शरीर के दूसरे अंग की तरह इंटीमेट हेल्थ का ख्याल रखना भी है जरूरी, यहां हैं एक्सपर्ट के बताये 6 टिप्स

शरीर के सभी अंगों की तरह इंटीमेट पार्ट का भी ख्याल रखना चाहिए। यहां हैं एक्सपर्ट के बताये 5 इंटीमेट टिप्स, जिन्हें हेल्दी रहने के लिए हर वुमन को ख्याल रखना चाहिए।

tips for vaginal health
अगर आपको सफेद, हरा, ब्राउन, लाल, पीले रंग का बहुत ज्यादा डिस्चार्ज होता है तो ये एक इंफेक्सन का संकेत हो सकता है। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 3 December 2022, 21:30 pm IST
  • 126

यह सच है कि वर्किंग वीमेन को दोहरी भूमिका निभानी पड़ती है। प्रोफेशनल और पर्सनल दोनों फ्रंट पर उन्हें जिम्मेदारी पूरी करनी पड़ती है। इस फेर में वे अपने शरीर की देखभाल अच्छी तरह नहीं कर पाती हैं। क्या आपने कभी गौर किया है कि टाइम पर ऑफिस पहुंचने के फेर में आप जल्दी से अपने ऊपर फुल बकेट वाटर उड़ेल कर अपना नहाने का काम पूरा कर लेती हैं। अपने रिप्रोडक्टिव ऑर्गन पर तो कभी ध्यान ही नहीं दे पाती हैं। जबकि यह भी आपका एक महत्वपूर्ण अंग है। शरीर के अन्य अंगों की सुरक्षा के लिए भी इसकी स्वच्छता जरूरी है। यहां हम एक्सपर्ट से जानेंगे कि इंटिमेट पार्ट्स की स्वच्छता क्यों जरूरी है और इसकी स्वच्छता के लिए हमें क्या-क्या करना(5 intimate tips for a healthy women) चाहिए।

क्यों जरूरी है इंटिमेट पार्ट की सफाई (intimate parts sanitation)

सीनियर गायनेकोलोजिस्ट ईशा शर्मा बताती हैं, ‘शरीर के अन्य अंगों की तरह इंटिमेट पार्ट्स की सफाई और स्वच्छता बेहद जरूरी है। न केवल महिलाओं, बल्कि टीन लड़कियों को भी रिप्रोडक्टिव ऑर्गन की साफ़-सफाई पर ध्यान देना चाहिए। यदि योनि और इसके आसपास के क्षेत्र को साफ नहीं किया जाता है, तो गंदी योनि में खासकर पीरियड के दौरान बैक्टीरिया पनप सकते हैं। इसके कारण वेजाइनल ड्राईनेस(Vaginal Dryness), अत्यधिक योनि स्राव(discharge) , योनि से खराब गंध आना, योनि में संक्रमण( Bacterial vaginosis, Yeast Infection) जैसी समस्या हो सकती है। आगे चलकर सर्वाइकल या यूटरस कैंसर का जोखिम भी हो सकता है।

एक महिला को स्वस्थ रहने के लिए यहां हैं 5 इंटिमेट हेल्थ टिप्स (5 intimate tips for a healthy women)

1: नहाने के साथ-साथ सफाई भी है जरूरी (bathing and cleaning)

हम सभी रोजाना नहाते हैं। नहाते समय अपने प्राइवेट पार्ट्स को नियमित साफ करना भी जरूरी है। योनि अपनी सफाई खुद करती है, इसलिए सिर्फ पानी से धोना चाहिए। साबुन का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। साबुन में योनि की तुलना में अधिक पीएच (PH) होता है। इससे ड्रायनेस या खुजली की समस्या हो सकती है। किसी भी प्रकार के केमिकल या तेज गंध वाले प्रोडक्ट का प्रयोग करने से बचें। महिलाओं को इंटिमेट पार्ट को 2-3 बार धोना चाहिए। इससे हर प्रकार का संक्रमण दूर रहता है।

योनि को सुखाने का भी है महत्व (Wiping)

यूरीन पास करने के बाद या नहाते समय एनल पार्ट (Anal) से वेजाइना की ओर साफ करना चाहिए। सफाई के बाद इसे सुखाना भी जरूरी है। किसी भी प्रकार की नमी से इन्फेक्शन हो सकता है। साफ़ करने से यूटीआई इन्फेक्शन(UTI) से भी बचे रहने में मदद मिलेगी। ध्यान रखें कि सेक्स के बाद भी योनि की सफाई जरूरी है। इसके बाद हाथों को साबुन से धोना नहीं भूलें।

3 पीरियड्स के समय सफाई का विशेष ख्याल (Periods)

पीरियड्स के समय सफाई का विशेष ख्याल रखें। सैनिटरी पैड, टैम्पोन, कप या आप जिस किसी भी मेनस्ट्रूअल हायजीन प्रोडक्ट का प्रयोग करती हैं, उसे समय-समय पर बदलती रहें। पीरियड के दौरान कॉटन पैंटी का इस्तेमाल करें। गंदा हो जाने पर इसे भी बदलना जरूरी है। मेंस्ट्रुअल कप का उपयोग करने से पहले और बाद में उन्हें इन्फेक्शन रहित करना जरूरी है।

4 सही कपड़ों का चुनाव (loose dress)

टाइट फिटिंग वाले कपड़े पहनने पर शरीर के अंदर नमी और गर्म वातावरण हो सकता है। इससे फंगल इंफेक्शन होने का डर बना रहता है।

8 common biases women face
कपड़े का चुनाव ऐसा करें , जो शरीर के अंदर हवा का प्रवाह बनाये रखें । चित्र : शटरस्टॉक

यदि खेलने या फिजिकल एक्टिविटी के बाद पैंटी गीली हो गई है, तो उसे बदलना नहीं भूलें। कोशिश करें कि कपड़े ऐसे हों, जिनसे हवा का प्रवाह अंदर तक हो सके।

5 पब्लिक टॉयलेट का प्रयोग करते समय अधिक सावधानी बरतें (Public Toilet for intimate health )

यदि आप सार्वजनिक शौचालयों का अक्सर या कभी-कभार भी उपयोग करती हैं, तो आपको अधिक सतर्क होना पड़ेगा। इन स्थानों में संक्रमण होने का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। इससे बचने के लिए अपने साथ छोटे और पोर्टेबल कीटाणुनाशक रखें। इसका प्रयोग करने के बाद टॉयलेट इस्तेमाल करें।

6 जांच और टीकाकरण जरूरी ( checkup and Vaccination)

यदि आप उम्र के 40 वर्ष पार कर चुकी हैं, तो नियमित रूप से अपने हेल्थ चेकअप में मैमोग्राफी और पीएपी स्मीयर पेल्विक एग्जामिनेशन को शामिल करें।

cervix vaccine
सर्वाइकल कैंसर से बचाव के लिए वैक्सीन लगवाएं। चित्र: शटरस्टॉक

साथ ही सर्वाइकल कैंसर (Cervical Cancer) और हीपेटाइटिस बी(Hepatitis B) के टीके भी जरूर लगवाएं।

यह भी पढ़ें :- सेक्स टॉय शेयर करना भी बन सकता है एचआईवी का कारण, जानिए इससे बचने के कुछ जरूरी उपाय

  • 126
लेखक के बारे में
स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें