आप सेक्स पार्टनर नहीं हैं, फिर भी एक-दूसरे का साथ एंजॉय करते हैं, तो समझिए अपने रिश्ते की गहराई का कारण

किसी से बहुत इंटीमेसी महसूस करना आप दोनों के रिश्ते की गहराई के बारे में बताता है। अब जब समय और समाज बदल रहा है, तब स्त्रियां और पुरुष दोनों ही रिश्ते में जुड़ाव के अलग-अलग कारणों को भी समझने लगे हैं।
jane kitni trah ki hoti hai intimacy
इंटिमेसी का अर्थ केवल फिजिकल इंटिमेसी ही नहीं है। चित्र- अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Updated: 6 Jul 2023, 13:39 pm IST
  • 145

रिश्ते को समझने के लिए और दूसरे को समझने के लिए एक-दूसरे के साथ जुड़ना बहुत जरूरी होता है। इंटिमेसी एक ऐसी चीज है जो किसी भी रिश्ते को और गहरा एवं मजबूत बना सकती है। इंटिमेसी ही एक-दूसरे की चाहत, इच्छाओं, जरूरतों को और ज्यादा बेहतर तरीके से समझने में मदद करती है।

इंटिमेसी (intimacy) का अर्थ केवल फिजिकल इंटिमेसी (physical intimacy) ही नहीं है, बल्कि यह दूसरे तरह की भी हो सकती है। आइए समझते हैं किसी रिश्ते में जुड़ाव के अलग-अलग कारणों को।

सीनियर क्लीनिकल साइकोलॉजिस्ट डॉ. आशुतोष श्रीवास्तव कहते हैं, “इंटिमेसी किसी भी रिश्ते का एक महत्वपूर्ण पहलू है। यह दो व्यक्तियों के बीच गहरे, भावनात्मक संबंध को संदर्भित करती है। यह शारीरिक निकटता से परे है और इसमें बंधन और विश्वास के विभिन्न आयाम शामिल हैं।”

इन 8 तरह की इंटीमेसी हो सकती है किसी भी रिश्ते की प्रगाढ़ता और लंबे चलने का कारण

1 इमोशनल इंटिमेसी (Emotional Intimacy)

डॉ. आशुतोष श्रीवास्तव कहते है कि इस प्रकार की इंटिमेसी में एक-दूसरे की भावनाओं, विचारों और कमजोरियों को साझा करना और समझना शामिल है।

बिना किसी निर्णय के भावनाओं को व्यक्त करने के लिए खुले संचार, सहानुभूति और एक सुरक्षित स्थान की आवश्यकता होती है।

वैचारिक या बौद्धिक आत्मीयता आपके रिश्ते को और भी मजबूत बना सकती है। चित्र: शटरस्टॉक
वैचारिक या बौद्धिक आत्मीयता आपके रिश्ते को और भी मजबूत बना सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

2 फिजिकल इंटिमेसी (Physical Intimacy)

फिजिकल इंटिमेसी में पार्टनर में शारीरिक नजदीकीयां और निकटता शामिल है। इसमें गले लगाना, हाथ पकड़ना, चुंबन और सैक्सुअल इंटिमेसी जैसी गतिविधियां शामिल हैं।

शारीरिक स्पर्श व्यक्तियों के बीच भावनात्मक संबंध को मजबूत कर सकता है।

3 बौद्धिक इंटिमेसी (Intellectual Intimacy)

बौद्धिक इंटिमेसी विचारों, आइडिया और बौद्धिक उत्तेजना के आदान-प्रदान पर निर्मित होती है। इसमें गहन बातचीत में शामिल होना, हितों पर चर्चा करना, ज्ञान साझा करना और एक-दूसरे की बौद्धिक गतिविधियों का सम्मान करना शामिल है।

4 आध्यात्मिक इंटिमेसी (Spiritual Intimacy)

आध्यात्मिक इंटिमेसी का संबंध आध्यात्मिक या दार्शनिक स्तर पर जुड़ने से है। इसमें विश्वासों, मूल्यों और उद्देश्य की भावना को साझा करना शामिल है।

इस प्रकार की अंतरंगता को साझा आध्यात्मिक प्रथाओं, ध्यान, या आध्यात्मिकता के बारे में सार्थक चर्चाओं में शामिल होने के माध्यम से पोषित किया जा सकता है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें

5 मनोरंजक इंटिमेसी (Recreational Intimacy)

मनोरंजक इंटिमेसी में गतिविधियों और शौक को एक साथ शामिल करना शामिल है। इसमें साझा अनुभव शामिल हैं।

जैसे खेल खेलना, साहसिक यात्रा पर जाना, फिल्में देखना या सामान्य रुचियों को अपनाना। आनंददायक गतिविधियों में शामिल होने से संबंध मजबूत हो सकते हैं और साझा यादें बन सकती हैं।

अनुभवात्मक इंटिमेसी महत्वपूर्ण जीवन के अनुभवों और माइलस्टोन को साझा करने के बारे में है। चित्र- अडोबी स्टॉक

6 रचनात्मक इंटिमेसी (Creative Intimacy)

रचनात्मक इंटिमेसी में एक-दूसरे की रचनात्मकता को व्यक्त करना और उसकी सराहना करना शामिल है। यह एक साथ कलात्मक प्रयासों में शामिल होने के माध्यम से हो सकता है, जैसे पेंटिंग, लेखन, खाना बनाना या संगीत बनाना।

एक-दूसरे की रचनात्मक अभिव्यक्ति को प्रोत्साहित करना और समर्थन करना बंधन को मजबूत कर सकता है।

7 विश्वास की इंटिमेसी (Trust Intimacy)

डॉ. आशुतोष श्रीवास्तव बताते है कि विश्वास की इंटिमेसी आपसी विश्वास, ईमानदारी और विश्वसनीयता पर बनी होती है।

इसमें एक-दूसरे के प्रति संवेदनशील होना, वादे निभाना और गोपनीयता बनाए रखना शामिल है। विश्वास भावनात्मक सुरक्षा के लिए आधार प्रदान करता है और जुड़ाव की गहरी भावना को बढ़ावा देता है।

8 अनुभवात्मक इंटिमेसी (Experiential Intimacy)

अनुभवात्मक इंटिमेसी महत्वपूर्ण जीवन के अनुभवों और माइलस्टोन को साझा करने के बारे में है। इसमें महत्वपूर्ण घटनाओं के दौरान एक-दूसरे के लिए उपस्थित रहना, चुनौतियों के माध्यम से एक-दूसरे का समर्थन करना और उपलब्धियों का एक साथ जश्न मनाना शामिल है। जीवन के उतार-चढ़ाव को साझा करने से भावनात्मक संबंध गहरा हो सकता है।

ये भी पढ़े- अधूरी नींद मूड खराब ही नहीं करती, मानसिक स्वास्थ्य समस्याएं भी बढ़ा सकती है, जानिए कैसे

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख