ऐप में पढ़ें

क्या साथ रहने वाली महिलाओं के पीरियड्स वास्तव में सिंक होते हैं? जानिए क्‍या है सच्‍चाई

Published on:25 January 2021, 14:15pm IST
हम अक्सर सुनते हैं कि महिलाओं के पीरियड्स आपस में एक समय पर होते हैं या सिंक हो जाते हैं जब वे एक-दूसरे के साथ रहती हैं। लेकिन क्या यह सिर्फ सुनी- सुनाई बात है या इसके पीछे कोई मजबूत आधार है? आइये पता करते हैं।
इस अध्‍ययन में माहवारी के आंकड़ों की भी जांच की गई। चित्र: शटरस्‍टॉक
इस अध्‍ययन में माहवारी के आंकड़ों की भी जांच की गई। चित्र: शटरस्‍टॉक

क्या हम सभी ने ऐसी कहानियां नहीं सुनी हैं जहां महिलाओं के एक ही समय में पीरियड्स होते हैं? ऐसा वाकई होता है, खासकर जब वे एक साथ रहती हैं। लेकिन क्या यह सिर्फ एक संयोग है या इसमें कोई सच्चाई है?

कई लोगों का मानना है कि मासिक धर्म चक्रों का यह समन्वय इसलिए होता है क्योंकि महिलाओं के फेरोमनस ( pheromones) एक-दूसरे के साथ बातचीत करते हैं, जिससे उनके पीरियड्स एक ही समय में होने लगते हैं।

इस घटना को ‘मासिक धर्म समकालिकता’ यानी मेंसट्रूअल सिंकक्रोनिसिटी’ या ‘मैक्लिंटॉक प्रभाव’ भी कहा जाता है। दुनिया में बहुत सारी महिलाएं हैं जो यह मानती हैं कि यह वास्तव में सही है! लेकिन इसे साबित करने के लिए शायद ही कोई चिकित्सा साहित्य है। अन्य लोगों का कहना है कि एक अल्फा महिला होती है, जो पूरे समूह को प्रभावित करती हैं ।

समकालिक प्रभाव ( period syncing effect)

ऐसा कहा जाता है कि पीरियड सिंकिंग, माताओं से उनकी बेटियों को मिलता है, लेकिन इस घटना पर तब ध्यान गया जब मार्था मैकक्लिंटॉक नामक एक शोधकर्ता ने एक छात्रावास में रहने वाली 135 कॉलेज की महिलाओं पर यह अध्ययन किया।

पीरियड सिंक माताओं से उनकी बेटियों को मिलता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
पीरियड सिंक माताओं से उनकी बेटियों को मिलता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

यह देखने के लिए कि उनके मासिक धर्म चक्र मेल खाते हैं या नहीं। महिलाओं में रक्‍त स्राव के अलावा, किसी भी अन्य कारक पर ध्यान नहीं दिया गया। अध्ययन ख़त्म होने पर निष्कर्ष निकला कि महिलाओं के पीरियड्स सिंक करते हैं।

लेकिन क्या आज इसकी कोई प्रासंगिकता है?

खैर, कई पीरियड ट्रैकिंग ऐप्स और कुछ अन्य साहित्य, यह बताते हैं कि पीरियड सिंकिंग महज़ एक संयोग है। 2006 में किए गए एक अध्ययन में सामने आया कि ‘महिलाएं अपने मासिक धर्म को सिंक नहीं करती हैं’।

अध्ययन में चीन के एक छात्रावास में रहने वाली 186 महिलाओं से जानकारी एकत्र की गई। तब यह निष्कर्ष निकाला गया कि किसी भी प्रकार की समयावधि जो घटित हुई, वह केवल गणितीय संयोग का मामला था।

पीरियड्स ट्रैकिंग ऐप कंपनी के सहयोग से ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा किए गए एक अन्य अध्ययन से पता चला है कि यह असंभव है कि महिलाएं एक-दूसरे के निकट संपर्क में रहने से एक-दूसरे के मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करती हैं।

लेकिन क्या हमारे चक्र चंद्रमा के साथ सिंक करते हैं?

यदि हम मासिक धर्म की बात करें, तो अक्सर यह माना जाता है कि महिलाओं के चक्र, चंद्रमा के चक्र के साथ मेल खाते हैं। यह दिखाने के लिए कुछ शोध भी हैं कि आपके पीरियड्स चंद्रमा के कई चरणों से प्रभावित होते हैं।

क्‍या वाकई चंद्रमा का प्रभाव माहवारी पर भी होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
क्‍या वाकई चंद्रमा का प्रभाव माहवारी पर भी होता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

1986 में किए गए एक अध्ययन से पता चला कि 28% से अधिक प्रतिभागियों को अमावस्या के दौरान माहवारी हुई। यह भी निष्कर्ष निकाला गया कि अमावस्या के दौरान 4 में से 1 महिला को पीरियड्स होते है।

पीरियड सिंकिंग साबित करना मुश्किल है

पीरियड्स सिंकिंग को साबित करना बहुत मुश्किल है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, यह इस तथ्य पर निर्भर करता है कि महिलाओं के फेरोमोन एक-दूसरे के साथ इंटरैक्ट करते हैं, और इस प्रकार सिंकिंग होती है।

फेरोमोन रासायनिक संकेत हैं जो हम अपने आसपास के अन्य मनुष्यों को देते हैं। वे अक्सर अन्य चीजों के अलावा आकर्षण और यौन उत्तेजना जैसी भावनाओं से जुड़े होते हैं। लेकिन क्या वास्तव में महिलाओं और उनके मासिक धर्म के मामले में ऐसा होता है?

साथ ही, हर महिला का मासिक धर्म चक्र अलग होता है। औसतन, यह पांच से सात दिनों के लिए होते है, लेकिन कई महिलाएं ऐसी हैं जिनके पीरियड्स अलग-अलग समय पर आते हैं। कुछ की छोटी अवधि होती है, कुछ की नहीं। इसीलिए यह साबित करना थोड़ा मुश्किल है।

ये दोस्‍ती की देह भाषा हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक
ये दोस्‍ती की देह भाषा हो सकती है। चित्र: शटरस्‍टॉक

सम्भावना है कि पीरियड्स सिंक एक संयोग से बढ़कर और कुछ भी नहीं। हम में से कई लोग अपने करीबी लोगों के साथ ऐसे सम्बन्ध जोड़ने की कोशिश करते है पर अगर आपके पीरियड्स अपनी सहेली के साथ मैच नहीं करते हैं, तो इसका मतलब ये बिल्‍कुल नहीं है कि आप करीबी नहीं हैं।

यह भी पढ़ें – क्‍या पीरियड्स के दौरान तेज सर दर्द होता है? तो जानिए मेंस्ट्रुअल माइग्रेन से बचने के उपाय

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।