बिना पीरियड्स के भी हो रही है पेट में ऐंठन? तो जरूरी है डॉक्टर से संपर्क करना

Published on: 26 October 2021, 19:03 pm IST

पीरियड्स के दौरान ऐंठन होना सामान्य है। हालांकि, यदि आपको पीरियड्स नहीं हो रहे हैं तो आपको ऐंठन होने पर डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

janiye cramps ke karan
जानिए क्रैम्प के कारण। चित्र : शटरस्टॉक

माहवारी के दौरान ऐंठन एक आम समस्या है, जिसका सामना दुनिया भर में लाखों महिलाएं करती हैं। यह मासिक धर्म चक्र की शुरुआत का प्रतीक है। इसके साथ ही दर्द, बेचैनी और सूजन का भी आपको सामना करना पड़ सकता है। हालांकि, कुछ मामलों में, आप पीरियड्स न होने पर भी पेट में ऐंठन का अनुभव कर सकती हैं। जानिए क्यों होता है ऐसा और क्यों आपको डॉक्टर से मिलने की जरूरत है।

पीरियड्स और ऐंठन के बीच की कड़ी को बेहतर ढंग से समझने के लिए हमने फोर्टिस हॉस्पिटल, शालीमार बाग, दिल्ली की ऑब्सटेट्रिक्स एंड गायनेकोलॉजिस्ट, सीनियर कंसल्टेंट, डॉ उमा वैद्यनाथन, से बात की।

ऐंठन (Cramps) क्या हैं?

डॉ. वैद्यनाथन ने हमें समझाया कि जब मासिक धर्म शुरू होने वाला होता है, तो महिलाओं को ऐंठन का अनुभव हो सकता है। यह पीठ के निचले हिस्से में बेचैनी के रूप में प्रकट होता है। इसके बाद पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है और रक्तस्राव होने लगता है। यह सामान्य पैटर्न है और यह दर्द ओव्यूलेशन से जुड़ा है।

periods cramp ke karan
जरूरी नहीं हैं कि पेट में दर्द पीरियड्स के कारण ही हो. चित्र : शटरस्टॉक

वे आगे कहती हैं, “ओव्यूलेशन का मतलब है कि अंडे जारी हो रहे हैं और एक अच्छा हार्मोनल इंटरप्ले होता है, जो वास्तव में दर्द का कारण बनता है।”

पीरियड्स न होने पर भी हमें ऐंठन का अनुभव क्यों होता है?

मासिक धर्म में न होने के बावजूद या ब्लीडिंग न होने पर भी ऐंठन का अनुभव होने के कई कारण हो सकते हैं। डॉ. उमा ऐसे ही कारणों के बारे में बात कर रहीं हैं –

यदि आप निम्नलिखित कारकों का अनुभव करती हैं, तो आपको डॉक्टर से परामर्श करने पर विचार करना चाहिए:

1 मेंसट्रुअल डिसऑर्डर:

अगर आपके साथ ऐसा एक बार हुआ है, तो यह किसी विकार या पीरियड्स में देरी का संकेत है। यह ऐंठन का एक सामान्य कारण है, तब भी जब पीरियड्स अभी तक सेट नहीं हुए हैं।

2 गर्भावस्था:

यदि कोई महिला यौन रूप से सक्रिय है और उसके पेट के निचले हिस्से में दर्द हो रहा है, जबकि उसके पीरियड्स नहीं हुए हैं, तो उसे अपना यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट करवाना चाहिए। यदि आप गर्भवती हैं, तो थोड़ा दर्द सामान्य है।

cramps ke karan
ऐसे में आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

हालांकि, यह इतना नहीं होना चाहिए कि यह दिन-प्रतिदिन की कार्यक्षमता को प्रभावित करे। लगातार दर्द एक्टोपिक प्रेगनेंसी का भी संकेत हो सकता है। जिसका अर्थ है कि गर्भावस्था गर्भाशय में नहीं, बल्कि उसके बाहर प्रत्यारोपित की जाती है। यह भी ऐंठन का एक कारण हो सकता है।

कुछ अन्य कारक:

यदि आप गर्भवती नहीं है, तो डॉक्टर दर्द निवारक दवाएं लिख सकते हैं। इसके बाद वे आपको एक सप्ताह तक प्रतीक्षा करने के लिए कह सकते हैं। दर्द की गंभीरता में कोई सुधार नहीं होने की स्थिति में, डॉक्टर अल्ट्रासाउंड की सलाह देंगे।

डॉक्टर तब तक पेनकिलर, श्रोणि क्षेत्रों या मूत्र पथ में संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स, या मासिक धर्म में देरी के मामले में 3 से 4 दिनों के लिए हार्मोनल टैबलेट लिख सकते हैं।

तो लेडीज, ऐंठन से सावधान रहें, और दर्द होने पर डॉक्टर से सलाह लें, खासकर जब आपके पीरियड्स न हों।

यह भी पढ़ें  : अपने पीरियड्स को आरामदायक बनाना चाहती हैं? तो इन बातों का ज़रूर रखें ध्यान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें