Inner thighs rashes: गर्मी में पसीना और ह्यूमिडिटी से बढ़ जाता है इनर थाई रैशेज का खतरा, एक्सपर्ट से जानें कैसे करना है डील

गर्मी में बहुत सी महिलाएं इससे परेशान रहती हैं, इसकी वजह से उन्हें चलने में भी परेशानी होती है, और किसी भी छोटी मोटी गतिविधियों को करते हुए उन्हें जलन महसूस होता है।
Jaanein inner thigh rashes ka kaaran
जानते हैं इन्नर थाइज़ रैशेज से राहत पाने के कुछ आसान उपाय (rash on inner thigh)। चित्र : शटरस्टॉक
अंजलि कुमारी Published: 7 Jun 2024, 20:00 pm IST
  • 124

गर्मी के मौसम में ह्यूमिडिटी और अधिक पसीना आने की वजह से कई सारी समस्याओं का खतरा बढ़ जाता है। खासकर इस दौरान इंटिमेट हेल्थ बेहद संवेदनशील हो जाती है, और इससे जुड़ी भिन्न प्रकार की समस्याएं आपको परेशान करना शुरू कर देती हैं। इन्ही परेशानियों में से एक है “इनर थाई रैशेज”। गर्मी में बहुत सी महिलाएं इससे परेशान रहती हैं, इसकी वजह से उन्हें चलने में भी परेशानी होती है, और किसी भी छोटी मोटी गतिविधियों को करते हुए उन्हें जलन महसूस होता है।

वहीं इनर थाईज में पसीना आने पर अधिक जलन और दर्द महसूस होता है। ऐसे में इसके प्रति लापरवाही किए वगैर इसकी हीलिंग पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। हेल्थ शॉट्स ने इनर थाईज राजेश के कारण और इन्हे हील करने के टिप्स (how to treat inner thigh rash) जानने के लिए सी के बिरला, हॉस्पिटल, गुरुग्राम की कंसलटेंट डर्मेटोलॉजिस्ट डॉक्टर सीमा ओबेरॉय लाल से बात की। तो चलिए जानते हैं इस विषय पर क्या कहती हैं एक्सपर्ट।

पहले जानें इनर थाई रैशेज के कारण (causes of Inner thighs rashes)

डॉ सीमा ओबेरॉय के अनुसार “गर्मियों में जांघ के अंदरूनी हिस्से पर चकत्ते अक्सर पसीने, गर्मी, घर्षण और बैक्टीरिया या फंगल वृद्धि के कारण होते हैं। कपड़ों या त्वचा से त्वचा के संपर्क से होने वाली रगड़, पसीने की नलिकाओं के बंद होने से होने वाले हीट रैश और जॉक खुजली जैसे संक्रमण इसके कुछ आम कारण हैं। इस प्रकार के जलन और संक्रमण गर्म और नम वातावरण में पनपती हैं।”

Inner thighs rashes
एंटीफंगल या एंटीबायोटिक मलहम अच्छी तरह से काम करते हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक

पसीना, नमी और मॉइश्चर के लंबे समय तक बने रहने से।
गर्मी और ह्यूमिडिटी इसे बेहद जल्दी उत्तेजित करती है।
लंबे समय तक चलना, दौड़ना और साइकलिंग करना खास कर अधिक वजन वाले लोगों के लिए थाई रैशेज का यह एक कॉमन कारण है।
इंटेंस वर्कआउट, जिसमें जांघों के बीच अधिक रगड़ पैदा हो रही हो।
अधिक वजन, या हैवी थाईज।
टाइट और अनकंफरटेबल अंडरवियर और अन्य प्रकार के बॉटम वियर पहने से।
मॉइश्चर को अंदर त्वचा पर लॉक कर देने वाले फैब्रिक के कपड़े पहनना।
पीरियड्स पैड, और मेंस्ट्रूअल हाइजीन पर ध्यान न देना।
प्यूबीक हेयर शेविंग और हेयर रिमूवल।
विकिनी वैक्सिंग

सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफेक्शन से भी हो सकता है इनर थाई रैश

सेक्सुअल ट्रांसमिटेड इनफेक्शन की वजह से इनर थाई रैश हो सकते हैं। जेनाइटल हर्पीज़, सिफिलिस, क्लैमिडिया आदि STI के प्रकार हैं, इनके वायरस STI का कारण बनने के साथ ही आपके इनर थाईज राजेश का भी कारण बन सकते हैं।

एक्सपर्ट से जानें रैशेज होने पर क्या करना चाहिए (how to treat inner thigh rash)

डॉक्टर के अनुसार “अगर आपकी जांघ के अंदरूनी हिस्से पर रैशेज हैं, तो जितनी जल्दी हो सके उस क्षेत्र को साफ करके सुखा लें। ज़्यादा हवा और कम घर्षण के लिए ढीले, हवादार कपड़े पहनें। अतिरिक्त नमी को सोखने के लिए कॉर्नफ्लोर या टैल्कम पाउडर का इस्तेमाल करें।”

यह भी पढ़ें: गर्भवती होने का कर रही हैं प्रयास, तो शरीर में ये बदलाव देते हैं ओव्यूलेशन का संकेत

“हाइड्रोकार्टिसोन युक्त ओवर-द-काउंटर लोशन जलन और सूजन को कम करने में मदद करते हैं। अगर कोई संक्रमण है, तो एंटीफंगल या एंटीबायोटिक मलहम अच्छी तरह से काम करते हैं। ठंडी सिकाई से त्वचा की जलन कम हो सकती है। वहीं खूब सारा पानी पिएं, और धूप में कम समय बिताए, इससे आपकी स्किन पर रैशेज नहीं होते।”

kya inner thigh par lagaya ja sakt ahai talcum powder
क्या टैल्कम पाउडर थाई चैफिंग में मदद करता है. चित्र : शटरस्टॉक

इन टिप्स को फॉलो करें, जल्दी हील होंगी इनर थाई रैशेज

1. कोल्ड कंप्रेस (cold compress)

इनर थाई रैशेज को हील करने के लिए आप इसपर ठंडी सिकाई यानी कि कोल्ड कंप्रेस अप्लाई कर सकती हैं। इससे राजेश दब जायेंगे और इनकी हीलिंग स्पीड भी बढ़ती है। रैशेज पर डायरेक्ट बर्फ अप्लाई न करें, इसे किसी कॉटन के कपड़े में बांधकर अपने रैशेज की सिकाई करें।

2. टी ट्री ऑयल (tea tree oil)

टी ट्री ऑयल में एंटीमाइक्रोबॉयल, एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल प्रॉपर्टी पाई जाती है, इन्हे इनर थाई रैशेज पर अप्लाई करने से उन्हे हील होने में मदद मिलती है। इन्हे डायरेक्ट अप्लाई न करें, आप कोकोनट ऑयल या पानी में टी ट्री ऑयल को डाइल्यूट करके इसे अप्लाई कर सकती हैं।

3. कुछ दिन सेक्स न करें

रैशेज होने पर यदि आप सेक्स करती हैं, तो इस स्थिति में आपके रैशेज में फ्रिक्शन पैदा होता है। जिससे आपकी स्किन अधिक इरिटेट हो सकती है और रैशेज फैल सकते हैं। इसलिए रैशेज के हील होने तक सेक्स से परहेज रखने की कोशिश करें।

inner-thigh
टाइट कपडे पहनने से बचें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

4. पाउडर अप्लाई करें

इनर थाई में अधिक पसीना आता है और पसीने के कारण रैशेज और ज्यादा इरिटेट हो सकती हैं। इसलिए इस एरिया को पूरी तरह से ड्राई रखना जरूरी है। इसमें पाउडर आपकी मदद कर सकता है। पाउडर मॉइश्चर को अब्जॉर्ब कर लेता है और रैशेज को पूरी तरह से ड्राई रहने में मदद करता है, जिससे कि रैशेज जल्दी हिल हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: इन 6 तरह के ऑर्गेज्म का आनंद ले सकती हैं महिलाएं, जानिए फीमेल ऑर्गेज्म के बारे में कुछ जरूरी बातें

  • 124
लेखक के बारे में

इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट अंजलि फूड, ब्यूटी, हेल्थ और वेलनेस पर लगातार लिख रहीं हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख