क्या आप अपना सैनिटरी पैड सही तरीके से डंप करती हैं? यहां जानिए सही तरीका

अपने इस्तेमाल किये हुए सेनिटरी पैड को सही तरीके से डंप न करना कई स्वास्थ्य समस्याओं को बुलावा दे सकता है। साथ ही यह पर्यावरण के लिए भी नुकसानदेह है। 
सेनेटरी पेड को लापरवाही से कहीं भी फेंकना पड़ सकता है भारी, चित्र: शटरस्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Updated on: 15 June 2022, 09:09 am IST
ऐप खोलें

हाल ही में हमने विश्व मासिक धर्म स्वच्छता दिवस (Menstrual hygiene day) और विश्व पर्यावरण दिवस (World environment day) मनाया है। रियूजेबल क्लॉथ को यूज करने से लेकर डिस्पोजेबल सैनिटरी नैपकिन, टैम्पोन और मेंस्ट्रुअल कप तक महिलाओं को सुरक्षित और स्वच्छ मेंस्ट्रुअल प्रैक्टिसिस अपनाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। ऐसी ही एक अच्छी पीरियड प्रैक्टिस है इस्तेमाल किए गए सैनिटरी पैड को सावधानी से फेंकना। 

मेंस्ट्रुअल हेल्थ एक ऐसी चीज है, जिसका महिलाओं को हमेशा ध्यान रखना चाहिए। सैनिटरी पैड और टैम्पोन से हुए वेस्ट का डिस्पोजल पर्सनल और कम्युनिटी दोनों स्तरों पर एक बड़ा मुद्दा है। लेकिन, मेंस्ट्रुअल प्रोडक्टस के सही डिस्पोजल से इसके जरिए आने वाली समस्याओं को कंट्रोल किया जा सकता है।

हेल्थ शॉट्स ने सूरत के लव एन केयर हॉस्पिटल की एमएस प्रसूति और आईवीएफ विशेषज्ञ डॉ यामिनी पटेल से बात की, जिन्होंने सैनिटरी पैड को सही तरीके से फेंकने के टिप्स दिए।

डॉ पटेल कहती हैं, “सेफ डिस्पोजल तकनीक का अभ्यास करना हमारे स्वास्थ्य और स्वच्छता के साथ-साथ हमारे इकोसिस्टम के लिए भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि इनमें से अधिकतर प्रोडक्ट्स गैर-पुनर्नवीनीकरण (non-recyclable) होते हैं। दुख की बात है कि भारत में अभी भी हमारे आसपास स्वच्छ और सुरक्षित सार्वजनिक शौचालयों की कमी है और कई बार तो कूड़ेदान तक नहीं होते। 

कई बार महिलाएं इस्तेमाल किए गए प्रोडक्ट्स को शौचालय के एक कोने में फेंक देती हैं या उन्हें फ्लश कर देती हैं। जिससे पूरा ड्रेनेज सिस्टम ही बंद हो जाता है। लेकिन इसे रोकने की जरूरत है।”

डॉ पटेल कहती हैं, हमें यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि कूड़ेदान ढके हुए हों। क्योंकि पैड से निकलने वाले खून से हानिकारक बैक्टीरिया पैदा हो सकता है। ये पैथोजन्स खतरनाक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण बन सकते हैं। यदि कोई उनके संपर्क में आता है या वे वॉटर बॉडीज को प्रदूषित करती हैं। बाथरूम की दुर्गंध असुविधा का कारण बन सकती है और अगर इसे रोज नहीं हटाया गया, तो ये संक्रमण और वायु प्रदूषण का कारण भी बन सकते हैं।

सेनेटरी नैपकीन को सही तरीके से फेंकना भी मेंसट्रूअल हाइजीन का हिस्सा है, चित्र: शटरस्टॉक

 

 इस्तेमाल किए गए सैनिटरी नैपकिन को कैसे डिस्पोज करें 

“घर या कार्यस्थल पर डिस्पोजल करने का सही तरीका है कि इस्तेमाल किए गए पैड या टैम्पोन को प्रोडक्टस के साथ दिए गए वेस्ट पेपर या पेपर कवर में लपेटकर ही कूड़ेदान में फेंके। लेकिन, अगर अलग-अलग पैकेट हैं तो पैड को किसी पुराने अखबार में लपेट सकते है। पैड को फेंकने के लिए पॉली बैग और प्लास्टिक रैप का उपयोग करने से बचें, क्योंकि यह पैड के गलने के समय को बढ़ा सकता है, जो पहले से ही बहुत अधिक है।

डॉ पटेल ने हेल्थशॉट्स को बताया, “एक कागज लें और जो यूज्ड पैड के चारों ओर रैप हो जाए। किसी भी हिस्से को खुला न छोड़ें, अब इस्तेमाल किए गए पैड को उसमें लपेटकर कूड़ेदान में फेंके। उन्हें रोज कम्युनिटी डस्टबिन में फेंकना न भूलें।”

गांवों में महिलाएं अकसर इस्तेमाल किए हुए कपड़ों या पैड को जला देती हैं। ये अंतिम समाधान तो नहीं है, पर यह एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

प्रदूषण और संक्रमण के जोखिम रोकने के लिए आप क्या कर सकती हैं?

कम्युनिटी लेवल पर, लेकिन हमारी पहले से ही समाप्त हो चुकी हेल्थ सिस्टम्स को देखते हुए, हमें सस्टनेब्ल प्रेक्टिसिस की बहुत जरूरत है। अच्छी क्वालिटी वाले मेंस्ट्रुअल कप पर स्विच करें। क्योंकि यह पर्सनल लेवल पर मेंस्ट्रुअल वेस्ट के मुद्दों को हल कर सकता है। ऑर्गेनिक और रिसाइकिल करने योग्य पैड भी जरुरी हैं और हमें उम्मीद है कि मार्केट में अधिक किफायती और रिसाइकिल करने लायक मैन्शुरल प्रोडक्ट्स उपलब्ध हो पाए।

यह भी पढ़ें:यहां हैं 5 योगासन जो हार्मोनल असंतुलन से निपटने में आपकी मदद कर सकते हैं 

लेखक के बारे में
टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story