Vaginal Boil : टाइट अंडरवियर और गंदे टॉयलेट दे सकते हैं आपको ये दर्दनाक समस्या, जानिए कैसे बचना है

फुंसी बहुत ही आम है और यह कहीं भी हो सकती है, लेकिन योनि पर फुंसी होना (Vaginal boils) काफी दर्दनाक हो सकता है। जानिए
वेजाइनल बॉयल तब होते हैं जब बैक्टीरिया स्टैफिलोकोकस ऑरियस उन जगहों को संक्रमित करता है चित्र : अडोबी स्टॉक
संध्या सिंह Published: 23 Feb 2023, 09:00 pm IST
  • 145

यह वास्तव में वेजाइनल लिप्स पर होने वाली फुंसी है, जो त्वचा के नीचे लाल, मवाद से भरी गांठ होती है। इसे ही वेजाइन बॉइल (Vaginal boil) कहा जाता है। योनि पर होने वाला यह फोड़ा काफी असहज करने वाला हो सकता है। अगर समय रहते इसका उपचार न किया जाए, तो यह बड़ा और तकलीफेदह हो सकता है।

वेजाइना की त्वचा काफी संवेदनशील होती है। इस पर फुंसी या वेजाइनल बॉइल होना अंडर गारमेंट पहनने, उठने-बैठने और सेक्सुअल एक्टिविटीज में परेशानी का कारण बन सकते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि आप इसके बारे में केवल एक्सपर्ट एडवाइज पर ही भरोसा करें।

वेजाइनल बॉइल क्यों होते हैं और इसका उपचार कैसे किया जा सकता है इस बारे में हमने बात की डॉ रितु सेठी से। डॉ रितु क्लाउड नाइन अस्पताल, सेक्टर 14 गुड़गांव और एपेक्स क्लिनिक, सेक्टर 31, गुड़गांव में सीनियर कंसल्टेंट गायनेकोलॉजिस्ट हैं।

डॉ रितु बताती हैं, “वेजाइनल बॉयल तब होते हैं जब बैक्टीरिया स्टैफिलोकोकस ऑरियस उन जगहों को संक्रमित करता है, जिनमें बालों की जड़ें और हेयर फॉलिकल्स होते हैं। जब एक हेयर फॉलिकल संक्रमित होता है, तो इसे फॉलिकुलिटिस कहा जाता है। रेजर से शेविंग करने या उस हिस्से में किसी तरह की चोट लगने से योनि पर फुंसी हो सकती है।

tips for vaginal health
फुंसी की शुरूआत एक लाल दाने के साथ होती है। धीरे-धारे ये बढ़ता जाता है। चित्र: शटरस्टॉक

ये भी पढ़े- दांत दर्द ही नहीं सिगरेट और मीठे की लत से भी छुटकारा दिला सकती है लौंग, जानिए इस्तेमाल का तरीका

वेजाइनल बॉयल के कारण है

डॉ. रितु सेठी के अनुसार वेजाइनल बॉयल इम्यूनिटी के कमजोर होने के कारण, इंफेक्शन, डायबटीज के मरीज, सींथेटिक अंडरगारमेंट के कारण हो सकता है। वेजाइनल बॉयल कई इंपेक्शन जैसे बेक्टीरियल, फंगल इंफेक्शन और कई बार हर्पीस के कारण भी हो सकता है।

साफ-सफाई न रखने की वजह से भी योनि क्षेत्र में इस तरह की फुंसियां हो सकती हैं। टाइट कपड़े पहनने से पसीना आता है और व्यायाम के दाैरान भी। इसलिए यह जरूरी है कि आप व्यायाम के बाद भी योनि को धोएं।

फुंसी की शुरूआत एक लाल दाने के साथ होती है। धीरे-धारे ये बढ़ता जाता है। बढ़ने के बाद इसमें सफेद और पीले रंग का मवाद जमा होने लगता है और काफी दर्दनाक भी हो जाती है। समय के साथ यह काफी बढ़ा भी हो सकता है।

वेजाइनल बॉयल से कैसे करें बचाव

1 शुगर की जांच करवाएं

डॉ. रितु सेठी के अनुसार अगर आपको वेजाइनल बॉयल की समस्या है, तो ये शुगर के कारण भी हो सकती है। बहुत बार डायबटीज के मरीजों में भी यह समस्या देखने में आती है। तो सबसे पहले ये जांच करें कि आपका शुगर का लेवल न बढ़ा हो। अगर आप को डायबिटीज है, तो इसके लिए डॉक्टर से मिलें।

ये भी पढ़े- लगता है अब रिश्ता और नहीं चल पाएगा, तो इन 5 तरीकों से करें शालीनता से गुड बाय

2 खराब युरिन हाइजीन

डॉ. रितु सेठी बताती हैं कि वेजाइना पर आपको पस वाली फुंसी है, तो उसका कारण खराब यूरिन हाइजीन भी हो सकती है। अगर आप पब्लिक टॉयलेट का इस्तेमाल करती हैं, तो उससे आपको इंफेक्शन हो सकता है, जो बाद में योनि पर फुंसी का कारण बन सकता है। पब्लिक टॉयलेट अकसर गंदे होते हैं। बहुत सारे लोगों के संपर्क में आने से टॉयलेट सीट पर बैक्टीरिया इकट्ठे हो जाते हैं। ये बैक्टीरिया आपको वेजाइनल बॉयल दे सकते हैं।

सिल्क, नायलॉन या सिंथेटिक अंडरगार्मेंट की जगह आपको कॉटन की पैंटी का इस्तेमाल करना चाहिए। चित्र : शटरस्टॉक

3 इंटरकोर्स के बाद सफाई न करना

डॉ. रितु सेठी ने बताया कि अगर आप सेक्स या इंटरकोर्स के बाद वेजाइना को साफ नहीं करती हैं, तो ये भी वेजाइना पर फुंसी होने का कारण बन सकता है। हमेशा इंटरकोर्स के बाद आपको यह ध्यान रखना है कि आपको वेजाइना और हथों को अच्छी तरह से साफ करें। हो सके तो नहा लें।

4 सिंथेटिक अंडरगार्मेंट पहनने से बचें

सिल्क, नायलॉन या सिंथेटिक अंडरगार्मेंट की जगह आपको कॉटन की पैंटी का इस्तेमाल करना चाहिए। सिंथेटिक अंडरगार्मेंट में स्किन के सांस लेने की जगह नहीं होती। जिससे हवा पास नहीं हो पाती है और पसीना सूख नहीं पाता। ये सभी कारण वेजाइनल बॉयल को जन्म दे सकते हैं। इसलिए कोशिश करें कि सिंथेटिक अंडरवियर न पहनें और एक आरामदायक और सांस लेने वाले कॉटन अंडरवियर का चुनाव करें।

ये भी पढ़े- पश्चिम बंगाल में छोटे बच्चे हो रहे हैं एडिनोवायरस से बीमार, फेफड़ों में सूजन ला सकता है यह खतरनाक वायरस

  • 145
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख