वैलनेस
स्टोर

क्या आपकी योनि की त्वचा अकसर छिल जाती है? तो जानिए वेजाइनल पीलिंग के संभावित कारण

Published on:11 September 2021, 20:00pm IST
यदि आपकी योनि से लगातार अंतराल पर त्वचा छिल रही है, तो इससे पहले कि बहुत देर हो जाए, इसे ठीक करने का समय आ गया है। आखिरकार, सुरक्षित रहना बेहतर है!
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 105 Likes
vaginal peeling ke karan
वेजाइनल पीलीन के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

हमारी योनि अनमोल है, लेडीज। आखिरकार, यह कितनी महत्वपूर्ण और शक्तिशाली है! ठीक यही कारण है कि अगर वहां थोड़ा सा भी बदलाव होता है, तो भी हमारा दिमाग चकरा जाता है। हमने अक्सर योनि में संक्रमण और जलन के बारे में सुना है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि कुछ लोगों की योनि से त्वचा भी निकल जाती है?

अरे नहीं, हम मजाक नहीं कर रहे हैं! यह आम तौर पर कभी-कभी हो सकता है, लेकिन यदि आप लगातार पीलिंग देखती हैं, तो डॉक्टर को देखना बेहतर है। क्योंकि यह वैजाइनल पीलिंग ( vaginal peeling) का मामला हो सकता है!

लेकिन वास्तव में ऐसा क्यों होता है?

वैजाइनल पीलिंग के कई कारण हो सकते हैं:

1.यीस्ट इन्फ़ैकशन (Yeast infections):

ये बेहद आम हैं, और मान लें कि लगभग सभी ने अपने जीवन में कम से कम एक बार इसका सामना किया होगा। ये संक्रमण कैंडिडा फंगस के कारण होता है। यह समस्या तब उत्पन्न होती है जब योनि संतुलन गड़बड़ा जाता है, जिससे बैक्टीरिया बनने लगते हैं।

यीस्ट इन्फ़ैक्शन के कुछ सामान्य लक्षणों में खुजली, जलन, पेशाब करते समय जलन, सेक्स के दौरान दर्द और सफेद-भूरा, चिपचिपा, पनीर जैसा दिखने वाला डिस्चार्ज शामिल हैं।

यह भी देखें :

2. कॉन्टेक्ट डर्माटाइटिस (Contact dermatitis):

यह एक तरह के दाने हैं जो आम तौर पर आपके योनि क्षेत्र में बन सकते हैं। यह साबुन, कपड़े धोने के डिटर्जेंट, स्नेहक और लेटेक्स या एलर्जी के संपर्क में आने के बाद विकसित हो जाते हैं। इसके कुछ सामान्य लक्षणों में लाल चकत्ते, खुजली, छाले और सूजन शामिल हैं।

3. एक्जिमा (Eczema):

डॉ संध्या माहेश्वरी, एक प्रसिद्ध स्त्री रोग विशेषज्ञ कहती हैं, “यह एटोपिक डार्माटाइटिस नामक सूजन त्वचा की स्थिति के कारण भी हो सकता है। ज्यादातर मामलों में, यह बाहों पर और घुटनों के पीछे होता है, लेकिन यह कहीं और भी हो सकता है। कुछ सामान्य लक्षणों में खुजली, सूखापन और त्वचा का छिलना शामिल हैं।”

4. बैक्टीरियल वेजिनोसिस (Bacterial vaginosis):

यह तब होता है जब योनि में बैक्टीरिया अधिक मात्रा में विकसित हो जाते हैं। योनि के पीएच संतुलन को बदलने के लिए कुछ गतिविधियाँ जिम्मेदार हैं – इनमें संभोग, सुगंधित साबुन का उपयोग और बार-बार डूशिंग शामिल हैं।

यह भी देखें :

5. लाइकेन स्क्लेरोसस (Lichen sclerosus):

डॉ माहेश्वरी कहती हैं “यह स्थिति ज्यादातर उन महिलाओं में देखी जाती है जो रजोनिवृत्ति की उम्र तक पहुंच चुकी हैं, और कभी-कभी युवा लड़कियों में, जो अभी-अभी युवावस्था में आई हैं। यह आमतौर पर जननांग क्षेत्र के आसपास सफेद पैच, खुजली और बेचैनी का कारण बनता है और त्वचा के आँसू की विशेषता होती है।”

इसका निदान कैसे किया जा सकता है?

यह एक चुनौती है क्योंकि योनि की त्वचा का छिलना कई समस्याओं का लक्षण हो सकता है। इसलिए डॉक्टर के पास जाना और इसका पता लगाना जरूरी है। ज्यादातर मामलों में, स्थिति का आसानी से इलाज किया जा सकता है। यदि नहीं, तो आपका डॉक्टर आपको रक्त परीक्षण करवाने के लिए कहेगा।

अधिकांश डॉक्टर एक एंटिफंगल उपचार, एंटीबायोटिक्स, एंटीवायरल और मौखिक कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स लिखते हैं।

क्या आप घर पर वेजाइनल पीलिंग का इलाज कर सकती हैं?

1. यीस्ट संक्रमण के लिए ओटीसी एंटिफंगल क्रीम का प्रयोग करें।
2. एंटी-खुजली क्रीम के लिए जाएं।
3. खुजली को कम करने के लिए कोल्ड कंप्रेस लगाएं।
4. गीले कपड़ों में न बैठें।
5. हवादार कपड़े पहनें।
6. डूशिंग से बचें।

यह भी पढ़ें : डियर लेडीज, आपके सेक्स सेशन को आरामदायक बनाने के लिए हम लाए हैं कुछ प्राकृतिक लुब्रिकेंट, जानिए इनके बारे में

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।