Vaginal care in Monsoon : बरसात का मौसम बढ़ा सकता है वेजाइनल इंफेक्शन का जोखिम, एक्सपर्ट बता रहीं हैं बचाव के उपाय

मानसून बारिश और ठंडक के साथ-साथ कुछ स्वास्थ्य समस्याएं भी लाता है। इसके कारण योनि स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। 5 विशेष उपाय अपनाकर मानसून में योनि की देखभाल की जा सकती है।
yoni ka rakhe khas khyal
यह मालिश योनि से तनाव को दूर करती है, रुकी हुई मांसपेशियों को शांत करती है। चित्र : अडोबी स्टॉक
स्मिता सिंह Published: 6 Jul 2023, 08:00 pm IST
  • 125

बारिश मन और तन को ठंडक प्रदान करती है। यह ख़ुशी के साथ-साथ नमी और उमस भी अपने साथ लेकर आती है। इसके कारण कुछ स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं भी हो सकती हैं। खासकर महिलाओं के लिए यह महीना विशेष सतर्कता बरतने का महीना है। इस दौरान योनि और मूत्र संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है। वातावरण में मौजूद नमी बैक्टीरिया और फंगल विकास को तेज कर देती है। विशेषज्ञ बताती हैं कि इस मौसम में वेजाइनल केयर (Vaginal Care in Monsoon) के लिए कुछ उपाय अपनाना जरूरी है।

क्यों जरूरी है मानसून में योनि की विशेष देखभाल (Vaginal Care in Monsoon)

प्राइमस सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में गायनेकोलोजिस्ट और ओब्स्टेट्रीशियन डॉ. रश्मि बालियान बताती हैं, ‘नमी और उमस अधिक होने के कारण योनि में संक्रमण होने की संभावना अन्य मौसम की तुलना में कई गुना बढ़ जाती है। महिलाएं टाइट अंडरवियर और पैंट या ट्राउजर में लगातार कई घंटों तक ऑफिस या घर पर काम करती रहती हैं।

गर्मी और नमी बैक्टीरियल वेजिनोसिस, क्लैमाइडियल इन्फेक्शन, गोनोरिया, कैंडिडिआसिस, ट्राइकोमोनिएसिस जैसे संक्रामक रोगों की संभावना कई गुना बढ़ा देती है। वहीं स्वच्छता का ख्याल नहीं रखने और तेज गंध वाले स्प्रे योनि को संक्रमण के प्रति अधिक संवेदनशील बना देते हैं। आलस के कारण लंबे समय तक एक ही टैम्पून या सेनेटरी पैड का प्रयोग खतरे को बढ़ा सकता है।’

बरसात के मौसम वेजाइना के लिए बढ़ा देता है समस्याएं (Vaginal infection in Monsoon)

डॉ. रश्मि के अनुसार, इन्फेक्शन के कारण योनि स्राव, योनि में खुजली, रेड रैशेज, सूजन, इरिटेशन, योनि में दर्द हो सकता है। यूरिन पास करते समय या संभोग के दौरान जलन भी हो सकती है। मेनोपॉज महिलाओं में हार्मोन की अनुपस्थिति के कारण योनि शुष्क हो जाती है। इससे योनि में खुजली और जलन हो सकती है। एस्ट्रोजन क्रीम इन लक्षणों को कम करने में मदद कर सकती है।

बरसात के मौसम में वेजाइनल केयर के लिए फॉलो करें एक्सपर्ट के बताए ये टिप्स (Tips for Vaginal Care in Monsoon)

1 गुनगुने पानी से योनि को धोएं (Lukewarm water for Vagina in Monsoon)

सबसे पहले मानसून में योनि की स्वच्छता बनाए रखना सबसे अधिक जरूरी है। योनि को गुनगुने पानी से साफ करें। सुगंधित साबुन का प्रयोग कभी नहीं करें। दिन में एक या दो बार योनि को साफ करें। इसे अंदर से साफ न करें, क्योंकि इससे सुरक्षात्मक बैक्टीरिया नष्ट हो सकता है। यूरिन पास करने के बाद योनि को धोकर पोंछ लें। एनस से बैक्टीरिया को योनि में प्रवेश करने से रोकने के लिए आगे से पीछे तक के क्षेत्र को साफ करें।

vaginal health
मानसून में योनि की स्वच्छता बनाए रखना सबसे अधिक जरूरी है। चित्र : एडॉबीस्टॉक

2 बारिश के दौरान प्यूबिक हेयर को शेव नहीं करें (Avoid shave or trimming of Pubic Hair in Monsoon)

प्यूबिक हेयर बैक्टीरिया के प्रसार को रोककर सुरक्षात्मक भूमिका निभाते हैं। इस तरह संक्रमण की संभावना कम हो जाती है। यह सेक्स के दौरान फ्रिक्शन को भी कम करता है। यह बैक्टीरिया के संचरण को भी रोकता है। इसलिए बारिश के दौरान प्यूबिक हेयर को बार-बार शेव नहीं करें। हेयर को ट्रिम भी नहीं करें। सेक्स के बाद योनि क्षेत्र को साफ करें। फीमेल हाइजीन वॉश के इस्तेमाल से बचें

3 टाइट कपड़े पहनने से बचें (Avoid Tight Cloth)

कपड़े से आसानी से हवा आने-जाने वाले कपड़े पहनें। कॉटन अंडरवियर का प्रयोग करें। टाइट लोअर या शॉर्ट्स या स्किनी जींस पहनने से बचें। तंग या टाइट कपड़े हवा के प्रवाह को कम कर सकते हैं। इससे जलन और इरिटेशन होने का खतरा बढ़ सकता है। अधिक समय तक गीले कपड़े न पहनें। ये योनि क्षेत्रों में पसीना बनाए रखते हैं और त्वचा में संक्रमण बढ़ाते हैं। उमस और बारिश में पसीना अधिक आने के कारण योनि को संक्रमण से बचाव करना सबसे अधिक जरूरी है। सांस लेने योग्य कपड़े जननांगों को हवादार और सूखा रहने में मदद करते हैं

4 पीरियड के समय विशेष ख्याल (Extra Care during Period)

नमी बरकरार रहने के कारण यह बैक्टीरिया और पैथोजन्स के लिए प्रजनन स्थल के रूप में कार्य करता है। यह योनि संक्रमण की घटनाओं को बढ़ाता है। पीरियड के दौरान स्वच्छता बनाए रखना जरूरी है। सैनिटरी पैड को हर 4 घंटे में और टैम्पोन को हर 2 घंटे में बदलें, चाहे कितना भी कम गीला क्यों न हुआ हो। हर 8 घंटे में पीरियड कप बदलें। सुगंधित पैड का प्रयोग न करें। टैम्पोन योनि में सूखापन पैदा कर सकता है और संक्रमण की घटना को बढ़ा सकता है। इसलिए मेन्स्ट्रूअल कप का प्रयोग करना चाहिए

apka period product koi bhi ho, use char ghante me badalna zaruri hai.
पीरियड के दौरान स्वच्छता बनाए रखना जरूरी है। चित्र : अडोबी स्टॉक

5 हाइड्रेटेड रहें (Hydration for Vaginal Care in monsoon)

बारिश में पसीना के कारण शरीर से पानी और नमक तेजी से खत्म होते हैं। इसलिए हर दिन कम से कम 2 से 3 लीटर पानी का सेवन करें। यह योनि और यूरिन संक्रमण दोनों को दूर रखता है। योनि का पीएच बनाए रखने के लिए दही खाएं। खुद को संक्रमण से बचने के लिए कंडोम का प्रयोग करें।

यह भी पढ़ें :- Bikini hair removal cream : क्या कैंसर का कारण बन सकती हैं प्यूबिक हेयर हटाने वाली क्रीम? एक्सपर्ट से जानते हैं

  • 125
लेखक के बारे में

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख