आपकी फर्टिलिटी और मेंटल हेल्थ को भी प्रभावित कर सकता है मोटापा, यहां जानिए कैसे

Published on: 4 March 2022, 21:00 pm IST

मोटापा केवल शरीर पर एक्स्ट्रा फैट और वजन बढ़ाना नहीं होता। यह कई अन्य शारीरिक जोखिमों का कारण बन सकता है। अस्वस्थ हृदय और जोड़ों के दर्द के अलावा यह आपकी प्रजनन क्षमता और मानसिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित करता है।

ObesitPregnancy mein complications ho sakta hai y Intimate aur mental health ko prabhavit karta hai
गर्भावस्था में जटिलताएं अक्सर महिलाओं को हो सकती हैं। चित्र:शटरस्टॉक

आज के दौर की जीवन शैली और खानपान के तरीकों के कारण मोटापा (Obesity) वैश्विक महामारी का रूप ले रहा है। भारत में मोटापे का दर तेजी से बढ़ रहा है और वह समय दूर नहीं जब लगभग हर व्यक्ति इस परेशानी से जूझ रहा होगा। लेकिन क्या आप मोटापे को केवल बढ़ते बॉडी मास इंडेक्स से जोड़ते हैं? यह सिर्फ यही तक सीमित नहीं है।

आपने सुना होगा कि मोटापा कई बीमारियों का घर है। यह सही भी है। मोटा होने से हृदय स्वास्थ्य, पेट संबंधी सेहत और हड्डियों पर जोर पड़ता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह आपकी फर्टिलिटी (Fertility) और मानसिक स्वास्थ्य (Mental health) को भी प्रभावित कर सकता है? इससे संबंधित कई शोध आपके सवाल का जवाब दे सकते हैं।

आपकी प्रजनन क्षमता को कमजोर करता है मोटापा

मोटापा और अधिक वजन का प्रचलन बढ़ रहा है और यह दुनिया भर में एक महामारी बन गया है। मोटापा प्रजनन स्वास्थ्य सहित सभी प्रणालियों पर हानिकारक प्रभाव डालता है। बांझ महिलाओं में मोटापे का प्रचलन अधिक है, और यह प्रमाणित है कि मोटापे और बांझपन के बीच एक संबंध है।

जर्नल ऑफ टर्किश जर्मन गाइनेकोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार अधिक वजन वाली महिलाओं में मासिक धर्म की शिथिलता और एनोव्यूलेशन की घटना अधिक होती है। अधिक वजन और मोटापे से ग्रस्त महिलाओं में प्रजनन स्वास्थ्य के लिए उच्च जोखिम होता है। इन महिलाओं में बांझपन, गर्भाधान दर, गर्भपात दर और गर्भावस्था की जटिलताओं का खतरा बढ़ जाता है। वजन घटाने पर इन रोगियों में प्रजनन परिणामों पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है।

Obesity Fertility par hanikarak prabhav daalta hai
मोटापा प्रजनन स्वास्थ्य पर हानिकारक प्रभाव डालता है। चित्र:शटरस्टॉक

प्रजनन क्षमता से जूझ रहे जोड़ों के लिए, एक असंभावित उपकरण है, जो मदद कर सकता है। वह है वजन नापने की मशीन। जी हां, यह सही बात है। अधिक वजन या मोटा होना एक स्त्री की गर्भवती होने की क्षमता को प्रभावित कर सकता है।

अमेरिकन सोसायटी फॉर रिप्रोडक्टिव मेडिसिन (ASRM) का कहना है कि वास्तव में, मोटापा 6% महिलाओं में प्रजनन संघर्ष का कारण है, जो पहले कभी गर्भवती नहीं हुई हैं। यह एक महिला के शरीर में सेक्स हार्मोन को स्टोर करने के तरीके को बदलकर बांझपन को प्रभावित करता है। मोटापा इस तरह से महिला के रिप्रोडक्टिव हेल्थ को प्रभावित कर सकता है:

फैट सेल्स एक पुरुष हार्मोन जो एंड्रोस्टेनिओन के रूप में जाना जाता है को एस्ट्रोन नामक एक महिला हार्मोन में परिवर्तित करता है। एस्ट्रोन मस्तिष्क के उस हिस्से के मेटाबॉलिज्म को प्रभावित करता है, जो ओवरी के कार्य को नियंत्रित करता है। यह प्रजनन कार्य को ख़राब कर सकता है।

पीसीओएस (PCOS) भी दे सकता है मोटापा

मोटापा और बांझपन का एक अजीब संबंध भी हो सकता है। पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम (PCOS) जैसी स्वास्थ्य स्थितियां भी अधिक वजन का देन है। यह एक हार्मोनल विकार है जो अंडाशय पर अल्सर पैदा कर सकता है। जबकि पीसीओएस का कारण अज्ञात है, पीसीओएस का एक साइड इफेक्ट मोटापा है।

नेशनल इनफर्टिलिटी एसोसिएशन बताता है कि पीसीओएस रोगियों में मोटापा आम है, इस स्थिति से 50 से 60 प्रतिशत महिलाएं प्रभावित होती हैं। अगर महिला मोटापे से ग्रस्त है तो इसके लक्षण और भी खराब हो सकते हैं।

मानसिक स्वास्थ्य में गिरावट का कारण है मोटापा

अतिरिक्त वजन के शारीरिक परिणाम आप सबको पता है। टाइप 2 मधुमेह से लेकर, हृदय संबंधी समस्याएं और ऑस्टियोआर्थराइटिस। फिर भी हमारे मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव पर उतना ध्यान नहीं दिया जाता है। अपनी शारीरिक चुनौतियों के अलावा, मोटापे से ग्रस्त लोग अक्सर मूड डिसॉर्डर और एंजाइटी से जूझते हैं।

Mental health mein giravat ka kaaran hai motapa
मानसिक स्वास्थ्य में गिरावट का कारण है मोटापा। चित्र: शटरस्टॉक।

ओबेसिटी एंड डिप्रेशन नामक अध्ययन में पाया गया कि अधिक वजन वाले वयस्कों में मोटापे से संघर्ष नहीं करने वाले लोगों की तुलना में अपने जीवनकाल में डिप्रेशन विकसित होने का जोखिम 55% अधिक था।

अन्य शोध अवसाद, बाइपोलर विकार, और पैनिक डिसॉर्डर या एगोराफोबिया में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ अधिक वजन से जुड़े हुए हैं।

मोटापा मानसिक स्वास्थ्य समस्याओं का कारण कैसे बनता है?

ऐसे कई प्रैक्टिकल और सामाजिक कारक हैं जो मोटापे से ग्रस्त रोगियों के लिए मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं। इसमें शामिल है:

1. जीवन की गुणवत्ता

जिन महिलाओं का अत्यधिक वजन होता है, उन्हें अक्सर अपने आकार और पुरानी बीमारियों के कारण शारीरिक और व्यावसायिक कामकाज से संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अपने पसंदीदा कामों को करने में शारीरिक रूप से असमर्थ होना उनमें से एक है। इनमें मज़ेदार कार्यक्रमों में भाग लेना, यात्रा करना, या दोस्तों और परिवार के साथ यात्रा करना शामिल है। सामाजिक अलगाव, अकेलापन और जीवन की कठिनाइयों का सामना करने में अधिक कठिनाई पैदा कर सकता है।

2. वजन संबंधी भेदभाव

वजन के मुद्दों से जूझ रहे लोगों के लिए सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक मोटापे पर समाज का नकारात्मक दृष्टिकोण है। यह उन रूढ़ियों और दृष्टिकोणों को संदर्भित करता है जो मोटापे से ग्रस्त लोगों को अनाकर्षक, आलसी और अनुशासनहीन के रूप में परिभाषित करते हैं। ये गलत धारणाएं परिवारों के बीच, साथियों के बीच और कार्यस्थल में में व्यापक हो सकती हैं। वे भेदभावपूर्ण व्यवहार को जन्म दे सकते हैं जो किसी व्यक्ति के आत्म-सम्मान और यहां तक ​​​​कि उन्हें मिलने वाली रोजगार के अवसरों को प्रभावित करता है।

Body shaming ka shikaar na bane
बॉडी शेमिंग का शिकार न बनें। चित्र:शटरस्टॉक

3. खराब बॉडी इमेज

वजन से संबंधित भेदभाव और खराब बॉडी इमेज साथ-साथ चलती है। रोगी मोटापे के प्रति समाज के कलंक को आंतरिक रूप से ले सकते हैं। इससे उन्हें अपने वजन के बारे में शर्मिंदगी महसूस होती है और वे अपनी उपस्थिति से असंतुष्ट होते हैं। जो लोग अधिक वजन के साथ संघर्ष करते हैं, वे इस बात पर भी चिंता का अनुभव कर सकते हैं कि वे कैसे दिखते हैं।

लेडीज, अपनी सेहत की जिम्मेदारी लें

कभी-कभी प्रजनन और मानसिक चुनौतियों का समाधान स्वस्थ वजन प्राप्त करने से शुरू होता है। वजन कम करना एक सरल थ्योरी है, लेकिन इसका अभ्यास करना हमेशा आसान नहीं होता है। यदि आपके आहार में बदलाव और व्यायाम से काम नहीं बन रहा है, तो आप अपने डॉक्टर से बात कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों होता है निपल्स में दर्द? एक्सपर्ट से जानिए क्या है इसके पीछे का कारण

अदिति तिवारी अदिति तिवारी

फिटनेस, फूड्स, किताबें, घुमक्कड़ी, पॉज़िटिविटी...  और जीने को क्या चाहिए !

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स
पीरियड ट्रैकर के साथ।

ट्रैक करें