एक यूरोलॉजिस्‍ट बता रहे हैं कि क्‍यों महिलाओं के लिए जरूरी है इरेक्‍टाइल डिस्‍फंकशन के बारे में जानना

Published on: 15 March 2021, 17:31 pm IST

इरेक्टाइल डिसफंक्शन पुरुषों को शारीरिक रूप से पीड़ित कर सकता है, लेकिन यह उनके पार्टनर्स के लिए एक तरह का भावनात्मक आघात हो सकता है।

ED Koi hansee kee baat nahin hai
ईडी कोई हंसी की बात नहीं है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इरेक्टाइल डिसफंक्शन किसी को भी हो सकता है। उपचार के उपलब्ध विकल्पों के बावजूद, पुरुष इसे संबोधित करने से कतराते हैं – क्योंकि उनमें से अधिकांश इसे चिकित्सा विकार नहीं मानते हैं। बल्कि, वे इसे यौन अक्षमता के रूप में देखते हैं। यह आमतौर पर उनके व्यक्तिगत जीवन में संतुलन और सद्भाव की गड़बड़ी का कारण बनता है। ये न केवल उन्हें, बल्कि उनके पार्टनर को भी प्रभावित करता है।

विशेषज्ञ इस जीवन शैली जनित बीमारी के उच्च प्रसार के बारे में तथ्यों को प्रकट करते हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि महिलाएं एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती हैं कि उनके पार्टनर को सही समय पर और सही उपचार मिले। पहला कदम अपने साथी के साथ खुली बातचीत करना और चिकित्सीय सलाह लेना है।

कभी-कभी, इरेक्टाइल डिसफंक्शन वाले पुरुष स्थिति को स्वीकार करने से कतराते हैं और पूरी तरह से अंतरंगता से बचना शुरू कर देते हैं। जिससे निराशा हो सकती है। यह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि इरेक्टाइल डिसफंक्शन का इलाज आसानी से किया जा सकता है।

इरेक्टाइल डिस्फंक्शन या सेक्सुअल अराउसल डिसॉर्डर है तो आपके लिए सही डॉक्टर सेक्सोलॉजिस्ट है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इरेक्टाइल डिसफंक्शन का निदान करने से पहले, महिलाओं के लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि ये इसलिए नहीं होता है क्योंकि पुरुष को सेक्स करने में कोई दिलचस्पी नहीं है या असमर्थ है- बल्कि मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, उच्च रक्तचाप और इस्केमिक हृदय रोग और अवसाद जैसे चिकित्सा कारण हैं जो इरेक्टाइल डिसफंक्शन को जन्म दे सकते हैं।

इसलिए, महिलाओं को लक्षणों और उपचार विकल्पों के बारे में अपने पार्टनर से बात करनी चाहिए। ताकि इस स्थिति को एक साथ मैनेज करने पर ध्यान केंद्रित किया जा सके।”

महिलाओं को अपने पार्टनर के इरेक्टाइल डिसफंक्शन के बारे में ये जानकारी होनी चाहिए:

1. इरेक्टाइल डिसफंक्शन के पीछे स्वास्थ्य कारण हैं

इरेक्शन शारीरिक और मानसिक उत्तेजना का एक संयोजन है और यह शारीरिक स्वास्थ्य सहित कई कारणों से प्रभावित होता है। उदाहरण के लिए, हृदय संबंधी समस्याएं रक्त वाहिकाओं में शिथिलता का कारण बन सकती हैं।

डायबिटीज भी इसके लिए जिम्‍मेदार हो सकती है। चित्र: शटरस्टॉक
डायबिटीज भी इसके लिए जिम्‍मेदार हो सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

इसलिए, उच्च रक्तचाप और मधुमेह लिंग में रक्त के प्रवाह को बाधित कर सकते हैं। अतः एंडोक्राइन तंत्र में परिवर्तन, जैसे कि उम्र, जेनेटिक्स या मोटापे के कारण टेस्टोस्टेरोन का उत्पादन कम होना भी अहम भूमिका निभा सकता है।

2. इरेक्टाइल डिसफंक्शन पुरुषों में बहुत ज्यादा आम है

शोध के अनुसार, 40 वर्ष से कम आयु के लगभग 30% पुरुष और 20 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को इरेक्शन होने/ बनाए रखने में कठिनाइयों का अनुभव होता है। जब पुरुष अपने पार्टनर के साथ इस पर चर्चा करने से बचते हैं, तो स्थिति अनियंत्रित हो जाती है। जिससे कई अन्य मनोवैज्ञानिक और शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं होती हैं।

3. इरेक्टाइल डिसफंक्शन का उपचार है

ज्यादातर मामलों में, उपचार आसानी से उपलब्ध और सफल दोनों होता है। इसका इलाज दवाओं के साथ या पेनाइल प्रोस्थेसिस के साथ किया जा सकता है। उपचार स्थिति की गंभीरता के आधार पर भिन्न होता है।

एरेक्‍टाइल डिस्‍फंक्‍शन को दूर करने में आहार आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक
एरेक्‍टाइल डिस्‍फंक्‍शन को दूर करने में आहार आपके लिए मददगार साबित हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टाॅॅक

4. शिक्षित बनें

इरेक्टाइल डिसफंक्शन के कारणों और उपलब्ध उपचार के विकल्पों को जानने से आप कुछ ऐसा चुन सकती हैं जो आप दोनों के लिए सबसे अच्छा काम करता है। महिलाओं को डॉक्टर की नियुक्तियों का हिस्सा होना चाहिए, सवाल पूछना चाहिए और उपचार प्रक्रिया में सक्रिय भूमिका निभानी चाहिए।

5. जान लें कि इसका कारण आप नहीं हैं

महिलाओं को लग सकता है कि वे समस्या का हिस्सा हैं और इसे वे व्यक्तिगत रूप से लेने लगती हैं। ऐसा शायद ही कभी होता है। ज्यादातर मामलों में, इरेक्टाइल डिसफंक्शन का एक शारीरिक या भावनात्मक कारण होता है, जिसकी वजह आप बिलकुल नहीं हैं।

इरेक्टाइल डिसफंक्शन एक यौन मुद्दा है, जो एक रिश्ते में पार्टनर को प्रभावित करता है। इसे मैनेज करने का सबसे अच्छा तरीका एक साथ समाधान पर काम करना है। स्वतंत्र रूप से विचार विमर्श एक अच्छे यौन संबंध की नींव है।

यह भी पढ़ें – आपके सेक्स टॉयज भी बन सकते हैं योनि संक्रमण का कारण, जानिए उन्हें कैसे साफ करना है 

Dr Sanjay Pandey Dr Sanjay Pandey

Dr Sanjay Pandey is the head of Uro-Andrology, Kokilaben Dhirubhai Ambani Hospital, Mumbai

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें