फॉलो
वैलनेस
स्टोर

जब आप उम्र के तीसवें वर्ष में प्रवेश करती हैं, तो आपके पीरियड्स में आते हैं ये 6 बदलाव

Published on:7 January 2021, 20:09pm IST
जब आप तीसरे दशक में प्रवेश करती है, तो आपके शरीर में हो रहे विभिन्न परिवर्तनों के कारण आपके पीरियड्स में भी बदलाव आ सकते हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 76 Likes
थकान और तनाव भी पीरियड्स में होने वाले सर दर्द के लिए जिम्‍मेदार हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

आपकी उम्र केवल इस बात को ही प्रभावित नहीं करती है कि आप कैसी दिखती हैं और कैसा सोचने लगती हैं, बल्कि यह आपके मासिक धर्म चक्र पर भी काफी प्रभाव डालती है। जैसे ही हम तीस की उम्र पार करते हैं, हमारा मासिक धर्म चक्र बदल जाता है।

यह माना जाता है कि कुछ महिलाओं का मासिक धर्म चक्र नियमित और अधिक अनुमानित हो सकता हैं,जब तक कि वे तीस की उम्र पार नहीं करतीं। लेकिन कुछ महिलाओं के लिए ये चीजें समान नहीं होती हैं। आप देखती होंगी कि हमारी जीवन शैली,मानसिक स्वास्थ्य और प्रजनन प्रणाली हमारे मासिक धर्म चक्र के बारे में बहुत सी चीजें तय करती हैं।

पाएं अपनी तंदुरुस्‍ती की दैनिक खुराकन्‍यूजलैटर को सब्‍स्‍क्राइब करें

यहां छः सबसे आम बदलाव हैं, जो आपके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकते हैं जब आप अपने जीवन के तीसरे दशक में प्रवेश करती हैं:

1. आपके पीरियड्स हैवी हो सकते हैं

ऐसे कई कारण हो सकते हैं जिनसे आपके पीरियड्स भारी हो सकते हैं, जैसे कि हार्मोन का बढ़ना और घटना, कुछ चिकित्सीय कारण और यहां तक की गर्भनिरोधक गोलियों का प्रयोग कम करना। इसलिए, अगर आपके मासिक धर्म चक्र में कोई बदलाव आता है, तो आपको उसके पीछे के कारण का पता लगाने की आवश्यकता है। इस कारण का पता लगाने के लिए डॉक्टर के पास जाना सबसे अच्छा विकल्प होगा।

हो सकता है कि अब आपके पीरियड्स हैवी होने लगें। चित्र: शटरस्‍टॉक
हो सकता है कि अब आपके पीरियड्स हैवी होने लगें। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. आपको दर्द और तकलीफ बढ़ सकती है

यदि मासिक धर्म के दौरान दर्द हाल ही में बढ़ा है, तो यह एंडोमेट्रियोसिस की ओर इशारा कर सकता है। एंडोमेट्रियोसिस गर्भाशय से जुड़ा एक विकार है जिसके कारण बहुत दर्द होता है। मुंबई के वॉकहार्ट अस्पताल में परामर्शदाता प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ, डॉ. गंधाली देउरुखकर पिल्लई के अनुसार, महिलाओं में यह हालत उनके लेट ट्वेंटीज़ और थर्टीज़ में सबसे आम है।

हालांकि, यह परेशानी कुछ और चिकित्सकीय कारण जैसे कि यूट्रीन फाइब्रॉयड्स के कारण भी हो सकती है।

3. आपके पीरियड्स मिस हो सकते हैं

ऐसा ज्यादातर तब होता है जब आप कुछ गर्भनिरोधक तरीके आजमाती हैं, जिसकी वजह से आपके पीरियड्स मिस हो जाते हैं। गर्भनिरोधक गोलियां लेने से आपके पीरियड्स मिस हो सकते हैं या फिर हल्के भी हो सकते हैं।

4. ज्यादा मूड स्विंग्स होते हैं

तीस की उम्र के पार हम अपनी युवावस्था से ज्यादा तनाव महसूस करते हैं। अस्वस्थ दिनचर्या के कारण हम कम शारीरिक गतिविधि करते हैं और कम पोषक आहार लेते हैं, जिसकी वजह से हमारे हार्मोन प्रभावित होते हैं। वास्तव में, यह सब उन लक्षणों में वृद्धि कर सकता है जो पीएमएस से पीड़ित महिलाओं में होते हैं।

हर समय की थकान गंभीर परेशानियों की ओर संकेत करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हर समय की थकान गंभीर परेशानियों की ओर संकेत करती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

डॉ. पिल्लई के आनुसार, “आपके शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर गिर जाना भी आपके पीएमएस के लक्षण खराब होने का एक कारण है।”

5. गर्भावस्था के कारण आपको बदलावों का सामना करना पड़ सकता है

डॉ. पिल्लई ने समझाया, “एक और बड़ा बदलाव जो इस दौरान हो सकता है, वह प्रसव से संबंधित है। कई महिलाओं के बच्‍चे तीस की उम्र के आसपास होते हैं। गर्भावस्था एक महिला के मासिक धर्म चक्र को पूरी तरह से बदल सकती है। पीरियड्स का स्तनपान से भी गहरा संबंध है।

आमतौर पर स्तनपान कराने वाली माताओं को नर्सिंग की आवृत्ति को रोकने या कम करने तक उनके पीरियड्स नहीं होते। एक महिला के पीएमएस लक्षण भी बच्चे के जन्म के बाद बदल सकते हैं। कई महिलाएं बताती हैं कि उनकी ऐंठन पहले की तरह भयानक नहीं है।

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि प्रसव के बाद गर्भाशय ग्रीवा के आकार में वृद्धि होती है और इसलिए, पीरियड्स के दौरान गर्भाशय के दबाव से राहत मिल जाती है।”

6. आपके मासिक धर्म चक्र में उतार-चढ़ाव हो सकता है

कुछ महिलाओं के लिए यह चक्र लंबा हो जाता है और कुछ के लिए यह छोटा हो जाता है। यह आपके शरीर में हार्मोनल परिवर्तनों के कारण भी हो सकता है, जिससे पीसीओएस भी हो सकता है।

ये बदलाव की उम्र है। चित्र: शटरस्टॉक।
ये बदलाव की उम्र है। चित्र: शटरस्टॉक।

डॉ. पिल्लई सुझाव देती हैं “यदि आपका चक्र छोटा हो रहा है, तो चिंता की कोई बात नहीं है क्योंकि हार्मोन उम्र के साथ गिर जाते हैं। यदि आपकी अवधि बढ़ गई है, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।”

आपका मासिक धर्म चक्र आपके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में बताता है। यही कारण है कि आपको अपने पुराने अनुभव के अनुसार किसी भी परिवर्तन के प्रति संवेदनशील होने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें – क्‍या आपको भी बात-बात पर गुस्‍सा आता है? तो जानिए इसके 5 बेसिक कारण और उबरने के उपाय

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।