योनि में कसाव लाने से लेकर बेहतर ओर्गेज़्म तक, यहां हैं कीगल एक्सरसाइज के 5 लाभ 

Published on: 5 June 2022, 20:00 pm IST

कीगल एक्सरसाइज आपकी सेक्सुअल लाइफ को बेहतर बनाने के साथ-साथ ब्लैडर कंट्रोल में भी मदद कर सकती है। अच्छी बात ये कि यह पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए काम करती हैं। 

kegel exercise ke fayde
कीगल एक्सरसाइज वेजाइना को टाईट करने में फायदे मंद है फायदेमंद है। चित्र:शटरस्टॉक

कीगल एक्सरसाइज आमतौर पर पेल्विक फ्लोर को मजबूती देने के लिए जानी जाती हैं, लेकिन यह गर्भाशय, छोटी आंत, मूत्राशय और मलाशय केे मूवमेंट में भी सहयोग कर सकती हैं। 

ज्यादातर लोग सोचते हैं कि कीगल एक्सरसाइज केवल योनि की मांसपेशियों को कसने के लिए की जाती हैं। पर यह पूरा सच नहीं है, क्योंकि ये योनि को घेरने वाली पूरी पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को चार्ज करती हैं। पेल्विक फ्लोर मसल्स और टिश्यूज की एक परत होती है, जो प्यूबिक बोन से लेकर टेलबोन तक होती है। कीगल एक्सरसाइज पूरे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होती है। सबसे अच्छी बात यह है कि इसे कहीं भी और कभी-भी किया जा सकता है। 

यहां हैं कीगल एक्सरसाइज के 5 फायदे

  1. सेक्स लाइफ को करती है इंप्रूव 

ये एक्सरसाइज आपकी सेक्सुअल लाइफ में बहुत बड़ा बदलाव ला सकती हैं। दरअसल, पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों की एक्सरसाइज से कमर के आसपास के क्षेत्र में ब्लड सर्कुलेशन अच्छा हो जाता है। इससे पुरुषों का बेहतर इरेक्शन हो पाता है। यह महिलाओं के लिए भी सेक्स प्लेजर की संभावना को बढ़ा देती हैं। यह बल्बोस्पोंजियोसस मसल्स को मजबूत बनाने में मदद करती हैं, जो इरेक्शन, ऑर्गेज़्म और इजेकुलेशन के लिए जाने जाते हैं। 

  1. योनि में कसाव लाती है

अगर आप कीगल एक्सरसाइज करती हैं, तो यह आपके पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को मजबूत बना देता है। इस तरह आपकी योनि में कसाव आता है। इससे बेहतर तरीके से ऑर्गेज़्म हो पाता है। डिलीवरी के बाद अपनी सेक्स पावर बढ़ाने के लिए नई माताएं कीगल एक्सरसाइज कर सकती हैं।

  1. ब्लेडर पर कंट्रोल बढ़ता है

पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां मूत्र और मल त्याग को नियंत्रित करने के लिए सीधे तौर पर जिम्मेदार होती हैं। यदि ये मांसपेशियां मजबूत होंगी, तो इस बात की अधिक संभावना होगी कि आप अपने मूवमेंट्स पर बेहतर तरीके से नियंत्रण रख पाएंगी। यदि आप छींकने, खांसने या हंसने के बाद ओवरएक्टिव ब्लेडर या यूरीन लीकेज से पीड़ित हैं, तो आपको कीगल एक्सरसाइज अवश्य करनी चाहिए।

  1. प्रोलैप्स (prolapse) की संभावना कम करता है

पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स तब होता है जब पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां वास्तव में पेल्विक अंगों (मूत्राशय और मलाशय) को सहारा देने में असमर्थ हो जाती हैं। यदि आप पेल्विक ऑर्गन प्रोलैप्स से पीड़ित हैं, तो एक या अधिक पेल्विक अंग वास्तव में पेल्विक फ्लोर तक नीचे आ सकते हैं, जिससे एक उभार बन सकता है। कीगल एक्सरसाइज मांसपेशियों को कमजोर होने और आगे बढ़ने से रोकने में मदद कर सकती हैं।

orgasm me faydemand
कीगल एक्सरसाइज से न सिर्फ वैजाइनल हेल्थ ठीक होता है, बल्कि ऑर्गेज्म भी आनंददायक हो पाता है। चित्र: शटरस्टॉक
  1. पोस्टपार्टम रिकवरी बेहतर होती है 

गर्भावस्था के कारण महिलाओं के पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियां कमजोर हो जाती हैं। इसलिए यदि नई मांएं अपनी स्ट्रेंथ को हासिल करना चाहती हैं और यह सुनिश्चित करना चाहती हैं कि उनकी पैल्विक मांसपेशियां तेजी से ठीक हों, तो उन्हें यह एक्सरसाइज रोजाना करनी चाहिए।

कैसे करें कीगल एक्सरसाइज

इसके लिए सबसे पहले आरामदायक स्थिति में बैठ जाएं और सही मांसपेशियों का पता लगाएं। पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों की पहचान करने के लिए अपनी मांसपेशियों को अंदर की ओर सिकोड़ लें। ऐसी मांसपेशी जिनका उपयोग आप यूरीन को रोकने के लिए करती हैं। जब आप सही मांसपेशियों को सिकोड़ लेती हैं, तो आप अपने पेल्विस या स्फिंक्टर में खिंचाव महसूस करेंगी। अपने पेट या ग्लूटियल मांसपेशियों को शामिल किए बिना, अपने पैरों को क्रॉस करें। अपनी सांस को रोक कर रखें।

अंत में सांस को छोड़ने से पहले कुछ सेकंड के लिए पेल्विक फ्लोर मसल्स के संकुचन को होल्ड करें। इसे रोज तीन बार करें। एक बार में यह एक्सरसाइज 10-15 बार करें।

यहां पढ़ें :-कामसूत्र के अनुसार उंगलियों में छुपा है सेक्स प्लेजर का राज़, सीमा आनंद दे रहीं हैं कुछ जरूरी टिप्स

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें