प्रेगनेंसी या उम्र बढ़ने के कारण योनि ढीली हो गई है, तो यहां हैं उसमें कसाव लाने के 5 उपाय

योनि का ढीलापन आपको कई तरह की समस्याएं दे सकता है। पर इसके लिए किसी नीम-हकीम के नुस्खे या सर्जरी को आजमाने की बजाए आप इन इफेक्टिव टिप्स को अपना सकती हैं। 

yoni kasav ke fayde
योनि में कसाव लाने के उपाय करने से ऑर्गेज्म हो पाता है। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 24 August 2022, 22:00 pm IST
  • 104

उम्र और प्रेगनेंसी के कारण शरीर में कई सारे बदलाव आते हैं। अन्य अंगों की तरह योनि में भी कई सारे बदलाव आते हैं। इसका इलास्टिक मसल्स चाइल्ड बर्थ और उम्र के कारण फैल जाता है। उम्र के साथ मेनोपॉज की स्थिति और कई सारे हार्मोनल बदलावों के कारण पेल्विक फ्लोर के मसल्स की ताकत भी घट जाती है। इसके कारण सेक्सुअल प्लेजर और ऑर्गेज़्म को हासिल करना मुश्किल हो जाता है। सेक्स भी दर्दनाक हो जाता है। इसलिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि योनि में कसाव (vaginal tightening) लाने के लिए कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं। यदि उम्र बढ़ने या प्रेगनेंसी के कारण योनि की मांसपेशियां ढीली पड़ गई हैं, तो उसमें कसाव लाने के यहां कुछ उपाय दिये गए हैं।

क्यों जरूरी है योनि के स्वास्थ्य पर ध्यान देना 

योनि में कसाव लाने के लिए कुछ एक्सरसाइज की जा सकती हैं। योनि में कसाव आने से योनि में ड्राइनेस, अपने-आप यूरीन पास होने की समस्या को भी ठीक किया जा सकता है। इसे हर उम्र की महिला अपना सकती है। यदि आप योनि में कसाव लाती हैं, तो आपको कुछ फायदे मिल सकते हैं।

1 सेक्सुअल सेटिस्फेक्शन मिलता है

कसाव के कारण योनि में सही तरीके से सिकुड़न हो पाती है और सेक्सुअल एक्टिविटीज अच्छी तरह से संपन्न हो पाती है। इससे ऑर्गेज्म भी हो पाता है।

2 ड्राईनेस और ईचिंग खत्म होती है

इलास्टिसिटी खत्म होने के कारण योनि में खुजली और सूखापन की समस्या होने लगती है। कसाव लाने से दोनों समस्या खत्म हो जाती है।

3 यूरीन लीक नहीं होता 

योनि के मसल्स ढीले होने पर कई बार जोर से हंसने, छींकने या ज्यादा देर तक खड़े रहने पर भी यूरीन लीकेज की समस्या होने लगती है। योनि में कसाव आने से पेल्विक और वेजाइनल मसल्स में मजबूती आ जाती है, जिससे यूरीन लीक होने से बच जाता है। 

यहां है योनि में कसाव लाने के उपाय

1 बैलेंस डाइट कर सकती है कमाल

गाइनेकोलॉजिस्ट डॉ. रितु मेहरा कहती हैं, ‘यदि संतुलित और पोषक तत्वों से भरपूर आहार का सेवन किया जाए तो योनि की मसल्स स्ट्रैंथ में वृद्धि हो सकती है। डाइटरी फाइबर वाले फूड खाने से बावेल मूवमेंट सही तरीके से हो पाता है और कब्ज भी नहीं होती। इससे पेल्विक मसल्स प्रभावित नहीं हो पाता है। 

ड्राई फ्रूट्स, सोया मिल्क, अनार, गाजर, सेब, जामुन आदि एस्ट्रोजन हार्मोन बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ हैं। इन्हें खाने से पेल्विक मसल्स मजबूत होती हैं।’

2 हैवी सामान न उठाएं

पूप के समय इस तरह बैठें कि पेल्विक फ्लोर पर स्ट्रेस न पड़े। साथ ही भारी वजन का सामान न उठाएं। इससे पेल्विक मसल्स पर दबाव कम पड़ेगा और मजबूती बढ़ेगी।

3 कोर मसल्स को रखें टोंड

डॉ. रितु कहती हैं, ‘पेल्विक फ्लोर को हेल्दी रखने के लिए थाई और ग्लूट्स के साथ-साथ सभी कोर मसल्स को टोंड रखना चाहिए। पेल्विक फ्लोर मजबूत होने पर योनि में भी कसाव आता है। इसके लिए एक्सरसाइज करना ही सबसे बेहतर उपाय है। 

4 कीगल एक्सरसाइज

इन दिनों योनि में कसाव लाने के लिए सबसे अधिक प्रयोग में लाई जाती है कीगल एक्सरसाइज। किसी शांत जगह पर बैठ कर या लेटकर इसे करें। एक्सरसाइज के दौरान पेल्विक मसल्स को कुछ देर ढीला छोड़ें और फिर कुछ देर सिकोड़कर रखें। 

kegel exercise ke fayde
कीगल एक्सरसाइज योनि के कसाव में फायदेमंद है। चित्र:शटरस्टॉक

इस दौरान कमर, पेट और जांघों की मांसपेशियों को ढीला रखना चाहिए। मांसपेशियों को सिकोड़ने और छोड़ने में 5-10 सेकंड का समय लेना चाहिए। यह लगातार 5-10 बार किया जाना चाहिए। इसे दिन में 2-3 बार भी किया जा सकता है। इससे पेल्विक फ्लोर मसल्स मजबूत होते हैं और योनि में कसाव लाने में मदद मिलती है।

5 स्क्वाट्स 

पेल्विक फ्लोर टोनिंग और योनि में कसाव लाने के लिए स्क्वाट्स  भी बढ़िया एक्सरसाइज है। इसके लिए पैरों को फैलाकर खड़े हो जाएं। कूल्हे को बाहर की ओर कर लें।

 

Ghar par kare squats exercise
घर पर करें ये आसान स्क्वॉट एक्सरसाइज । चित्र : शटरस्टॉक

हाथों को आगे की ओर फैलाकर बेंच पर बैठने की तरह नीचे जाना है और फिर ऊपर की ओर वापस आना है। कुछ देर इसी अवस्था में खड़े रहना है। दोबारा स्क्वाट्स  करके बैठ जाना है।

यह भी ध्यान रखें

डॉ. रितु चेताती हैं, ‘इन दिनों इंटरनेट पर कई कंटेंट हैं, जो घरेलू उपाय अपनाकर योनि में कसाव लाने की बात कहते हैं। ध्यान दें कि योनि को टाइट करने के लिए नींबू, एलोवेरा जेल, आंवला, विनेगर, शहद आदि का प्रयोग सही नहीं है। इससे वेजाइनल हेल्थ संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।’

यह भी पढ़ें:-सिंगल हैं, तो जिंदगी के भरपूर मज़े लीजिए, हम बता रहे हैं सिंगलहुड एन्जॉय करने के 5 टिप्स

  • 104
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory