वेजाइनल इंफेक्शन से लेकर एसटीआई तक का कारण बन सकती हैं आपकी लापरवाही, जानिए इंटिमेट हाइजीन के 6 टिप्स

वजाइनल हेल्थ को मेंटेन रखना बहुत जरूरी है, अन्यथा यह किसी गंभीर समस्या का कारण बन सकती है। ऐसे में इंफेक्शन, एसटीआई से लेकर अन्य तरह के संक्रमण से बचाव के लिए बताई गई इन 6 इंटिमेट हाइजीन टिप्स को हमेशा याद रखें।
वेजाइनल इंफेक्शन से लेकर एसटीआई तक का महिलाओं को भी हो सकती है स्मेग्मा। चित्र: शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published on: 11 August 2022, 22:00 pm IST
ऐप खोलें

गर्मी, बरसात से लेकर ठंड के मौसम तक में इंटिमेट हाइजीन को प्राथमिकता देना जरूरी है। क्योंकि इसके प्रति बरती थोड़ी सी भी लापरवाही आपके लिए एक बड़ी मुसीबत का कारण बन सकती है। वजाइना से जुड़ी समस्या कुछ ऐसी समस्या है जो बहुत तेजी से बढ़ती है और लंबे समय तक बनी रह सकती है। वहीं अपने शरीर और चेहरे के साथ-साथ वजाइनल हेल्थ के प्रति भी सचेत रहना बहुत जरूरी है। इंफेक्शन, एलर्जी, खुजली से लेकर वेजाइनल डिसचार्ज में बदलाव आना आपकी अनहेल्दी वेजाइनल हेल्थ के संकेत हो सकते हैं। इन सभी समस्याओं को भूल कर भी नजरअंदाज न करें।

अन्य बॉडी पार्ट्स की तुलना में इंटिमेट एरियाज से अधिक पसीना आता है। जिसके कारण बैक्टीरिया और यीस्ट के पनपने की संभावना भी ज्यादा होती है। इसलिए इन समस्याओं से बचने के लिए बताए गए इंटिमेट हाइजीन टिप्स को जरूर फॉलो करें। यह आपके इंटिमेट हाइजीन को बनाए रखने के साथ ही वजाइनल हेल्थ के लिए भी जरूरी है।

अपनी इंटिमेट हेल्थ का रखें खास ख्याल। चित्र शटरस्टॉक।

यहां हैं वेजाइनल हाइजीन बनाए रखने के लिए 6 जरूरी टिप्स

1. से नो टू फेमिनिन हाइजीन प्रोडक्ट्स

मार्केट में उपलब्ध फेमिनिन हाइजीन प्रोडक्ट्स में कई प्रकार के केमिकल्स पाए जाते हैं। जो कि आपके वजाइनल हेल्थ को बुरी तरह प्रभावित कर सकते हैं। ऐसे में इन प्रोडक्ट्स से जितना हो सके उतना दूरी बनाए रखें। वहीं वेजाइनल क्रीम, वजाइनल स्क्रब, हेयर रिमूवल क्रीम और वाइप्स इत्यादि आपके वेजाइनल इन्फेक्शन का कारण बन सकती हैं। वहीं वेजाइनल इंफेक्शन के लिए प्रयोग की जाने वाली दवाइयां भी कभी-कभी वेजाइनल हेल्थ कंडीशन को और ज्यादा खराब कर देती है।

2. टाइट और सिंथेटिक अंडरगारमेंट्स पहनने से बचें

एक्सपर्ट्स हमेशा ढीले और कॉटन के कपड़े से बने अंडरगारमेंट्स पहनने की सलाह देते हैं। टाइट इनरवियर और सिंथेटिक फाइबर से बने कपड़े एयर सरकुलेशन को रोक देते है और ऐसे में अधिक मात्रा में पसीना आता है। इसके साथ ही सिंथेटिक फैब्रिक पसीने को सोख नहीं पाते जिस वजह से बैक्टीरिया और यीस्ट के ग्रो होने की संभावना बढ़ जाती है। ये वेजाइनल इंफेक्शन का कारण बन सकते हैं।

ऐसे में हल्के और ढीले अंडरगारमेंट्स पहनने की कोशिश करें। साथ ही वर्कआउट करने और किसी तरह की फिजिकल एक्टिविटी में भाग लेने के बाद अपने अंडरगारमेंट्स को बदल लें।

सेफ सेक्स है जरुरी। चित्र शटरस्टॉक।

3. सेफ सेक्स है जरूरी

अनप्रोटेक्टेड सेक्स सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफेक्शंस का कारण बन सकते हैं। ऐसे में एसबटीआई और अनवांटेड प्रेगनेंसी को अवॉइड करने का सबसे आसान और प्रभावी तरीका है सेक्स के दौरान कंडोम का इस्तेमाल करना। हालांकि, बाजार में कई तरह के फ्लेवर्ड कंडोम उपलब्ध हैं। तो अपने और पार्टनर के स्किन टाइप का ध्यान रखते हुए एक सही कंडोम का चयन करें।

इसके साथ ही वेजाइनल सेक्स के लिए फ्लेवर्ड कंडोम को अवॉइड करें। इसके साथ ही सेक्स करते वक्त एक सही लुब्रीकेंट का चयन करना भी जरूरी है। केमिकल्स युक्त लुब्रीकेंट वजाइनल सेल्स को डैमेज कर सकते हैं।

4. वेजाइनल इन्फेक्शन्स के लक्षण को अनदेखा न करें

कभी भी वेजाइनल इन्फेक्शन के लक्षण को अनदेखा न करें। यदि अधिक और बदबूदार वेजाइनल डिसचार्ज हो रहा है, या उसके कलर में बदलाव दिखे तो फौरन इस पर गौर करना जरूरी है। साथ ही डॉक्टर से मिलकर सलाह ले सकती हैं।

इस तरह के मामलों में लापरवाही बरतना आपके लिए एक बड़ी मुश्किल खड़ी कर सकता है। इसके साथ ही वजाइना के आसपास दर्द महसूस होना भी अनहेल्दी वजाइनल कंडीशन की ओर इशारा करता है।

4 से 5 घंटे में पैड बदलना जरुरी है। चित्र : शटरस्टॉक

5. सेनेटरी पैड को 4 से 6 घंटे के अंतराल पर बदलना जरूरी है

गाइनेकोलॉजिस्ट की माने तो पीरियड्स के दौरान यदि आपका ब्लड फ्लो सामान्य है तो 4 से 6 घंटे के अंतराल पर पैड बदलना बहुत जरूरी है। वहीं यदि आपका फ्लो बहुत ज्यादा है तो 3 से 4 घंटे का गैप बहुत रहेगा। इसके साथ ही आप टैम्पोन का इस्तेमाल करती हैं तो हर 6 घंटे पर इसे चेंज कर लें। वहीं हर बार वॉशरूम जाने के बाद और पैड बदलते वक्त अपने वजाइनल एरिया को अच्छी तरह पानी से साफ करना न भूलें।

यदि आप लंबे समय तक सेनेटरी नैपकिन और टैम्पोन का इस्तेमाल करती हैं, तो यह स्किन रैशेज और बदबू का कारण बन सकता है। इसके साथ ही इंफेक्शन होने की संभावना भी बनी रहती है। किसी भी कंडीशन पर कपड़े से बने पैड को रीयूज न करें।

सुगंधित उत्पादों के प्रयोग से बचें, चित्र : शटरस्टॉक

6. न करें साबुन का इस्तेमाल

फोर्टिस एस्कॉर्ट्स, फरीदाबाद की सीनियर ओबीएस और गयनेकोलॉजिस्ट डॉ नीति कौतिश कहती है कि अपने प्राइवेट पार्ट्स को साफ करने के लिए साबुन का प्रयोग करने से बचें। आजकल बाजार में मौजूद लगभग सभी साबुन में एसएलएस (Sodium Lauryl Sulphate) मौजूद होते है।

यदि आप किसी तरह की वेजाइनल इन्फेक्शन से ग्रसित हैं, तो यह पदार्थ आपकी समस्या को और ज्यादा बढ़ा सकता है। यदि नहीं हैं तो आपके वजाइनल इंफेक्शन और एलर्जी का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़ें : मम्मी कहती हैं मानसून में फायदेमंद है स्टीम बाथ, पर क्या एक्सपर्ट भी मानते हैं इसे सेफ? 

लेखक के बारे में
अंजलि कुमारी

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी- नई दिल्ली में जर्नलिज़्म की छात्रा अंजलि फूड, ब्लॉगिंग, ट्रैवल और आध्यात्मिक किताबों में रुचि रखती हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story