यहां हम बता रहे हैं कि कैसे पीरियड क्रैम्प्स में राहत पाने के लिए आप खुद कर सकती हैं एक्‍युप्रेशर

एक्युप्रेशर ऐसा विज्ञान है जिसकी सार्थकता समय के साथ बढ़ती ही गई है। एक्युप्रेशर के अनेक फायदों में से एक पीरियड्स के दर्द से निजात दिलाना भी शामिल है। हम बताते हैं कैसे आप खुद कर सकती हैं एक्युप्रेशर।
एक्‍युप्रेशर एक प्राचीन चिकित्‍सा पद्धति है, जो दर्द से छुटकारा दिलाती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated: 10 Dec 2020, 02:16 pm IST
  • 89

लेडीज, हम जानते हैं हर महीने पीरियड्स ढेर सारे दर्द और क्रैम्प्स के साथ आते हैं और हर बार दर्द दूर करने के लिए आपको नया समाधान खोजना पड़ता है।

अगर आप भी पेनकिलर, गर्म सिंकाई की बोतल, अदरक का पानी और गुड़ जैसे सभी नुस्खे आजमा चुकी हैं, तो आप जानती होंगी, घरेलू नुस्खे हर बार काम नहीं करते और दवा कोई परमानेंट समाधान नहीं है। हम आपको जो उपाय बताने जा रहे हैं उसके न तो कोई साइड इफेक्ट हैं न ही अधिक मेहनत की जरूरत है। यह उपाय जादू की तरह काम करता है। वह उपाय है एक्युप्रेशर।

एक्युप्रेशर एक प्राचीन और बहुत कारगर चीनी चिकित्सा विज्ञान है। एक्युप्रेशर में शरीर के कुछ कोमल भागों पर दबाव बनाया जाता है जिससे दर्द खत्म हो जाता है और शरीर को फायदा होता है। अक्सर डॉक्टर महिलाओं को सेल्फ एक्युप्रेशर की सलाह देते हैं क्योंकि यह पीरियड्स के दर्द से राहत देने में कारगर है।

पीरियड्स में सबसे ज्‍यादा मुश्किल होता है दर्द को बर्दाश्‍त करना। चित्र: शटरस्‍टॉक

लेकिन एक्युप्रेशर पीरियड्स के दर्द से छुटकारा कैसे देता है?

डिस्मेंनोरिया यानी पीरियड्स के दर्द महावारी का सबसे प्रमुख लक्षण है, और हर महिला इसे अनुभव करती है। फर्टिलिटी एक्सपर्ट और सीड्स ऑफ इनोसेंस की फाउंडर डॉ गौरी अग्रवाल के अनुसार 50 से 90 प्रतिशत महिलाएं पीरियड्स के दौरान असहनीय दर्द से गुजरती हैं। कई महिलाओं को दर्द के कारण क्रैम्प्स, पीठ दर्द और दस्त भी हो जाते हैं। थकान और दर्द के कारण कोई भी काम करना मुश्किल होता है।

डॉ अग्रवाल बताती हैं, “सेल्फ एक्युप्रेशर पीरियड्स में बहुत फायदेमंद होता है।”

सेल्फ एक्युप्रेशर करें और तुरन्त फर्क देखें

वह बताती हैं,”एक्युप्रेशर पीरियड्स का दर्द और अन्य पीड़ा 2 घण्टे तक कम कर सकता है।”

हाथ में होते हैं दो प्रेशर पॉइंट्स-
आपके अंगूठे के बेस के बीच
तर्जनी उंगली के नीचे

आपको और कुछ नहीं करना बस इन दोनों प्रेशर पॉइंट्स को एक-एक करके दबाना है। पहले एक पॉइंट को दबाएं, थोड़ी देर होल्ड करें और फिर दूसरा पॉइंट दबाएं। दोनों पॉइंट्स को बारी-बारी 5 मिनट तक दबाएं और फिर दूसरे हाथ के प्रेशर पॉइंट्स पर जाएं।

इन 5 मिनट में ही आपको अपने क्रैम्प्स में फर्क महसूस होगा। इस एक्युप्रेशर का असर कम से कम 2 घण्टे तक रहता है। अगर आपको दोबारा दर्द होता है, तो आप फिर ये एक्युप्रेशर कर सकती हैं।

सबसे अच्छी बात है कि इसके कोई साइड इफेक्ट्स नहीं हैं और न ही इसका असर समय के साथ कम होता है। वैज्ञानिक रूप से सिद्ध यह तकनीक आपको पीरियड्स के दर्द से मिनटों में छुटकारा दे सकती है।

  • 89
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख