वैलनेस
स्टोर

कोविड -19 वैक्सीन साइड इफेक्ट : पीरियड्स के दौरान आपको महसूस हो सकते हैं कुछ बदलाव

Updated on: 23 April 2021, 15:00pm IST
ऐसी कई रिपोर्ट्स देखने को मिल रही हैं, जिनमें कोविड - 19 वैक्‍सीन के साइड इफेक्ट्स के रूप में माहवारी भी प्रभावित हो रही है। क्या यह सच है? आइये जानते हैं इसके बारे में सब कुछ।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 71 Likes
वैक्‍सीन के बाद आपको पीरियड्स में कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड टीकाकरण अभियान के तहत ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को टीका लगाया जा रहा है। वैक्सीनेशन अभियान के साथ ही कोविड -19 वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स भी नजर आ रहे हैं। पहले, वैक्सीन के कई घंटों बाद – बुखार और थकान कई लोगों में देखी गई थी। कुछ ने इंजेक्शन साइट में दर्द और सूजन का भी अनुभव किया, लेकिन पता चला है कि महिलाओं को अन्य समस्याओं का भी सामना करना पड़ रहा है। इन्हीं में से एक है पीरियड्स में बदलाव।

मासिक धर्म चक्र में बदलाव में हर किसी में अलग – अलग लक्षण देखने को मिल रहे हैं। कुछ में सामान्य से अधिक रक्तस्राव, जबकि और लोगों में कुछ अन्य असमानताएं।

अगर विशेषज्ञों की मानें तो पीरियड्स फ्लेक्सिबल होते हैं। कई परिवर्तनों का इन पर अलग असर पड़ता है जैसे – तनाव, मानसिक या शारीरिक परिवर्तन या इम्युनिटी में उतार – चड़ाव आदि।

 

हार्मोन में बदलाव का असर माहवारी पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्‍टॉक
हार्मोन में बदलाव का असर माहवारी पर भी पड़ता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

कोविड -19 टीकों में उपयोग किए जाने वाले नैनोकणों के बीच एक संभावित संबंध हो सकता है, जिससे रक्तस्राव में परिवर्तन भी हो सकता है। क्योंकि नैनोकणों में एक अस्थायी इम्युनिटी हो सकती है, जिससे प्लेटलेट्स की हानि हो सकती है। जबकि वे पुन: उत्पन्न करने के लिए समय नहीं लेते। यह मुश्किल हो सकता है, खासकर जब किसी को शॉट के बाद पीरियड्स आते हैं।

लेकिन बड़ा सवाल यह है: क्या टीके और मासिक धर्म के बीच एक संभावित लिंक हो सकता है? चलिए पता करते हैं।

कोविड -19 टीके और मासिक धर्म चक्र के बीच संबंध

यह साबित करने के लिए पर्याप्त शोध नहीं हैं, कि कोविड -19 वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स में पीरियड्स में परिवर्तन शामिल हैं। इस मामले में लोगों को कई गलतफहमियां हैं, लेकिन यह हर किसी पर लागू नहीं होता। मासिक धर्म चक्र पर टीकों के प्रभाव को निर्धारित करने के लिए विभिन्न जैविक और सांस्कृतिक प्रभाव सामने आते हैं।

जबकि शोधकर्ता इस बारे में अनिश्चित हैं कि टीके मासिक धर्म को कैसे प्रभावित कर सकते हैं। अभी भी ऐसे सबूत हैं जो कि यह बताते हैं कि कोविड – 19 आपके पीरियड्स को प्रभावित कर सकता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वायरस मानव कोशिकाओं में प्रवेश करता है और ये रिसेप्टर्स जीआई सिस्टम, किडनी, गर्भाशय और संभवतः प्लेसेंटा के कुछ हिस्सों में पाए जाते हैं।

ऐसे में आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉक

ऐसे में आपको डॉक्‍टर से संपर्क करना चाहिए। चित्र: शटरस्‍टॉकचीन में एक और अध्ययन किया गया, जिसमें कोविड -19 के साथ और बिना 200 महिलाओं को शामिल किया गया था। यह पाया गया कि उनमें से लगभग 20-25 प्रतिशत के मासिक धर्म चक्र में कुछ बदलाव हुए, या अन्य अनियमितताएं थीं। कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि मासिक धर्म चक्र में बदलाव के कुछ संभावित कारण हो सकते है।

कुछ विशेषज्ञों का मानना ​​है कि एस्ट्रोजन का कोविड -19 पर प्रभाव पड़ता है। यह जरूरी नहीं कि नकारात्मक हो, लेकिन यह पीरियड्स को बदल देता है। यदि मासिक धर्म चक्र पर इसका दीर्घकालिक प्रभाव हो सकता है, तो यह समझने के लिए अभी भी जांच चल रही है।

ऐसे में आपको क्या करना चाहिए:

अगर आपको वैक्सीन लगने के बाद अपने पीरियड्स में कुछ बदलाव नज़र आते हैं, तो आपको गायनेकोलॉजिस्‍ट के पास जाना चाहिए। यह भी हो सकता है कि अगर परिवर्तन लंबे समय तक रहें, तो आप फाइब्रॉएड, एंडोमेट्रियोसिस या पीसीओएस से पीड़ित हों। क्योंकि शोध के अनुसार किसी भी वैक्सीन से संबंधित परिवर्तन केवल कुछ चक्रों तक ही रहते हैं।

यह भी पढ़ें – पीरियड्स में भूलकर भी नहीं करनी चाहिए ये 10 चीजें, वरना होना पड़ सकता है ज्‍यादा परेशान

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।