लो लिबिडो और इनफर्टिलिटी का कारण बन सकता है योनि का सूखापन, यहां जानिए कैसे 

Updated on: 11 July 2022, 23:10 pm IST

योनि का सूखापन खुजली और दर्द की वजह बन सकता है जिसे कभी भी नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। योनि की नमी कम होना अक्सर संभोग को भी दर्दनाक बना देता है।

वेजाइनल ड्राइनेस बन सकती है इन्फर्टिलिटी की वजह, चित्र: शटरस्टॉक

सामान्य परिस्थितियों में, वेजाइनल फ्लूइड योनि की परत को चिकनाई देता है। इसे चिकना और लोचदार रखता है। वेजाइनल कैनाल को चिकनाई देने के अलावा ग्रीवा द्रव (vaginal fluid) के और काम भी हैं। विशेषज्ञों के अनुसार, यह शुक्राणु के लिए अंडे तक पहुंचना और उसे निषेचित करना भी आसान बनाता है। कम शुक्राणु वाले लोगों के लिए यह महत्वपूर्ण है। पर तब क्या होता है, जब यह पूरी तरह नहीं बन पाता? क्या योनि का सूखापन महिलाओं में बांझपन (Vaginal dryness and infertility) का भी कारण बन सकता है? आइए चेक करते हैं। 

क्यों होता है योनि में सूखापन 

 “योनि का सूखापन गर्भाशय ग्रीवा के तरल पदार्थ के कम होने या न होने के कारण होता है। योनि का सूखापन महिला हार्मोन एस्ट्रोजन के कारण होता है, जो ग्रीवा द्रव उत्पादन को नियंत्रित करता है। 

डॉ अंजलि कुमार (फाउंडर प्रसूति एवं स्त्री रोग सलाहकार मैत्री वुमंस हेल्थ, गुड़गांव) के अनुसार, तनाव, नशीली दवाओं के दुष्प्रभाव, हार्मोनल चेंज, या यहां तक ​​​​कि फोरप्ले की कमी भी इसकी वजह हो सकती है।

विशेषज्ञ बताते हैं कि मेनोपॉज से पहले फेमिनिन स्प्रे, हार्श साबुन, स्विमिंग पूल और हॉट टब केमिकल्स और कुछ वाशिंग पाउडर के उपयोग योनि के सूखेपन की वजह बन सकते हैं।

 डॉ अंजलि कहती हैं, “रजोनिवृत्ति से पहले कम एस्ट्रोजन स्तर वाली महिलाएं, स्तनपान कराने वाली मां, हिस्टरेक्टॉमी से गुजरने वाली महिलाएं और कीमोथेरेपी का अनुभव करने वाली महिलाओं को योनि सूखापन का अनुभव हो सकता है।” वह बताती हैं कि योनि का सूखापन प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित कर सकता है।

क्या योनि का सूखापन प्रजनन क्षमता को प्रभावित कर सकता है? 

योनि के सूखेपन से निपटने के दौरान सबसे पहला सवाल जो दिमाग में आता है, वह है, “क्या योनि का सूखापन बांझपन का सूचक हो सकता है? योनि का सूखापन बांझपन का कारण नहीं है लेकिन सपोर्टिंग रीज़न हो सकता है। 

vaginal-moisturiser
वेजाइनल मौश्चराइज़र का इस्तेमाल कर वेजाइनल ड्राईनेस का समाधान हो सकता है, चित्र: शटरस्टॉक

गर्भाशय ग्रीवा में ल्यूब्रिकेंट का होना गर्भावस्था के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह शुक्राणु को गर्भाशय ग्रीवा से गर्भाशय में और फिर फैलोपियन ट्यूब में जीवित रहने और तैरने की सहुलियत देता है। इसकी कमी आपकी सेक्स ड्राइव को कम कर सकती है। यदि आप स्वाभाविक रूप से गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, तो वेजाइनल ड्राईनेस एक गंभीर समस्या हो सकती है। जिसमें जलन और खुजली भी हो सकती है। 

वेजाइना का सूखापन एक आम समस्या है, लेकिन अच्छी बात है यह है कि इसका इलाज किया जा सकता है। टॉपिकल एस्ट्रोजन थेरेपी योनि के सूखेपन के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली थेरेपी में से एक है। इसके अलावा भी कुछ उपाय हैं जो इसके लिए काम कर सकते हैं: 

यहां जानिए योनि के सूखेपन से निपटने के उपाय 

 गोलियां : एक डिस्पोजेबल एप्लीकेटर के साथ वेजाइनल कैनाल में डाली जाती है।

 क्रीम: योनि क्षेत्र में एक विशिष्ट एप्लीकेटर के साथ प्रयोग किया जाता है।

 जल-आधारित स्नेहक(water based lubricant): अस्थायी हार्मोनल परिवर्तनों, जैसे प्रसव या स्तनपान के कारण योनि के सूखेपनकी समस्या हो सकती है।

हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी: यह रजोनिवृत्ति के कारण योनि के सूखेपन के लिए एक प्रभावी उपचार हो सकता है। यह आपके हार्मोन को संतुलित करने में मदद करता है, जिससे योनि का गीलापन और यौन इच्छा में सुधार हो सकता है।

 केमिकल को कहें ना – केमिकल का इस्तेमाल योनि में जलन पैदा कर सकते हैं और इस तरह के लक्षणों को बढ़ा सकते हैं। डूश, शुक्राणुनाशक कंडोम, और अन्य शुक्राणुनाशक उत्पाद वेजाइनल इचिंग की वजह बन सकता है।

तनाव से राहत – तनाव से राहत देने वाली रणनीतियों को सीखने से योनि का सूखापन कम करने और सेक्स प्लेज़र बढ़ाने में मदद मिल सकती है।

वेजाइनल मॉइश्चराइज़र – योनि के लिए मॉइश्चराइजर का इस्तेमाल हर हफ्ते दो से तीन बार किया जा सकता है और यह तीन दिनों तक चल सकता है। जो संवेदनशील क्षेत्रों को बहुत आराम देता है और योनि के सूखेपन को गंभीर होने से रोकता है।

यह भी पढ़ें:डायबिटीज है और आलू खाने की शौकीन हैं, तो जानिए इसे आहार में शामिल करने का सही तरीका 

शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें