समलैंगिक रिश्ते में हैं, तो शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य संबंधी इन चुनौतियों से रहें सावधान!

मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य समस्याएं किसी के भी साथ हो सकती हैं। पर समलैंगिक रिश्तों पर हमारा समाज इतना अजीब व्यवहार करता है कि ऐसे जोड़े अपनी समस्याओं के बारे में किसी से बात ही नहीं कर पाते।

lesbians ko saaj sweekar nhi karta hai
एलजीबीटीक्यू समुदाय समुदाय से जुड़े लोग भारी मानसिक तनाव और यौन समस्याओं का सामना करते हैं। चित्र अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published on: 25 January 2023, 21:00 pm IST
  • 142

एलजीबीटीक्यू समुदाय (LGBTQ Community) अभी अपनी अस्मिता की लड़ाई लड़ रहा है। समाज को अब भी यह समझा पाना बहुत मुश्किल है कि कोई लड़की एक दूसरी लड़की या कोई लड़का एक दूसरे लड़के के साथ भी प्रेम में हो सकता है। यही वजह है कि एलजीबीटीक्यू समुदाय समुदाय से जुड़े लोग भारी मानसिक तनाव और यौन समस्याओं का सामना करते हैं।

अपने प्रेम, पसंद और अस्मिता के कारण वे समाज से अलग-थलग पड़ जाते हैं। जबकि जरूरत है हर मुद्दे पर खुलकर बात करने की। ताकि हर व्यक्ति अपनी पसंद के साथ एक स्वस्थ जीवन जी सके। यहां विभिन्न शोधों के आधार पर हम उन स्वास्थ्य समस्याओं (common lesbian issues) का उल्लेख कर रहे हैं, जिनका सामना किसी भी समलैंगिक महिला (lesbians) को करना पड़ सकता है।

इसमें कोई दो राय नहीं है कि अपने जीवन काल में सभी महिलाओं को किसी न किसी स्वास्थ्य संबधी समस्या से होकर गुज़रना पड़ता है। खासतौर से लेस्बियन और बाईसेक्सुअल महिलाएं। जो अन्य महिलाओं के साथ यौन संबध बना चुकी होती हैं। उनके सामने बहुत सी स्वास्थ्य संबधी चिंताएं खड़ी हो जाती है। हांलाकि कई बार फैमिली हिस्टरी और उम्र की इनका एक कारक साबित होता है। मगर फिर भी इन चैलेंजिंस का सामना करने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना बेहद ज़रूरी है।

samlengik log ache partner ki talaash mei rehte hain
समलैंगिक लोग अकसर अपने लिए परफेक्ट पार्टनर के लिए संघर्ष करते हैं। ऐसे में जो उनसे थोड़ी भी विनम्रता से पेश आता है, वे उनके प्रति आकर्षित होने लगती हैं। चित्र: अडोबी स्टॉक

क्या कहते हैं आंकड़े

मारपीट और रेप के आंकडों की बात करें, तो लेसबियन और बायसेक्सुअल महिलाओं का पर्सनटेंज इसमें ज्यादा है। राष्ट्रीय गठबंधन की रिपोर्ट की मानें, तो हेटेरोसेक्सयुअल महिलाएं 35 प्रतिशत, लेसबियन महिलाएं 43.8 प्रतिशत व बायसेक्सुअल महिलाएं 61.1 प्रतिशत बलात्कार व शारीरिक हिंसा का शिकार होती हैं।

समलैंगिक महिलाओं को इन समस्याओं से बचना है जरूरी

1. सोशल टैबू और मानसिक तनाव

लेसबियन को डिप्रेशन और एंज़ाइटी का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। समाज में उनके प्रति लोगों का नज़रिया बदलने लगता है। उनके लिए अपनों के व्यवहार में बदलाव आने लगता है, भेदभाव होता है। क

2. डर और यौन संक्रमण

मिसबिहेव और वायलेंस जैसे समस्याएं भी पैदा हो जाती है। जो उन्हें अंदर से कमज़ोर बना देती हैं। खास बात ये है कि उन्हें समाज से भी समर्थन हासिल नहीं होता है। इससे वे खुद को अकेला और दूसरों से कम आंकने लगते हैं।

ह्यूमन पेपिलोमावायरस, बैक्टीरियल वेजिनोसिस और ट्राइकोमोनिएसिस कुद ऐसे वायरस हैं, जो महिलाओं को आसानी से अपनी चपेट में ले सकते हैं। ओरल सेक्स और डिजिटल. वजाइनल या डिजिटल.एनल के कॉनटेक्ट में आने से इसका खतरा रहता है। साथ ही पेनिट्रेटिव सेक्स टायज भी इस तरह की समस्याओं को आमंत्रित करने का काम करते हैं। फीमेल सेक्सुअल कॉनटेक्ट से भी एचआईवी का खतरा रहता है। स्वस्थ और खुशहाल जीवन के लिए सेफ सेक्स सबसे ज़रूरी है।

janiye kyu dekhti hain mahilaen lesbian porn
अगर आप एसटीडी से बचना चाहते हैं, तो आप एक स्वस्थ रिश्ते में रहे। इसका मतलब है कि बहुत से लोगों के संपर्क में आने से बचें। चित्र : शटरस्टॉक

3. एचआईवी/ एड्स और वैक्सीनेशन

समलैंगिक लोग अकसर अपने लिए परफेक्ट पार्टनर के लिए संघर्ष करते हैं। ऐसे में जो उनसे थोड़ी भी विनम्रता से पेश आता है, वे उनके प्रति आकर्षित होने लगती हैं। पर भावनात्मक अंतरंगता के साथ अगर आप यौन व्यवहार में शामिल हो रहीं हैं, तो जरूरी है कि पार्टनर का एचआईवी टेस्ट करवा लें। इसमें झिझकने या डरने की कोई जरूरत नहीं है।

मायो क्लीनिक के मुताबिक अपने साथ से यौन संबध बनाने से पहले उसका टेस्ट अवश्य कराएं। ये ज़रूर जान लें कि वो एचआईवी या अन्य किसी यौन रोग की चपेट में तो नहीं है। चाहे आप किसी भी महिला या पुरूष के साथ रिलेशन में रहें, पर उसका परीक्षण अवश्य कराएं।

मायो क्लीनिक के मुताबिक अगर आप एसटीडी, हेपेटाइटिस ए और हेपेटाइटिस बी समेत गंभीर लीवर इंफेक्शन से बचना चाहते हैं, तो वैक्सिनेशन ज़रूरी है। इसके अलावा एचपीवी टीका 26 वर्ष की उम्र की महिलाओं के लिए उपलब्ध है।

4. अनकन्वेंशनल सेक्स और सेफ्टी

वेब एमडी का कहना है कि ओरल सेक्स के दौरान लेटेक्स का प्रयोग करें। इसके अलावा सेक्स टॉयज को इस्तेमाल करने से पहले उन्हं अच्छी तरह से क्लीन करें। साथ ही हर बार सेक्स के लिए नए कंडोम का इस्तेमाल करें।

वेब एमडी के मुताबिक सेफ सेक्स का मतलब है कि आपके साथी के वीर्य या योनि से निकलने वाले तरल पदार्थ को आपकी योनि, एनस, पेनिस या मुंह के अंदर जाने से रोकना है। सेक्सुअल ट्रांसमिटेड डिज़ीज़ जिन्हें एसटीडी कहा जाता है, वे केवल जेनिटल्स के स्किन टू स्किन कॉन्टेक्स से फैलते हैं। अगर आपको कहीं घाव, या मसूड़ों से खून बह रहा है तो ज्यादा सावधानी की आवश्यकता है। जो लोग मल्टीपल लोगों से सेक्स करते हैं। उनमें ये खतरा बढ़ने की आंशका ज्यादा रहती है।

5. सेक्स और ईमानदारी

अगर आप एसटीडी से बचना चाहते हैं, तो आप एक स्वस्थ रिश्ते में रहे। इसका मतलब है कि बहुत से लोगों के संपर्क में आने से बचें और किसी एक पार्टनर के प्रति पूरी तरह से रिलायबल रहें। ऐसा पार्टनर तलाशें, जो इस तरह के किसी भी रोग से संक्रमित न हों।

आपको शराब और ड्रग्स से भी बचने की जरूरत है। अमूमन लोग तनाव से बचने के लिए इन चीजों पर निर्भर रहने लगते हैं। जबकि ये तनाव के साथ-साथ और भी बहुत सारे जोखिमों को बढ़ा देते हैं। अगर आप रोज़ाना पीती हैं, तो शराब की मात्रा को कम करें। अगर आप इंजेक्टेबल ड्रग्स ले रहे हैं, तो सुइयों को साझा करने से बचें। ये भी सेक्स संबधित रोगों का कारण साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें- क्या योनि से दही जैसा गाढ़ा डिस्चार्ज होना नॉर्मल है? एक्सपर्ट से जानिए वेजाइनल डिस्चार्ज के बारे में सब कुछ

  • 142
लेखक के बारे में
ज्योति सोही ज्योति सोही

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें