरियड में क्रैंप्स को कम करने के लिए पेन किलर का सेवन

पीरियड्स हर लड़की के लिए मुश्किल का समय होता है। ऐसे में पीरियड क्रेम्प्स आपको और परेशान कर सकते हैं, लेकिन क्या दर्द रोकने के लिए दवाई लेना सही है? चलिये पता करते हैं।
अपना ख्याल खुद रखने पर पीरियड के दौरान होने वाली समस्या भी कम हो जाती है।चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 29 November 2022, 21:00 pm IST
ऐप खोलें

पीरियड्स के साथ हर महिला का लव हेट रिलेशनशिप होता है। पीरियड्स अपने साथ कई अलग – अलग तरह की समस्याएं लेकर आते हैं कभी मूड स्विंग तो कभी पीरियड क्रैंप्स। कुछ महिलाओं को पीरियड्स (periods) के दौरान इतना असहनीय दर्द होता है कि वे पूरे दिन कुछ नहीं कर पाती हैं। उनके लिए 3 दिनों तक दैनिक कार्य करना भारी पड़ जाता है। इसलिए कुछ महिलाएं दर्द को दूर करने के लिए पेन किलर्स का सहारा लेती हैं। मगर क्या यह सही है? पेन किलर लेना प्रभावी तो होता है, लेकिन इसके कोई साइड इफेक्ट हैं? या यह पूरी तरह से सेफ है, चलिये पता करते हैं।

तो क्या आप भी अपने पीरियड्स क्रैंप्स (period cramps) के दौरान दर्द कम करने के लिए पेन किलर खाती हैं? और आप इसी असमंजस में रहती हैं कि पता नहीं ये सेफ है या नहीं। तो बता दें, कि आपको बिल्कुल फिक्र करने की ज़रूरत नहीं है। क्योंकि सेलेब्रिटी न्यूट्रीशनिस्ट और फूड डार्जी के फाउंडर डॉ. सिद्धान्त भार्गव दे रहे हैं इस बारे में जानकारी।

हाल ही में उन्होनें अपने इंस्टाग्राम पर एक पोस्ट साझा किया जिसमें वे विस्तार से इस बारे में जानकारी दे रहे हैं कि आखिर पीरियड्स के दौरान पेन किलर लेना सही है या नहीं?

यहां देखें उनका वीडियो

आपनी पोस्ट के माध्यम से डॉ सिद्धान्त बता रहे हैं कि जिन पेन किलर्स का इस्तेमाल पीरियड पेन को दूर करने के लिए किया जाता है उनमें साइकलोपैम (cyclopsam) न होता है। यह पेन किलर्स में मौजूद होते हैं और दर्द कम करने में मदद करते हैं।

साइकलोपैम या अन्य पेन किलर किस तरह से कर सकती हैं आपकी मदद

डॉ सिद्धान्त के अनुसार साइकलोपैम दर्द को कम करने में काफी प्रभावित साबित हो सकती हैं। यह मसल्स को रिलैक्स करने की कोशिश करती है, जो मासपेशियों में अकड़न का कारण बनती हैं। यह पीरियड क्रेम्प्स में तुरंत राहता दिला सकती है और किसी लाइफ सेवर से कम नहीं है।

यह पेन किलर गर्भाशय को आराम पहुंचाती हैं और इसके बार – बार सिकुड़ने को कम करती हैं। ज्यादार दवाइयां जैसे एस्पिरिन, डाइक्लोफेनाक, इबुप्रोफेन – इसी तरह काम करती हैं, जिसकी वजह से आपको दर्द नहीं होता है।

तो क्या पेन किलर लेना सही है?

पीरियड में किसी भी तरह की पेन किलर आपका दर्द कम करने में मदद कर सकटी हैं खासकर, साइकलोपैम। मगर इसके कुछ साइड इफैक्ट हैं जैसे – उल्टी, दस्त, घबराहट, आदि। जो आपकी परेशानी कारण बन सकते हैं।

मगर, डॉ सिद्धान्त बताते हैं कि एक बार आपको साइकलोपैम लेने की आदत लग जाए तो इसके साइड इफैक्ट फिर आपको परेशान नहीं करते हैं, क्योंकि आपकी बॉडी इसकी आदी हो जाती है। इसलिए पीरियड में आप बेफिक्र होकर साइकलोपैम वाली पेन किलर ले सकती हैं।

पीरियड पेन को कम करने में यह उपाय कर सकता है आपकी मदद

अपनी पीठ या पेट पर हीट का उपयोग करने से आपको अपने दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। हीट ऐंठन से मांसपेशियों को आराम दे सकती है। इसलिए हीटिंग पैड का उपयोग करके या हॉट शवर लेकर भी आप अपने पीरियड क्रैंप्स को कम कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें : सोने से पहले पैंटी उतार देना है एक हेल्दी आइडिया,हम बता रहे हैं इसके 5 फायदे

लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story