सेक्स लाइफ शुरू करने से पहले हर व्यक्ति को जान लेनी चाहिए ये 7 बातें

किसी भी व्यक्ति को सेक्स के बारे में बताया और सिखाया नहीं जाता है। वह आधे-अधूरे ज्ञान के साथ सेक्स लाइफ में आगे बढ़ता है। इससे अनहेल्दी सेक्सुअल लाइफ का जोखिम बना रहता है। इसलिए हर एडल्ट को सेक्स लाइफ शुरू करने से पहले ये 5 बातें जरूर जानना चाहिए।
sexual contact se lice ki samsya badhti hai
सेक्सुअल डिजायर, लीबिडो, ऑर्गेज़्म, इजेकुलेशन, ओवुलेशन इन सभी के बारे में जानना जरूरी है। चित्र : अडोबी स्टॉक
टीम हेल्‍थ शॉट्स Published: 6 Apr 2024, 08:00 pm IST
  • 125

अकसर सही जानकारी के अभाव में सेक्स लाइफ शुरू हो जाता है। स्कूल-कॉलेज में सेक्स एजुकेशन कभी नहीं दिया जाता है। इसलिए लोगयौन इच्छा, अंतरंगता और उत्तेजना के बारे में न सही तरीके से जान पाते हैं और न समझ पाते हैं। इंटरनेट से अर्जित किया गया आध-अधूरा ज्ञान हेल्दी सेक्स लाइफ में मदद करने की बजाय इसे अनहेल्दी बना देते हैं। सेक्स लाइफ (7 tips for sex life) शुरू करने से पहले जरूरी बातों को जानना जरूरी है।

क्यों जरूरी है सेक्स लाइफ के बारे में जानना (Why is it important to know about sex life)

जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल मेडिसिन में प्रकाशित शोध निष्कर्ष के अनुसार, हर व्यक्ति को जानना चाहिए कि वास्तव में सेक्स क्या है? यौन रूप से किसी व्यक्ति को क्या पसंद है और क्या नहीं? यौन संबंध में कैसे रहना है? सेक्सुअल डिजायर, लीबिडो, ऑर्गेज़्म, इजेकुलेशन, ओवुलेशन इन सभी के बारे में जानना जरूरी है। इन सभी को जानना जरूरी है। तभी व्यक्ति रिलेशनशिप और सेक्सुअल लाइफ में आगे बढ़ सकता है। इससे वह सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज के खतरे को वह जान सकता है। वह यौन जीवन में कंडोम के इस्तेमाल और संयम के महत्व को भी जान सकता है।

सेक्स लाइफ शुरू करने से पहले इन 7 बातों को जानना जरूरी है ( 7 things you must know before start sex life )

1. सेफ्टी है सबसे पहले (Safety for sex) 

अगर असुरक्षित सेक्स किया जायेगा, तो सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिजीज का खतरा बना रहता है। इसलिए कंडोम के इस्तेमाल के बारे में जरूर जानना चाहिए। एक से अधिक पार्टनर के साथ असुरक्षित सेक्स के गंभीर परिणाम हो सकते हैं, यह जानना भी जरूरी है। वह यौन जीवन में कंडोम के इस्तेमाल और संयम के महत्व को भी जान सकता है।

2 समझदारी से करें भविष्य की प्लानिंग

असुरक्षित सेक्स अनचाहे गर्भ की संभावना को बढ़ा देता है। इससे असमय बच्चा हो सकता है। इसलिए समझदारी से भविष्य की प्लानिंग करनी चाहिए।

3 सेक्स और इंटरकोर्स एक नहीं हैं (Sex and intercourse are not the same)

जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल मेडिसिन के अनुसार, सेक्स एजुकेशन के अभाव या न्यूनतम सेक्स एजुकेशन के कारण लोग अक्सर सेक्स और इंटरकोर्स के बारे में अंतर नहीं कर पाते हैं। लोग उन्हें एक ही मान लेते हैं, लेकिन वे नहीं हैं। सेक्स को पेयर से डिफाइन किया जाता है। सेक्स में सेक्सुअल ऑर्गन के अलावा, ओरल, हाथ, अंगुलियां, एनस और अन्य चीजें भी शामिल हो सकती हैं। ये सूची लंबी होती जाती है। सेक्स वेजाइनल, ओरल, एनस कुछ भी हो सकता है। इंटरकोर्स में वेजाइना में पेनिस का जाना होता है।

sex and intercourse ek nahin hai.
न्यूनतम सेक्स एजुकेशन के कारण लोग अक्सर सेक्स और इंटरकोर्स के बारे में अंतर नहीं कर पाते हैं। चित्र : अडोबी स्टॉक

4. ऑर्गेज़्म सिर्फ लड़कों के लिए नहीं है (Orgasms aren’t just for boys)

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन बताते हैं कि अकसर जानकारी के अभाव में ऑर्गेज़्म को सिर्फ लड़कों के लिए मान लिया जाता है। प्रायोरिटी में महिलाओं का ऑर्गेज्म भी होता है। सदियों से सेक्स को योनि में पेनिस के कार्य के रूप में डिफाइन किया गया है। यह पेनिस के इजेकुलेट होने पर समाप्त हो जाता है।

सेक्स तब शुरू होता है जब इच्छा और उत्तेजना शुरू होती है। यह समाप्त तब होता है जब दोनों पक्ष संतुष्ट होते हैं। संतुष्टि सिर्फ पुरुषों तक सीमित नहीं होती है। महिलाओं के लिए भी एक पॉइंट है, जहां सेक्स के पहुंचने पर उन्हें एक्सट्रीम पॉइंट का सुख मिल जाता है। उस बिंदु पर मेल-फीमेल दोनों को पहुंचना चाहिए।

5. कुंजी है क्लिटोरिस (Clitoris is the key)

जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल मेडिसिन के अनुसार, 70 प्रतिशत से अधिक महिलाएं केवल क्लिटोरल उत्तेजना के माध्यम से ऑर्गेज़्म प्राप्त करती हैं। इसका मतलब है कि वे सिर्फ वल्वा को छूने वाले सिस्टम पर डिपेंड करने वाली वुमन हैं। ऑर्गेज़्म के लिए क्लिटोरिस को माध्यम बनाना सही है। पर उन्हें पार्टनर से क्लिटोरल लिकिंग, पैटिंग आदि के लिए भी कहना चाहिए। यहां तक कि वाइब्रेटर से भी खुद को बाहर निकालना चाहिए। हालांकि सेक्स में ऑर्गेज्म मायने रखता है। इसलिए क्लिटोरिस पर ध्यान केंद्रित करना जरूरी है।

6. सेक्स के बारे में बात करने से बचना नहीं चाहिए (Don’t avoid talking about sex)

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन बताते हैं कि सेक्स कोई ऐसी चीज़ नहीं है, जिसके बारे में बात करने से बचना चाहिए। यदि आप सामने वाले व्यक्ति से यह जानना चाहती हैं कि उसे सेक्स में क्या अच्छा महसूस कराता हैं, तो सेक्स के बारे में टॉक करना जरूरी है। खुद को थोड़ा प्रेम भी दें।

यदि मास्टरबरेशन अच्छा लगता है, तो इसे आजमाने में संकोच नहीं करें। इसे आजमाने में किस तरह के सेक्स टॉय की जरूरत पड़ती है, उससे मदद लेने में संकोच नहीं करें। सेक्स के बारे में अपने पार्टनर से खुल कर हर बात शेयर करें। पहली बार में यह सब असुविधाजनक लग सकता है। लेकिन धीरे-धीरे सीखने पर आगे बढ़ा जा सकता है और सहज हुआ जा सकता है।

sex talk karna jaroori hai.
सेक्स के बारे में अपने पार्टनर से खुल कर हर बात शेयर करें। चित्र : अडोबी स्टॉक

7. इंटिमेसी के लिए समय निकलना है जरूरी (make time for intimacy)

इंटरनेशनल जर्नल ऑफ़ सेक्सुअल हेल्थ में प्रकाशित अध्ययन बताते हैं कि रिश्ते में घनिष्ठता बनाए रखने के लिए समय निकालना जरूरी है। शुरुआत में थोड़ी दिक्क्त हो सकती है। प्रयास करने पर धीरे-धीरे इंटिमेसी हो जाती है। इस पर विचार करना और योजना बनाना जरूरी है।

जैसे-जैसे रिश्ते में आगे बढ़ा जाता है, इंटिमेसी को प्राथमिकता देने पर बल दिया जाता है। यह ध्यान रखना जरूरी है कि इंटिमेसी बढ़ाने में आलिंगन और चुंबन दोनों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। पार्टनर से जुड़ने, डेट प्लान करने या सेक्स शुरू करने की योजना बनाने के लिए हर दिन समय निकालें। इससे रिश्ते की शुरुआत और बाद के समय के बीच सेक्स और अंतरंगता सूची में आती जाएगी ।

यह भी पढ़ें :-  प्रजनन स्वास्थ्य के लिए एंटी-मुलरियन हॉर्मोन भी है जरूरी, जानिए इस जरूरी हॉर्मोन के बारे में सब कुछ

  • 125
लेखक के बारे में

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख