वैलनेस
स्टोर

UTI : कारण, सावधानियां और उपचार, एक्‍सपर्ट से जानिए इसके बारे में सब कुछ

Published on:10 February 2021, 20:00pm IST
मूत्राशय में संक्रमण क्यों होता है, इसे कैसे रोका जाए और क्या है बचाव के उपाय, हर स्‍त्री के लिए यह जानना जरूरी है।
Dr Vaishali Joshi
  • 91 Likes
यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

कई लोग मानते हैं की मूत्राशय में संक्रमण, किसी तरह के कांटेक्ट की वजह से होता है, लेकिन ऐसा नहीं है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि UTI का प्रमुख कारण पेशाब रोकना या डिहाइड्रेशन है। तो अगर आप अपनी पेशाब लंबे समय तक रोक रही हैं या ज्यादा पानी नहीं पी रहीं हैं, तो आप खुद को UTI के जोखिम की तरफ धकेल रहीं हैं।

आम मूत्र एक स्टेरीलाइन मीडियम है। यानि, इसमें बहुत सारे बैक्टीरिया होते हैं जबकि ब्लैडर में कोई भी बैक्टीरिया नहीं है। तो मूत्र रोकने पर बैक्टीरिया ब्लैडर को संक्रमित कर देते हैं। पर जब किसी की रोग प्रतिरोधक क्षमता अच्छी होती है, तो UTI नहीं होता। यह गर्भावस्था, बुढ़ापे और मधुमेह के रोगियों में अधिक आम है। कभी-कभी, यह अस्वच्छता, संभोग (हनीमून सिस्टिटिस), मूत्राशय के कैथीटेराइजेशन या जननांग के इंस्ट्रूमेंटेशन के कारण हो सकता है।

ये 6 यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन के सबसे आम कारण हैं

1. डिहाइड्रेशन

गर्मी और तापमान बढ़ने की शुरुआत के साथ, एक दर्दनाक यूटीआई के पीछे डिहाईड्रेशन प्रमुख कारण है। जब हम बहुत कम पानी का सेवन करते हैं, तो मूत्र का उत्पादन भी बहुत कम होता है और इसके कारण बैक्टीरिया का निर्माण होता है। इसलिए, 6 से 8 गिलास पानी पीने से शरीर से विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं।

2.पेशाब को रोकना

सार्वजनिक शौचालय का उपयोग न करना, लंबे समय तक काम करना या काफी लम्बी यात्रा करना, पेशाब रोकने के कई कारण हो सकते हैं। लंबे समय तक पेशाब रोकने से बैक्टीरिया बढ़ने लगते हैं और संक्रमण का खतरा पैदा होता है। इसलिए पूरे दिन पानी पीना बहुत जरूरी है। साथ ही यह भी ध्‍यान रखें कि 6 घंटे या ज्‍यादा समय तक पेशाब न रोकें।

देर तक वॉशरूम में बैठना आपको यूटीआई दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
देर तक वॉशरूम में बैठना आपको यूटीआई दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

3. टाइट कपड़े

आपके अंडरवियर का आपकी वेजाइनल हेल्‍थ पर बहुत असर पड़ता है। टाइट कपडे खासकर गर्मियों में बिलकुल नहीं पहनने चाहिए। टाइट अंडरवियर, ब्रा, पैन्ट्स और यहां तक की वर्कआउट के वक़्त भी टाइट कपड़े नहीं पहनने चाहिए। इससे योनि के छेत्र में हवा नहीं आती है जिससे पसीना इकट्ठा होता रहता है और संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

4. गर्भावस्था

प्रेगनेंसी के दौरान यूटीआई बेहद सामान्य है क्योंकि बढ़ता भ्रूण मूत्राशय और मूत्र पथ पर दबाव डाल सकता है। प्रसव के दौरान और बाद में महिलाओं में यूटीआई की संभावना अधिक होती है। ऐसे मामलों में, डॉक्टर को सूचित किया जाना चाहिए ताकि उचित देखभाल प्रदान की जाए।

5. हनीमून सिस्टिटिस

पहले संभोग के बाद, कुछ महिलाओं को संक्रमण हो सकता हैं। इसलिए, संभोग के तुरंत बाद अपने मूत्राशय को खाली करें और बहुत सारा पानी पियें। पेशाब करते वक़्त जलन, बार-बार पेशाब आना या पेट के निचले हिस्से में दर्द होना, संक्रमण के खतरे को दर्शा सकता है।

कभी-कभी पहला संभोग भी आपको यूटीआई दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
कभी-कभी पहला संभोग भी आपको यूटीआई दे सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

ऐसा होने पर चिकित्सा सहायता लें। पहली चीज जो आपको करनी चाहिए वह है संक्रमण को दूर करने के लिए पानी पीना। लेकिन अगर यह बेहतर नहीं है, तो आपको एंटीबायोटिक दवाओं की आवश्यकता है। संक्रमण को अनदेखा करना उचित नहीं है। इससे पहले कि कुछ और गंभीर हो जाए, इलाज करवाएं।

6. रजोनिवृत्ति

मेनोपॉज महिलाओं में एस्ट्रोजन की कमी के कारण योनि की त्वचा अपेक्षाकृत पतली हो जाती है। महिला मूत्रमार्ग योनि के करीब है जो महिलाओं को यूटीआई के प्रति अधिक संवेदनशील बनाता है।

दुर्भाग्य से, महिलाएं अपने जननांग के लिए मूत्र प्रणाली की निकटता के कारण पुरुषों की तुलना में यूटीआई के लिए अधिक प्रवण हैं। महिलाओं में एक छोटा मूत्रमार्ग भी होता है, जिससे बैक्टीरिया के लिए मूत्राशय की यात्रा करना आसान हो जाता है। जननांग की त्वचा और मूत्राशय की त्वचा महिला हार्मोन के प्रति संवेदनशील होती है।

इसलिए, विशेष रूप से रजोनिवृत्ति के बाद, हार्मोन की कमी पोस्टमेनोपॉज़ल महिलाओं को मूत्राशय के संक्रमण की चपेट में ले आता है।

तो, महिलाओं को मूत्राशय के संक्रमण के जोखिम को कम करने के लिए क्या सावधानियां बरतनी चाहिए?

यूटीआई को कम करने के लिए, आप कुछ अच्छी आदतें अपना सकती हैं:

अपने शरीर में पानी कम न होने दें। चित्र: शटरस्‍टॉक
अपने शरीर में पानी कम न होने दें। चित्र: शटरस्‍टॉक
  1. बहुत सारा तरल पदार्थ पीना, ताकि आप विषाक्त पदार्थों को बाहर निकाल सकें।
  2. पेशाब करने के बाद आगे से पीछे की ओर पोंछे।
  3. जननांग क्षेत्र पर डिओडोरेंट, स्प्रे और इत्र का उपयोग करने से बचें।
  4. संभोग के तुरंत बाद मूत्राशय को खाली करें।
  5. मूत्रमार्ग के आसपास के क्षेत्र को सूखा रखने के लिए सूती अंडरवियर और ढीले-ढाले कपड़े पहनें
  6. शराब और कैफीन जैसे तरल पदार्थों से बचें जो मूत्राशय को परेशान कर सकते हैं।
  7. क्या मूत्राशय के संक्रमण का इलाज करने और राहत लाने के लिए कोई घरेलू उपचार है?

यदि आप एक संक्रमण से पीड़ित हैं, तो यहां कुछ चीजें बताई गई हैं जिन्हें आप घर पर ही कर सकती हैं:

यदि आप पेशाब करते समय जलन का अनुभव करती हैं तो कृपया अपने दैनिक द्रव का सेवन बढ़ा दें।

जननांग स्वच्छता के बारे में बहुत सतर्क रहें। खासकर जब आपको संक्रमण हो।

लड़ने के लिए नारियल पानी या क्रैनबेरी जूस या जौ का पानी पिएं।

अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए स्वस्थ और संतुलित आहार खाएं जिसमें जामुन और खट्टे फल जैसे एंटी-ऑक्सीडेंट फल शामिल हों।

वेजाइनल हाइजीन का ख्‍याल रखें। चित्र: शटरस्टॉक
वेजाइनल हाइजीन का ख्‍याल रखें। चित्र: शटरस्टॉक

अगर आपको UTI है तो सेक्स के बाद मूत्र रोकने से बचें।

तुरंत चिकित्सकीय राय लें

आपको सावधान रहने की ज़रुरत है अगर आपको बार – बार यूटीआई होता है। ख़ास ट्रीटमेंट की ज़रुरत है अगर आपको 6 महीने में 2 से 3 बार संक्रमण हो चुका है।

ये रूटीन टेस्ट करवाएं- urine microscopic examination, urine culture and sensitivity. ये यूटीआई पैदा करने वाले जीवाणुओं के प्रकार की पहचान करने में सक्षम होंगे और आपके डॉक्टर को संक्रमण को साफ करने के लिए प्रभावी एंटीबायोटिक दवाइयां लिखने में सक्षम करेंगे। यूटीआई के प्रभाव को देखने के लिए गुर्दे और मूत्राशय की सोनोग्राफी की आवश्यकता हो सकती है।

थोड़ी देखभाल से UTI को रोका जा सकता है। इसलिए अपने पर्सनल हायजीन का ख़ास रखें और ज़रुरत पड़ने पर गायनेकोलाजिस्ट को ज़रूर दिखाएं।

यह भी पढ़ें – क्या एनल सेक्स से बढ़ जाता है कोलन कैंसर का खतरा? जानिए क्‍या है सच्‍चाई

Dr Vaishali Joshi Dr Vaishali Joshi

Dr Vaishali Joshi is a senior obstetrician and gynaecologist at Kokilaben Ambani Hospital, Mumbai.