फॉलो

Bikini line care tips: हम बता रहे हैं आपके शरीर के सबसे उपेक्षित हिस्‍से की देखभाल के उपाय

Published on:18 September 2020, 11:30am IST
बिकनी पहननी हो या नहीं, बिकनी लाइन या बिकनी एरिया की केयर करना जरूरी है। बाकी शरीर की तरह इस हिस्से की भी केयर करने के लिये कुछ बातों का खास ख्याल रखने की जरूरत है। जानिए क्या हैं वे खास बातें।
विदुषी शुक्‍ला
  • 67 Likes
कैसे पाएं खूबसूरत बिकिनी लाइन। चित्र- शटरस्टॉक।

यह महिलाओं के शरीर का सबसे संवेदनशील और सबसे उपेक्षित हिस्‍सा होता है। सब कुछ जानते-समझते हुए भी ज्‍यादातर महिलाएं बिकनी लाइन (Bikini line) की केयर की तरफ कोई ध्‍यान नहीं देती। प्यूबिक हेयर से लेकर रूखी त्वचा तक कैसे करनी चाहिए बिकनी एरिया (Bikini Area) की देखभाल हम बताते हैं (Bikini line care tips)।

बिकिनी लाइन की देखभाल-

1. एक्सफोलिएशन है जरूरी

जैसे आपके शरीर की त्वचा में मृत कोशिकाएं होती हैं जिन्हें हटाना जरूरी होता है, आपके बिकनी एरिया की त्वचा को भी एक्सफोलिएशन की जरूरत होती है। स्क्रबिंग के दौरान न केवल डेड स्किन सेल्स निकलते हैं बल्कि पोर्स की भी सफाई होती है।

स्क्रबिंग त्वचा के लिये बहुत जरूरी है, चाहे वह त्वचा बिकनी एरिया की ही क्यों न हो। चित्र- शटरस्टॉक ।

बॉडी स्क्रब आपके हर दिन का हिस्सा होना ही चाहिए। यह गन्दगी को साफ करता है और त्वचा को सांस लेने में मदद मिलती है। इससे आपकी इंटिमेट हाइजीन में भी सुधार होता है।
बस अगर वैक्सिंग या शेविंग की है, तो 24 घण्टे तक स्क्रब न करें।

2. अगर प्यूबिक हेयर हटाती हैं तो…

वैसे तो आपके प्यूबिक हेयर होने की एक महत्वपूर्ण वजह है, जिसे जानना हर महिला के लिए जरूरी है। प्यूबिक हेयर आपकी वेजाइना को तरह-तरह के इंफेक्शन से बचाते हैं। यह नमी को वेजाइना तक पहुंचने नहीं देते जिससे यीस्ट, फंगस और बैक्टीरियल इंफेक्शन का खतरा कम हो जाता है। इसके साथ ही प्यूबिक हेयर सेक्स के दौरान होने वाले घर्षण और रगड़ से वल्वा को बचाते हैं।

फिर भी अगर आप प्यूबिक हेयर हटाने की इच्छा रखती हैं, तो आप वैक्सिंग, लेजर और शेविंग जैसे कई विकल्प आजमा सकती हैं। वैक्सिंग दर्दनाक हो सकती है, इसलिए पहली बार किसी प्रोफेशनल सैलून जाएं और मानसिक रूप से तैयार रहें।
शेविंग कर रही हैं, तो पहले गर्म पानी से शावर लें, स्क्रब करें और उसके बाद ही शेव करें। इससे इनग्रोन हेयर की सम्भावना कम हो जाएगी।

बिकिनी हिस्से का ख्याल कैसे रखें। चित्र- शटरस्टॉक ।

3. मॉइस्चराइज करना न भूलें

आपको प्राइवेट एरिया के बारे में बात करने में कितनी भी शर्म क्यों न आती हो, वहां की त्वचा की भी वही जरूरतें हैं, जो बाकी शरीर की त्वचा की। ऐसे में अगर आप बिकनी एरिया की त्वचा को मॉइस्चराइज नहीं करेंगी तो रूखी त्वचा की समस्या हो जाएगी। त्वचा फ्लेकी हो जाएगी और खुजली होगी।
हर दिन नहाने के बाद अच्छे लोशन या क्रीम से बिकनी एरिया को मॉइस्चराइज करें। वैक्सिंग और शेविंग के बाद एलोवेरा जेल का प्रयोग करें।

4. कभी भी इनग्रोन हेयर को खुद निकालने की गलती न करें

शेविंग हो या वैक्सिंग, इनग्रोन हेयर की रिस्क दोनों ही केस में रहती है। इनग्रोन हेयर वह स्थिति होती है जब नया बाल हेयर फॉलिकल से उगता है, लेकिन त्वचा के छिद्रों से बाहर आने के बजाय त्वचा के अंदर ही बढ़ने लगता है।

उस हिस्से पर दाना हो जाता है जो दर्दनाक भी होता है। आपको इनग्रोन हेयर देख कर इच्छा होती है कि इसे हाथों से ही निकाल लें, कई बार आपने नाखून से ऐसा किया भी होगा। लेकिन प्लीज यह गलती दोबारा न करें। आपके नाखूनों में बैक्टीरिया रहते हैं और इनग्रोन हेयर खुद ही निकालने पर आप बैक्टीरिया को त्वचा के अंदर प्रवेश करने का मौका देती हैं।

अगर इनग्रोन हेयर हो भी गए हैं, तो उन्हें आपकी वैक्सिंग टेक्नीशियन के लिए छोड़ दें, आप हाथ कभी ना लगाएं।

5. ड्राई स्किन पर कभी शेव न करें

जिस प्रकार पैरों या अंडर आर्म्स के लिए शेविंग क्रीम या फोम का इस्तेमाल करती हैं, इंटिमेट एरिया के लिए भी आपको शेविंग क्रीम इस्तेमाल करनी चाहिए। शेविंग से पहले स्किन को अच्छे से एक्सफोलिएट कर लें। फिर शेविंग क्रीम की मोटी परत लगाकर ही शेव करें।

गलत तरीके से शेविंग करना इनग्रोन हेयर की समस्‍या को खुला न्‍यौता देना है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ड्राई स्किन पर शेव करने से रेजर बर्न होता ही है, साथ-साथ खुजली और जलन की समस्या भी होती है। यह आपको बहुत डिस्कम्फर्ट दे सकती है। इसलिए शेविंग क्रीम का उपयोग जरूर करें।
चाहें आप बिकनी पहनें या नहीं, सही देख रेख जरूरी है। इन टिप्स को फॉलो करें और बेवजह की समस्याओं को दूर रखें।

0 कमेंट्स

कृपया अपना कमेंट पोस्ट करें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

विदुषी शुक्‍ला विदुषी शुक्‍ला

पहला प्‍यार प्रकृति और दूसरा मिठास। संबंधों में मिठास हो तो वे और सुंदर होते हैं। डायबिटीज और तनाव दोनों पास नहीं आते।