Erogenous zones: प्लेफुल सेक्स सेशन के लिए शरीर के इन 7 उत्तेजक हिस्सों को करें फोर प्ले में शामिल

समय लगाकर पूरी इन्वॉल्वमेंट के साथ किया गया फोर प्ले न केवल दोनों पार्टनर्स को ऑर्गेज़्म तक पहुंचाता है, बल्कि इसका फायदे आपके मूड और रिश्ते को भी मिलता है।
Yaha jaane kuch khas
यहां जानें कुछ खास सेक्सुअल टिप्स के बारे में। चित्र : एडॉबीस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 28 Jan 2024, 09:15 pm IST
  • 125

इंटिमेसी और प्लेजर दो ऐसी चीजें हैं, जो किसी भी रिश्ते में बेहद महत्वपूर्ण होती है। वहीं यह कहीं न कहीं आपके मेंटल और फिजिकल हेल्थ के लिए भी जरूरी होती है। कई बार हमें अपने पार्टनर का प्लेजर पॉइंट नहीं पता होता और हम उन्हें पूरी तरह से सेटिस्फाई नहीं कर पाते या उन्हें एक्चुअल प्लेजर नहीं मिल पाता। ऐसे में सभी को एरोजेनस जोन (erogenous zone) के बारे में मालूम होना चाहिए।

कुछ एरोजेनस जोन के बारे में तो हम सभी को मालूम होता है, परंतु कई ऐसे पॉइंट्स भी हैं, जो अंडररेटेड है और हमें उनकी जानकारी नहीं होती। आज हम ऐसे ही कुछ वासनोत्तेजक क्षेत्र (erogenous zones) के बारे में बात करेंगे। चलिए जानते हैं इनके बारे में अधिक विस्तार से।

यहां हैं कुछ खास एरोजेनस जोन

1. थाईज के अंदर का हिस्सा (inner thighs)

इनर थाईज यानी की जांघ के अंदर का हिस्सा पार्टनर को सेड्यूस करने में आपकी मदद कर सकता है। यह बेहद सॉफ्ट होता है, और आपकी इंटिमेट एरिया के बिल्कुल करीब होता है। इस हिस्से को टच करने से व्यक्ति आसानी से उत्तेजित हो सकता है। यह फीमेल और मेल दोनों का एरोजेनस जोन है। इसे बिल्कुल हल्के हाथों से टच करना होता है। यदि आप मास्टरबेट कर रही हैं, तो आप इसे खुद को उत्तेजित करने के लिए इस्तेमाल कर सकती हैं। पार्टनर के साथ इंटीमेट मूमेंट शेयर करते हुए उनसे इसे टच करने की मांग कर सकती हैं।

inner thighs
इनर थाई से अपने पार्टनर को करें सिड्यूस। चित्र : शटरस्टॉक

2. नाभि और पेट का निचला हिस्सा (navel and lower abdomen)

हालांकि, ये आपकी इंटिमेट एरिया के उतने क्लोज नहीं होते, परंतु फिर भी बहुत पास होते हैं। इस प्रकार इन्हें टच करने से उत्तेजित होने में मदद मिलती है। खास कर यदि आप पार्टनर के साथ सेक्सुअल एक्टिविटी में इंवॉल्व हो रही हैं, तो जीव और फिंगर टिप्स की मदद से नाभि और पेट के निचले हिस्से पर सर्कल बनाएं, इससे गुदगुदी महसूस होती है और एक्साइटमेंट बढ़ती है। वहीं इन स्पॉट्स पर टेंपरेचर प्ले जैसे कि आइस रब करने से भी उत्तेजना बढ़ती है।

3. आर्मपिट और आर्म्स के अंदर का हिस्सा (armpit)

आपको लग रहा होगा आर्मपिट कैसे स्टिम्युलेट कर सकते हैं, आपको बताएं कि यह एक पावरफुल एरोजेनस जोन हो सकता है। पार्टनर को बताएं की वे अपने हाथ को पीछे की तरफ से लागे ले जाते हुए, आपके आर्मपिट के नीचे के हिस्से को टच करें। इससे बॉडी में गिगल होता है और बॉडी में एक सेंसेशन रिलीज होता है जिससे कि उत्तेजित होने में मदद मिलती है।

यह भी पढ़ें: ओव्यूलेशन ही नहीं, छुट्टियों में भी ज्यादा यौनेच्छा का अनुभव करती हैं महिलाएं, जानिए क्या कह रहे हैं शोध

4. हथेलियां और फिंगर टिप्स (palm and finger tips)

फिंगर टिप बॉडी के एक बेहद संवेदनशील अंगों में से एक है। वहीं आपकी हथेलियां भी उनसे ज्यादा दूर नहीं होती। यह मेल और फीमेल दोनों के एरोजेनस जोन होते हैं। यदि आप अपने पार्टनर को सेड्यूस करना चाहती हैं, तो उनकी हथेलियों पर अपनी उंगली से टिकल करें। इसके साथ आई कॉन्टेक्ट मेंटेनेंस रखें, इससे बॉडी में सेंसेशन क्रिएट होता है और आपके पार्टनर को उत्तेजित होने में मदद मिलेगी।

sex ko adhik mazwdar bna sakta hai
सेक्स करने के लिए इन बातों का रखें ध्यान। चित्र : अडोबी स्टॉक

5. कूल्हे (buttocks)

सेक्सुअल एक्टिविटी के दौरान आमतौर पर लोग बटॉक्स को जरूर इंवॉल्व करते हैं। इसे मसाज करना, दबाने और स्पैंक करने से बॉडी में सेंसेशन जनरेट होता है, जिससे की उत्तेजना बढ़ती है। फीमेल के बटॉक्स के बीच के हिस्से को टच किया जाए, तो उन्हें अधिक उत्तेजना महसूस होती है।

6. स्क्रोटम और टेस्टीकल्स (scrotum and testicles)

यदि फीमेल अपने पार्टनर को सेड्यूस करने के लिए उनके ट्रिगर प्वाइंट्स सर्च कर रही हैं, तो स्क्रोटम और टेस्टीकल्स एक बेहतरीन ऑप्शन है। यह दोनों बेहद सेंसिटिव होते है, इनमें कई नर्वस होते है, जिन्हें टच करने से बॉडी बेहद जल्दी उत्तेजित हो जाती है। ब्लो जॉब और हैंड जॉब देते हुए अपने पार्टनर के स्क्रोटम और टेस्टिकल को मसाज करें। इससे उन्हें बेहतर प्लेजर अचीव करने में मदद मिलती है।

7. फोरस्किन (foreskin)

फोरस्किन कई नर्वस की एंडिंग है जिन्हें स्टिम्युलेट करने से उन पर प्रेशर पड़ता है और पेनिस को पूरी तरह से इरेक्ट होने में मदद मिलती है। त्वचा की ये पतली लेयर अलग-अलग प्रकार के सेंसेशन क्रिएट करती है, जिससे कि मेल्स को आसानी से सिड्यूस किया जा सकता है। ब्लो जॉब और हैंड जॉब के दौरान फोरस्किन को जरूर इंवॉल्व करें।

यह भी पढ़ें: जानें क्या होता है जब आप बार-बार लेती हैं पीरियड्स डिले पिल्स

  • 125
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख