यदि सेक्स अब आपके लिए ‘मजेदार’ नहीं रहा, तो यह हो सकता है यूट्रस प्रोलैप्स का संकेत

Published on: 19 April 2022, 20:18 pm IST

बच्चे होने के बाद सेक्स इतना मजेदार नहीं रह जाता है। ये बात आपने कई महिलाओं से सुनी होगी, लेकिन क्या आप इसके पीछे की वजह जानती हैं? यह यूटरस प्रोलैप्स के कारण हो सकता है। अच्छी बात यह है कि आप इसे सुधार सकती हैं।

uterus prolapse
घबराएं नहीं, इसका उपचार भी संभव है। चित्र: शटरस्‍टॉक।

सेक्स केवल आनंद के बारे में नहीं है, बल्कि यह आपको ठीक भी कर सकता है। यह तनाव को दूर रख सकता है और आपके मूड को भी बूस्ट कर सकता है। मगर, यदि आप इसका ज्यादा आनंद नहीं ले रही हैं, तो यह एक बड़ी चिंता का विषय है। हां, इसके कई कारण हो सकते हैं लो सेक्स ड्राइव, थकान, आदि। मगर एक और कारण है जिससे आप भूलसकती – और वह है यूटरस प्रोलैप्स का यानी गर्भाशय के बढ़ने का।

यह शब्द आपके लिए बिल्कुल नया हो सकता है और इसलिए हम चाहते हैं कि आप इसके बारे में सब कुछ जान लें। क्योंकि इसका आपके शरीर पर बड़ा प्रभाव पड़ता है। तो चलिए इस समस्या को गंभीरता से समझते हैं।

तो क्या है यूटरस प्रोलैप्स?

मदरहुड हॉस्पिटल, पुणे की सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉ स्वाति गायकवाड़, के अनुसार, जब पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं, तो गर्भाशय प्रोलैप्स हो जाता है। इसलिए, गर्भाशय नीचे की ओर खिसक आता है या योनि से बाहर निकल जाता है।

डॉ गायकवाड़ ने चेतावनी दी “क्या आप जानती हैं कि यह समस्या सभी आयु वर्ग की महिलाओं में देखी जा सकती है। लेकिन, यह आमतौर पर पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं में पाया जाता है जिनकी एक या एक से अधिक नैचुरल डिलीवरी हुई हो। यदि गर्भाशय आगे बढ़ा है, तो उसे किसी उपचार की आवश्यकता नहीं होगी। लेकिन अगर यह आपको असहज करता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर से बात करनी चाहिए।”

गर्भाशय के आगे बढ़ने के कुछ लक्षण और कारण जिन्हें आपको जानना आवश्यक है

जानिए इसके लक्षण

चलते समय बेचैनी
दर्दनाक संभोग
गर्भाशय ऊतक जो आपकी योनि से बाहर निकल रहा है
पीठ के निचले हिस्से में दर्द
श्रोणि में दबाव
मूत्र संबंधी समस्याएं जैसे मूत्र रिसाव (असंयम)
अनियमित मल त्याग

janiye kya hai utrine prolapse
पेशाब न कंट्रोल होना। चित्र- शटरस्टॉक।

इन कारणों को न करें नजरअंदाज

गर्भावस्था
पेल्विक सर्जरी का विकल्प
कठिन लेबर पेन,
एक बड़े बच्चे की डिलीवरी,
अधिक वजन या मोटा होना
रजोनिवृत्ति के बाद एस्ट्रोजन का स्तर कम होना,
कब्ज़,
पारिवारिक इतिहास होना,
धूम्रपान,
खांसी या ब्रोंकाइटिस,
भारी भार उठाने के कारण,
योनि प्रसव,
बढ़ती उम्र के साथ पैल्विक मांसपेशियों में कमजोरी।

यहां बताया गया है कि कैसे बढ़ा हुआ गर्भाशय आपके यौन जीवन के लिए एक समस्या है

दुर्भाग्य से, आगे को बढ़ा हुआ गर्भाशय आपके सुखी यौन जीवन पर प्रभाव डालता है। हम आपको बताएंगे कि कैसे! प्रोलैप्सड गर्भाशय जैसी चिकित्सीय स्थितियां आपकी सेक्स लाइफ के रास्ते में आ सकती हैं। इससे मामला बिगड़ सकता है। यदि आप पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स से जूझ रही है, तो सेक्स से भय, तनाव, चिंता, अवसाद, घबराहट और यहां तक ​​कि निराशा भी हो सकती है। रिसाव, गंध या दर्द का डर, अंतरंगता को खत्म कर सकता है और जब संभोग करने की बात आती है तो आपको अनकम्फर्टेबल महसूस करा सकता है। इसकी वजह से आपके साथी के साथ आपके संबंध तनावपूर्ण होंगे, और आप अंततः शर्मिंदा और अकेलेपन का शिकार हो सकती हैं।

आप संभोग करने से बचेंगी क्योंकि आपको लग सकता है कि आपको आंका जाएगा।

janiye kya hai uterus prolapse
दर्द को सहें नहीं। चित्र: शटरस्टॉक

आप एक बढ़े हुए गर्भाशय के साथ अपने यौन जीवन को कैसे बेहतर बना सकती हैं?

अलग-अलग सेक्स पोजीशन ट्राई करना मददगार होगा। अपने पार्टनर के साथ करवट लेकर लेट जाएं ताकि लिंग अंदर तक न घुसे। संभोग के दौरान अपनी पैल्विक मांसपेशियों को आराम से रखें। यदि प्रोलैप्सड मूत्र असंयम के कारण है, तो आप सेक्स के दौरान लीक कर सकती हैं। किसी भी शर्मिंदगी से बचने के लिए स्नान या शॉवर में सेक्स करने की कोशिश करें। प्रोलैप्स योनि की दीवारों के पतले होने से जुड़ा हुआ है, इसलिए अच्छा स्नेहन व्यक्ति को आराम और उत्तेजना बढ़ाने में मदद करता है।

डॉ गायकवाड़ कहती हैं – “यदि आपको यूटरस प्रोलैप्स है, तो संभोग गर्भाशय ग्रीवा को योनि के भीतर धक्का देगा। कई महिलाएं हल्के या मध्यम योनि के आगे बढ़ने के बाद भी अपना सामान्य यौन जीवन जारी रख सकती हैं।”

कब आपको डॉक्टर को दिखाने की आवश्यकता है

पेल्विक दर्द और ऊपर बताए गए संकेत अलार्म हैं। बस समय बर्बाद न करें और डॉक्टर से मिलें।

अगर हम इलाज के बारे में बात करते हैं, तो आपके पास दोनों विकल्प हैं – गर्भाशय को हटाने के लिए दवा या सर्जरी (सर्जरी बहुत गंभीर मामलों में की जाती है)।

गायकवाड़ का सुझाव है, “आपको जीवनशैली में कुछ बदलावों का पालन करना होगा जैसे कि कीगल एक्सरसाइज़ करना, सही वजन बनाए रखना, कब्ज को रोकने के लिए फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ खाना, धूम्रपान छोड़ना और भारी वजन उठाने से बचना।”

बात यह है कि जाने-अनजाने आपको कई स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं, लेकिन आपका कर्तव्य है कि आप थोड़ा चौकस रहें।

यह भी पढ़ें : डियर गर्ल्स, अनियमित पीरियड्स कहीं फैटी लिवर का संकेत तो नहीं, जानिए क्या है पीसीओएस और लिवर डिजीज का कनैक्शन

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें