और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

इस शोध के अनुसार यौन उत्पीड़न स्ट्रोक और डिमेंशिया को जन्म दे सकता है

Published on:1 October 2021, 19:08pm IST
जिन महिलाओं ने यौन हिंसा का अनुभव किया है, उनके मस्तिष्क में रक्त प्रवाह में रुकावट विकसित होने की संभावना अधिक होती है, जो मनोभ्रंश और स्ट्रोक जैसे विकारों में योगदान कर सकती है।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 101 Likes
sexual assualt ko rokne ki zarurat hai
यौन उत्पीड़न जीवन भर मानसिक और यौन स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

यूएस सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (CDC) द्वारा प्रकाशित आंकड़ों के मुताबिक
उत्तरी अमेरिका में तीन में से एक महिला अपने जीवन में कम से कम एक बार यौन हिंसा का अनुभव करती है। संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूएन वीमेन का कहना है कि विश्व स्तर पर, यह संख्या लगभग समान है। दुनिया में अनुमानित 736 मिलियन महिलाओं को “ इंटीमेट पार्टनर की हिंसा, अनजान व्यक्ति की यौन हिंसा, या कम से कम एक बार दोनों ही परिस्थिति का सामना करना पड़ा है।

यह संख्या 15 वर्ष और उससे अधिक आयु की लड़कियों का 30% है

यह एक विकराल समस्या है। अब, एक अमेरिकी अध्ययन में पाया गया है कि यौन हिंसा का अनुभव करने वाली महिलाओं को हमलों के दौरान लगी चोटों के साथ – साथ पोस्ट-ट्रॉमेटिक स्ट्रेस डिसऑर्डर, चिंता या अवसाद जैसे मानसिक स्वास्थ्य परिणामों से अधिक का सामना करना पड़ सकता है। उन्हें एक निश्चित प्रकार के मस्तिष्क रोग का भी अधिक जोखिम हो सकता है जो मनोभ्रंश और स्ट्रोक का कारण बन सकता है।

sexual assault
यह आपके भावनात्मक स्वास्थ्य के लिए कठिन है। चित्र: शटरस्‍टॉक

अध्ययन की प्रमुख लेखिका पिट्सबर्ग विश्वविद्यालय की रेबेका थर्स्टन कहती हैं, “यौन हमला महिलाओं के लिए एक दुर्भाग्यपूर्ण, फिर भी सर्व-सामान्य अनुभव है।”

“यह परेशान करने वाला अनुभव न केवल महिलाओं के मानसिक स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है, बल्कि उनके मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए भी घातक है। यह काम महिलाओं में स्ट्रोक और मनोभ्रंश के लिए एक नए जोखिम कारक की पहचान करने की दिशा में एक बड़ा कदम है,” थर्स्टन कहते हैं।

ट्रॉमा मस्तिष्क में रक्त प्रवाह को बाधित कर सकता है

थर्स्टन मनोचिकित्सा के प्रोफेसर हैं और पिट्सबर्ग विश्वविद्यालय में महिला जैव-व्यवहार स्वास्थ्य प्रयोगशाला के निदेशक हैं। उन्होंने नॉर्थ अमेरिकन मेनोपॉज सोसाइटी की 2021 की बैठक में नतीजे पेश किए। इसे ब्रेन इमेजिंग एंड बिहेवियर जर्नल में प्रकाशित किया जाएगा।

sexual assault
यह आपकी मेंटल हेल्थ के लिए सही नहीं है. चित्र : शटरस्टॉक

इस अध्ययन के द्वारा शोधकर्ता यह पता लगाना चाहते थे कि क्या ट्रॉमा और श्वेत पदार्थ की उच्च तीव्रता के बीच कोई संबंध है। जो रक्त प्रवाह में व्यवधान के संकेत हैं और मस्तिष्क में क्षति पैदा कर सकते हैं।

प्रतिभागियों के मस्तिष्क स्कैन से पता चला है कि जिन महिलाओं ने ट्रॉमा का अनुभव किया था, उनमें बिना ट्रॉमा वाली महिलाओं की तुलना में अधिक श्वेत पदार्थ की उच्चता थी। श्वेत पदार्थ की उच्चता से जुड़ा विशिष्ट दर्दनाक अनुभव यौन हमला था।

उच्च जोखिम का जल्द पता लगाने के लिए महत्वपूर्ण डेटा

2018 में पहले के एक अध्ययन में, थर्स्टन ने पाया था कि जिन महिलाओं ने यौन उत्पीड़न का अनुभव किया था, उनमें डिप्रेशन या एंग्जायटी विकसित होने की संभावना काफी अधिक थी। उन महिलाओं की तुलना में अधिक खराब नींद थी, जिन पर हमला नहीं किया गया था। अवसाद, चिंता और नींद संबंधी विकार सभी को खराब समग्र स्वास्थ्य से जोड़ा गया है।

यह भी पढ़ें : Breast Cancer Awareness Month : निप्पल में दर्द के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं ये 7 कारण

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।