मेनोपॉज के बाद भी आईवीएफ से बन सकतीं है मां, एक्सपर्ट से जानें किन चुनौतियों का करना पड़ता है सामना

क्या IVF के मामले में बहुत देर हो चुकी होती है? क्या रजोनिवृत्ति तक पहुँच चुके लोग अभी भी IVF का उपयोग कर सकते हैं? चलिए जानते है इस विषय पर कुछ बातें।
IVF ke bare me kuchh myths prachalit hain
मेनोपॉज के बाद IVF संभव है, और ऐसी कई महिलाएं हैं जिन्होंने इसे सफलतापूर्वक किया है।चित्र: शटरस्टॉक
संध्या सिंह Published: 4 Jun 2024, 20:00 pm IST
  • 137

प्रेगनेसी होना हमेशा उतना आसान नहीं होता जितना लगता है। हालाँकि, टेकनॉलोजी में प्रगति नें हमे और ज्यादा विकल्प दिए है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, दुनिया भर में लगभग छह में से एक व्यक्ति इनफर्टिलिटी का अनुभव करता है। इन लोगों को इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) जैसी सेवाओं से बहुत फ़ायदा होता है। आजकल वैसे भी लोग करियर की चिंता के कारण शादी देर से करते है और बच्चे और ज्यादा लेट करते है। जिससे प्रजनन क्षमता समय के साथ कम हो जाती है।

लेकिन क्या IVF के आने के बाद भी बच्चा में देरी करने के लिए सोचना पड़ता है। क्या मेनोपॉज के बाद भी IVF की मदद से बच्चा पैदा किया जा सकता है। तो चलिए बताते है आपको IVF के बारे में और ये किस उम्र तक आपके लिए काम कर सकता है।

चलिए जानते है क्या है (आईवीएफ) IVF

इससे पहले कि हम आज के सवाल पर चर्चा करें, आइए आईवीएफ के बारे में थोड़ा विस्तार से जानते हैं। आईवीएफ या इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन एक सहायक प्रजनन तकनीक (एआरटी) है, जो काफी जटिल है।

आईवीएफ में औसतन चार से छह सप्ताह लगते हैं, लेकिन कई लोगों को कई चक्रों से गुजरना पड़ता है। इसमें अंडे को निकालने, फर्टिलाइज्ड करने और स्थानांतरित करने से पहले अंडे की परिपक्वता को प्रोत्साहित करने के लिए हार्मोन का उपयोग किया जाना शामिल है।

इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने बात की गायनेकोलॉजिस्ट रितु सेठी से। उन्होंने बताया कि मेनोपॉज के बाद आईवीएफ से बच्चा पैदा करना पूरी तरह से सुरक्षित है, लेकिन शरीर के हिसाब से थोड़े जोखिम हो सकते है।

IVF mei hone waali complications
यहां जानिए आईवीएफ के दौरान होने वाली कॉम्प्लिकेशंस के बारे में। चित्र : शटरस्टॉक

पहले आईवीएफ की प्रक्रिया को समझते है

  1. आपके मैनस्ट्रुअल साइकिल के समय को रेगुलेट करने में मदद करने के लिए अक्सर पहले एस्ट्रोजन या गर्भनिरोधक गोलियों का उपयोग किया जाता है।
  2. अंडे की परिपक्वता को प्रोत्साहित करने में मदद करने के लिए ओवेरियन उत्तेजक हार्मोन आठ से चौदह दिनों तक लिया जाता है। अल्ट्रासाउंड और बल्ड टेस्ट के माध्यम से आपकी प्रगति की निगरानी की जाती है।
  3. अंडे की पुनर्प्राप्ति आमतौर पर हल्के एनेस्थीसिया के तहत की जाती है, आपके अंतिम हार्मोन इंजेक्शन के 36 घंटे बाद जिसे “ट्रिगर शॉट” के रूप में जाना जाता है। आपका डॉक्टर आपकी योनि के माध्यम से आपके अंडाशय में एक पतली सुई डालता है। सुई से जुड़ा एक सक्शन डिवाइस होता है जो प्रत्येक कूप से अंडों को बाहर खींचता है।
  4. पुनर्प्राप्ति के बाद, आपका डॉक्टर एकत्रित किए गए सभी परिपक्व अंडों को फर्टिलाइज करने का प्रयास करता है। यह आपके पार्टनर के स्पर्म या किसी स्पर्म डोनर से किया जा सकता है। एकत्रित किए गए परिपक्व अंडों में से औसतन 70% फर्टिलाइज होकर भ्रूण बन जाएंगे।
  5. भ्रूण अगले पांच से छह दिनों में विकसित होंगे, जिनमें से लगभग 50% ब्लास्टोसिस्ट चरण तक विकसित होंगे।
  6. भ्रूण स्थानांतरण ताजा या जमे हुए भ्रूण का उपयोग करके किया जाता है। जमे हुए भ्रूण स्थानांतरण के सफल होने की संभावना अधिक होती है।
  7. एक सफल भ्रूण स्थानांतरण के परिणामस्वरूप प्रेगनेंसी और बच्चे के जन्म होने की संभावना होती है।

क्या मेनोपॉज के बाद IVF संभव है

उत्तर है हाँ, मेनोपॉज के बाद IVF संभव है, और ऐसी कई महिलाएं हैं जिन्होंने इसे सफलतापूर्वक किया है। चेतावनी यह है कि वे अपने स्वयं के अंडों का उपयोग करने में सक्षम नहीं हैं।

एक बार जब कोई व्यक्ति मेनोपॉज तक पहुंच जाता है, तो उसके पास आमतौर पर 1,000 से कम अंडे बचे होते हैं। इस वजह से, उन्हें फ्रोडन एगग डोनर का उपयोग करना होगा, जिसका अर्थ है कि वे IVF प्रक्रिया के पहले तीन चरणों को छोड़ देंगे।

डोनर अंडे किसी ऐसे व्यक्ति से आ सकते हैं जिसे वे जानते हैं, जैसे कि कोई मित्र या परिवार का सदस्य।

यदि सब ठीक रहा और आप स्वस्थ भ्रूण प्राप्त करने में सक्षम हैं, तो आप भ्रूण स्थानांतरण और संभावित गर्भावस्था के साथ आगे बढ़ सकते हैं।

IVF ke dauran apko apni diet ka bhi bahut khyal rakhna hai
आईवीएफ के दौरान आपको अपनी डाइट का भी बहुत ख्याल रखना है।चित्र : अडोबी स्टॉक

मेनोपॉज के बाद IVF के जोखिम

एक अध्ययन में पाया गया कि 40 वर्ष और उससे अधिक उम्र की माताओं में कम वजन वाले और समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं के जन्म का जोखिम काफी अधिक होता है। उनमें गर्भावती डायबिटीज, हृदय रोग, प्रीक्लेम्पसिया का जोखिम भी अधिक होता है।

कोलंबिया यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर के एक अन्य अध्ययन में 50 वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं पर स्टडी किया गया, जिन्होंने IVF उपचार लिया और पाया कि मेनोपॉज के बाद की महिलाओं और उनके शिशुओं के परिणाम 42 वर्ष से कम उम्र की महिलाओं की तुलना में बेहतर थे।

ये भी पढ़े- इन 6 तरह के ऑर्गेज्म का आनंद ले सकती हैं महिलाएं, जानिए फीमेल ऑर्गेज्म के बारे में कुछ जरूरी बातें

  • 137
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख