और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

खांसते या छींकते समय पेशाब लीक होता है? तो ये हो सकते हैं स्ट्रेस यूरीनरी इनकॉन्टिनेंस के संकेत

Updated on: 23 March 2021, 15:31pm IST
यदि खांसते या छींकते समय आपका भी यूरीन लीक हो जाता है तो आप स्ट्रेस यूरीनरी इनकॉन्टिनेंस या तनाव मूत्र असंयम से पीड़ित हो सकती हैं। यहां जानिए इसके बारे में सब कुछ।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 81 Likes
stress urinary incontinence
आप तनाव संबंधी मूत्र अनियमितता से पीड़ित हो सकती हैं। चित्र-शटरस्टॉक।

तनाव मूत्र असंयम (stress urinary incontinence) को खांसी, छींकने या हंसने पर मूत्र के अनैच्छिक पारित होने के रूप में परिभाषित किया गया है। महिलाओं में तनाव मूत्र असंयम की घटना 11% देखी गई है, लेकिन वास्तविक आंकड़े 50% से 60% से भी अधिक माने जाते हैं। 11% आबादी महिलाओं का एक मामूली समूह है, जो स्पष्ट रूप से इस समस्या की शिकायत के साथ अपने डॉक्टर से मिलते हैं।

अधिकांश महिलाएं उपलब्ध निश्चित उपचारों से अनजान हैं और मानती हैं कि उन्हें समस्या के साथ रहना होगा। मुलर जर्नल ऑफ मेडिकल साइंस एंड रिसर्च में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, तनाव के कारण मूत्र असंयम का प्रसार भारत में 54.61% है।

महिलाओं में तनाव मूत्र असंयम पेल्विक फ्लोर (pelvic floor) में शारीरिक परिवर्तन के कारण होता है- जो योनि प्रसव, इंस्ट्रुमेंटल डिलीवरी, मोटापा, मेनोपॉज या दुर्लभ मामलों में, एहलर्स-डानलोस सिंड्रोम (Ehlers-Danlos Syndrome) से प्रभावित होता है।

तनाव मूत्र असंयम आमतौर पर महिलाओं में प्रसव के बाद दिखाई देता है

आमतौर पर, प्रसव के बाद महिलाओं को मूत्राशय की कमजोरी और खांसी, छींकने, हंसने, कूदने या व्यायाम करने पर अनैच्छिक रूप से मूत्र के रिसाव की शिकायत होने लगती है।

आम तौर पर, मूत्राशय और मूत्रमार्ग इस तरह से कार्य करता है कि मूत्रमार्ग का दबाव हमेशा मूत्राशय के दबाव से अधिक होता है, जिससे रोगी का पेशाब लीक नहीं होता।

यह भी पढें: सेक्स टॉयज की सफाई के दौरान ये 5 गलतियां बन सकती हैं योनि संक्रमण का कारण, जानिए कैसे

प्रसव के दौरान, पेल्विक मांसपेशियों (pelvic muscles) को नुकसान के कारण मूत्रमार्ग का दबाव कम हो जाता है।

कोविड-19 वैक्सीनेशन के बाद आपके शिशु भी होंगे सुरक्षित। चित्र: शटरस्‍टॉक
बच्चे के जन्म के बाद यह समस्या अधिक बढ़ जाता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

इसके लिए मेनोपॉज और मधुमेह भी हो सकते हैं जिम्‍मेदार 

मेनोपॉज में, कोलेजन और इलास्टिन की कमी के कारण, मूत्रमार्ग की अखंडता से समझौता किया जाता है। फिर, खांसी, छींकने या हंसने जैसी क्रियाओं के साथ पेट का दबाव बढ़ने पर, रोगी मूत्र को रोक कर रखने में असमर्थ होता है। क्योंकि तब मूत्राशय का दबाव मूत्रमार्ग की अखंडता के कारण मूत्रमार्ग के दबाव से अधिक हो जाता है।

डायबिटीज जैसी कुछ चिकित्सीय स्थितियां इस समस्या को और बढ़ा सकती हैं। जिससे रोगी आग्रह और तनाव असंयम के साथ प्रकट हो सकता है। डायबिटीज में सिस्टिटिस को दूर करना और ब्लड प्रेशर की जांच करना बिल्कुल जरूरी है। 

आमतौर पर, मूत्र को पारित करने के लिए अचानक आग्रह का ब्लड शुगर को नियंत्रण में लाने, संक्रमण का इलाज करने, महिला प्रोबायोटिक्स की पेशकश करने और स्थानीय एस्ट्रोजन क्रीम द्वारा इलाज किया जाता है।

यदि आपको तनाव मूत्र असंयम है तो आपको क्या करना चाहिए

सभी रोगी, चाहे वे तनाव से पीड़ित हों या असंयम से पीड़ित हों, उनको पूरी तरह से स्त्री रोग संबंधी परीक्षा से गुजरना पड़ता है, जिसमें स्थानीय स्वच्छता या संक्रमण (atrophic vaginitis), एक पैप स्मीयर (Pap smear), एक बाई मेन्‍युअल एग्‍जामिनेशन (bimanual examination), पेट और ट्रांस-योनि अल्ट्रासाउंड (abdominal and trans-vaginal ultrasounds) की जांच शामिल है।

अल्ट्रासाउंड क्रॉनिक सिस्टिटिस और मूत्राशय को खाली करने की समस्याओं से भी इनकार कर सकता है।

सही उपचार के साथ इस समस्या से राहत पाई जा सकती है। चित्र-शटरस्टॉक।

केगेल एक्सरसाइज महिलाओं की तनाव मूत्र असंयम के साथ मदद कर सकती है

डायबिटीज और संक्रमण से इंकार करने के बाद, केगेल एक्सरसाइज पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों (pelvic floor muscles) की क्षमता को बढ़ाने में मददगार होता है, जिससे मूत्रमार्ग के दबाव और असंयम गंभीरता को कम करने में मदद करता है।

आमतौर पर, एक मरीज को 3 महीने की अवधि के लिए 3 सत्रों में 30 सेकंड के लिए श्रोणि की मांसपेशियों (pelvic muscles) को कठोर तरीके से अनुबंधित करने के लिए कहा जाता है। केगेल एक्सरसाइज की प्रभावकारिता को पेरी-मेनोपॉजल महिलाओं में एस्ट्रोजेन क्रीम के स्थानीय अनुप्रयोग के साथ बढ़ाया जा सकता है।

महिलाएं, जिन्हें रूढ़िवादी तरीकों से लाभ नहीं मिलता है, उनके लिए मूत्रमार्ग के दबाव को बढ़ाने की तकनीक भी शुरू की गई है।

कुल मिलाकर, तनाव मूत्र असंयम आपके जीवन को बहुत प्रभावित कर सकता है। इसलिए यदि आप इस समस्या से जूझ रही हैं, तो अपने स्त्री रोग विशेषज्ञ के पास जाने में संकोच न करें।

यह भी पढें: क्या एंटीबायोटिक दवाओं का अधिक सेवन बन सकता है योनि संक्रमण का कारण? चलिए पता करते हैं

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।