पीरियड का फ्लो अचानक से कम हो गया है? जानिए लो पीरियड फ्लो के 4 प्रमुक कारण

Published on: 18 February 2022, 21:30 pm IST

यदि आपको हाल ही में अपनी पीरियड साइकल में कुछ बदलाव देखने को मिला है, तो आपको इस पर ध्यान देना चाहिए। यह किसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

periods mein kam flow hone ki wajah
कम दोनों के लिए पीरियड होने की वजह। चित्र : शटरस्टॉक

आपके पीरियड्स आपकी सेहत के बारे में बहुत कुछ बताते हैं। कोई भी अनियमितता आपके प्रजनन स्वास्थ्य में परेशानी का संकेत दे सकती है और इसे नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए। हर महिला का मासिक धर्म अलग होता है और उसी के आधार पर उनके पीरियड्स 2 से 7 दिनों तक चलते हैं।

हैवी और लंबे समय तक चलने वाले पीरियड्स आपको कुछ संक्रमणों जैसे श्रोणि सूजन की बीमारी, या कुछ रक्त विकारों के बारे में चेतावनी दे सकते हैं। यदि आप अन्य असुविधाओं के साथ असामान्य रूप से कम फ्लो का अनुभव कर रही हैं, तो यह गर्भावस्था में समस्या, रजोनिवृत्ति या यहां तक कि पीसीओएस का संकेत हो सकता है।

आयुर्वेद एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ नीरज शर्मा कहती हैं “पीरियड फ्लो में कमी पोषण या खून की कमी के कारण भी हो सकती है।” मगर यह थायराइड जैसी बीमारी का संकेत भी हो सकता है।

चलिये विस्तार से समझते हैं लो पीरियड फ्लो के कारण

पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम का हो सकता है संकेत

पीसीओएस, हार्मोनल असंतुलन का संकेत, ओव्यूलेशन की परेशानी या महिला के मासिक धर्म में बदलाव का कारण भी हो सकता है। अनियमित पीरियड्स, बांझपन, बालों का अधिक बढ़ना, मोटापा तैलीय त्वचा और पीसीओएस के सामान्य लक्षण हैं।

यह प्रेगनेंसी के कारण भी हो सकता है

आप सोच रही होंगी कि आपका पीरियड्स फ्लो सामान्य से कम था, मगर यह प्रारंभिक गर्भावस्था का भी संकेत हो सकता है। इम्प्लांटेशन ब्लीडिंग – लाइट स्पॉटिंग या ब्लीडिंग – गर्भधारण के लगभग 10-14 दिनों के बाद हो सकती है और इसे सामान्य माना जाता है। दूसरी ओर, यह प्रारंभिक गर्भावस्था की असफलता को भी दर्शाता है।

menopause ke lakshan
पेरिमेनोपॉज़ल लक्षण औसतन चार साल तक रह सकते हैं। चित्र : शटरस्टॉक

रजोनिवृत्ति भी हो सकता है एक कारण

रजोनिवृत्ति शुरू होने से पहले एक महिला के मासिक धर्म चक्र में बदलाव आता है, जो आमतौर पर 50 साल की उम्र के आसपास होता है। किसी को भी इस समय के दौरान लो पीरियड फ्लो का अनुभव हो सकता है। यदि आप हॉट फ्लैश, नींद में समस्या, रात को पसीना, योनि का सूखापन जैसे लक्षणों का अनुभव कर रही हैं, तो आप रजोनिवृत्ति की ओर बढ़ रही हैं।

थायराइड भी हो सकता है एक कारण

यह सुनने में अजीब लगता है, लेकिन आपका थायराइड वास्तव में आपके पीरियड्स को प्रभावित कर सकता है। थायरॉयड ग्रंथि को मस्तिष्क के पिट्यूटरी-हाइपोथैलेमस अक्ष में नियंत्रित किया जाता है, जैसे कि हार्मोन जो ओव्यूलेशन और मासिक धर्म को नियंत्रित करते हैं। इसलिए इसमें असंतुलन थायराइड की समस्या का संकेत हो सकता है।

डॉ नीरज का कहना है कि ”यदि पीरियड फ्लो में कमी पोषण के कारण है तो हमें सबसे पहले अपने खानपान का ख्याल रखना चाहिए। ऐसे फूड्स खाने चाहिए जिसमें आयरन हो।”

यदि आपको भो अचानक से लो पीरियड फ्लो का अनुभव हो रहा है तो तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें : प्रेगनेंसी के दौरान मोबाइल का ज्यादा उपयोग स्वास्थ्य के लिए हो सकता है खतरनाक

ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें