और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जानिए कैसे वर्क फ्रॉम होम कर रहा है आपके पीरियड्स को प्रभावित

Published on:20 May 2021, 19:30pm IST
भले ही यह स्थिति आपको मौजूदा हालात में ज्‍यादा सुविधाजनक लग रही हो। पर इसने आपकी मेंटल हेल्‍थ के साथ-साथ आपके पीरियड्स को भी प्रभावित किया है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 96 Likes
Period clot hai chinta ka kaaran
पीरियड्स का ज्यादा फ्लो चिंता का कारण बन सकता है। चित्र: शटरस्टॉक

कोविड-19 ने हमारे जीवन के हर पहलू को प्रभावित किया है। 2020 के बाद से, हमने सामाजिक दूरी को सुनिश्चित करने के लिए और इस वायरस के संचार को रोकने के लिए, दुनिया में ज्यादातर देशों को लॉकडाउन करते देखा है।

लॉकडाउन ने लाखों लोगों को अपने घरों में काम करने के लिए मजबूर कर दिया है। सोशल डिस्टेंसिग भी बहुत जरूरी है जबकि वर्क फ्रॉम होम (डब्ल्यूएफएच) के कई फायदे हैं। अपने परिवार वालों के साथ समय बिताने से लेकर घर से ऑफिस की यात्रा करने से बचने तक। हांलाकि इस माहौल में सभी देशों के कारोबारियों को धक्का लगा है। जिससे पूरा विश्व उबरने की कोशिश कर रहा है।

महिलाओं के स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ रहा है

कामकाजी महिलाएं जो अपने काम के साथ-साथ अपने घर को संभालती हैं, उन महिलाओं के लिए, डब्ल्यूएचओ ने ये बात मेंशन की है, क्योंकि लॉकडाउन के कारण इस समय लोग बाहर जाने का प्लान नहीं बना सकते है। इसलिए कंपनी लोगों से ज्यादा काम ले रही हैं, जिस कारण महिलाओं की मेंटल हेल्थ पर बुरा असर पड़ रहा है। कामकाजी महिलाओं को घर के काम और अपने परिवार को भी संभालना पड़ता है।

वर्किंग गर्ल्स के लिए भी वर्क फ्रॉम होम काफी खतरनाक हो गया है। उन्हें भले ही अपना परिवार नहीं संभालना होता है, पर कोई भी अब बाहर नहीं जा सकता है और ये जरूरी नहीं है कि हर किसी के पास एक बगीचा या छत हो टहलने के लिए या शारीरिक व्यायाम करने के लिए।

छोटी-छोटी चीजें भी करती हैं आपके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित

हम सभी जानते हैं कि छोटी-छोटी चीजें भी महिलाओं की पीरियड्स साइकिल को बदल सकती हैं। अधिकांश महिलाओं को लगता है कि पीरियड्स को गर्भाशय चक्र नियंत्रित करता है, लेकिन ये आपकी गलती है। आपके पीरियड्स साइकिल को आपका मस्तिष्क नियंत्रित करता है। बहुत से लोग अभी भी नहीं जानते हैं कि तनाव, चिंता, भोजन, नींद के पैटर्न, व्यायाम आदि जैसी चीजें आपके पीरियड्स को प्रभावित करती हैं।

इसके अलावा, लोग अब घर से काम कर रहे हैं। अब कोई जल्दी नहीं उठता है, क्योंकि अब हमको ऑफिस के लिए तैयार नहीं होना पड़ता है। इसलिए घर में रहकर लोग अब पहले से ज्यादा सुस्त हो गए हैं। जिस कारण आपकी दिनचर्या प्रभावित हो रही है आंकड़े कहते हैं कि लगभग 25-30% महिलाओं के मासिक धर्म चक्र प्रभावित हुए है।

पीरीयड्स के दौरान अपना ध्यान रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक
पीरीयड्स के दौरान अपना ध्यान रखें। चित्र: शटरस्‍टॉक

इन चीजों की अनदेखी न करें

  • पीरियड्स का टाइम पर न होना बढ़े हुए तनाव/चिंता या किसी के जीवन में बड़े बदलाव का संकेत हो सकता है। अगर पीरियड्स आपको समय पर नहीं हो रहे हैं और आपको गुस्सा, चिड़चिड़ापन और रातों को नींद नहीं आ रही है, तो ये पेरिमेनोपॉज के संकेत हो सकते हैं।
  • इसके अलावा अनियमित/ अधिक या बार-बार मासिक धर्म आना पीसीओडी/पीसीओएस का संकेत हो सकता है। जितनी जल्दी हो सके अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ से संपर्क करना चाहिए।

COVID-19 के दौरान गाइनी समस्याओं पर ध्यान दें

  • कोविड के कारण आज सभी को आर्थिक हानि और सामाजिक अलगाव के कारण बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। गर्भाशय फाइब्रॉएड, एडिनोमायोसिस या एंडोमेट्रियोसिस जैसी स्त्री रोग से पीड़ित महिलाओं को अपने मानसिक और शारीरिक संतुलन को बनाए रखने के लिए खुद पर ध्यान देना होगा।
  • इन समस्याओं के कारण तनाव शारीरिक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है और फाइब्रॉएड के लक्षणों, योनि से रक्तस्राव, या दर्दनाक अवधियों को भी बढ़ा भी सकते हैं। आप इन समस्याओं की
  • अनदेखा न करें, एक स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य लें जो आपकी समस्याएं सुलझाएं।

स्वस्थ रहने के लिए आप ये टिप्स फॉलो कर सकती हैं

  • ध्यान या मेडिटेशन का अभ्यास करें
  • निर्देशित ध्यान वीडियो ऑनलाइन या यूट्यूब पर मिल सकते हैं। अच्छी नींद लेने का अभ्यास करें जो आपके शरीर को देने में मदद करेगी।
  • साधारण घरेलू काम और योग या एरोबिक व्यायाम जैसे इनडोर कसरत अपने दैनिक जीवन में करें।
  • हाइड्रेटेड रहें और दिन में पर्याप्त मात्रा में पानी लें
  • और शराब से बचने की कोशिश करें।

इसे भी पढ़ें-पीरियड्स और एक्सरसाइज : अगर आपके मन में भी है इससे जुड़ा कोई सवाल, तो हम बता रहे हैं समाधान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।