हर 10 में से 8 महिलाएं जूझ रहीं हैं वेजाइनल ड्रायनेस से, जानिए इसका कारण और बचाव के उपाय 

वेजाइनल ड्रायनेस होती है आपके लुब्रिकेशन सर्वाइकल सर्विक्‍स के कारण, जो बढ़ा सकती है आपके वेजाइना में खुजली,जलन आदि की समस्या।
लेबिया पर पिंपल्स परेशान कर सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
प्रेरणा मिश्रा Updated on: 10 December 2020, 13:48 pm IST
ऐप खोलें

वूमेन हेल्थ कंसर्न के अनुसार 50 से 60 वर्ष से ऊपर की महिलाओं को वेजाइनल ड्रायनेस की परेशानी का अधिक सामना करना पड़ता है, परन्तु यह जरूरी नहीं कि सिर्फ उनमें ही यह समस्या देखी जाए। असल में यह समस्या 17% महिलाएं जो 18 से 50 की उम्र के बीच की है उनमें भी देखी जा सकती है बस जरूरी यह है कि आप इसके संकेतों को समझे।

क्यों होती है वेजाइनल ड्रायनेस?

वेजाइनल ड्रायनेस महिलाओं में एक आम समस्‍या है, जो अधिकतर 10 में से 8 महिलाओं में देखने को मिल जाती है। इसकी सबसे महत्वपूर्ण वजह लुब्रिकेशन की कमी होती है।

वेजाइना से होने वाला संक्रमन हो सकता है खतरनाक, सही इलाज की पड़ती है आवश्यकता। चित्र: शटरस्‍टॉक

आपके एस्ट्रोजेन में भी कमी होती है यह स्तनपान, मेनोपॉज, स्मोकिंग, इम्यून डिसऑर्डर या एंटी एस्ट्रोजेन दवाईयो के कारण हो सकती है।

वेजाइनल ड्रायनेस के संकेत

1.सेक्स के दौरान दर्द महसूस होना

वेजाइनल ड्रायनेस के दौरान अगर आप अपने पार्टनर के साथ शारीरिक संबंध बनाने है तो, योनि में आपको दर्द महसूस होता है, क्योंकि आपकी योनि में मौजूद नमी खत्म हो जाती है, जिसका असर आपकी सेक्स लाइफ पर भी पड़ता है।

2.सेक्‍स के अलावा भी दर्द महसूस होना

कई मामलों में योनि का सूखापन न केवल सेक्स के दौरान दर्द का कारण बनता है, बल्कि यह बैठने, खड़े होने, व्यायाम, पेशाब करने या यहां तक ​​कि काम करने में भी असहजता के लिए जिम्‍मेदार हो सकता है।

योनि मे दर्द होना अक्सर योनि ड्राइनेस का कारण हो सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

वेजाइनल ड्रायनेस रोजमर्रा की जिंदगी को प्रभावित कर सकती है, चाहे महिलाएं यौन सक्रिय हों या नहीं। इससे जीवन की गुणवत्ता पर हानिकारक प्रभाव पड़ सकता है।

3.योनि में परिवर्तन 

वेजाइनल ड्रायनेस के कारण योनि और योनि के आस पास की जगह में बदलाव दिखने लगते हैं। वल्वा के आकार में परिवर्तन आने लगते है और यह पतले दिखने लगते हैं।

4.वेजाइनल डिस्चार्ज में परिवर्तन

कुछ महिलाओं को यह भी अनुभव होता है कि उनके वेजाइनल डिस्चार्ज में परिवर्तन हो रहा है, जो अधिक वॉटरी, डिस कलर्ड और थोड़ा बदबूदार हैं और उनमे इरीटेशन और जलन का अनुभव हो सकता है।

ख्याल रखे अपना और अपने योनि का। चित्र: शटरस्टॉक

ये लक्षण चिंताजनक हो सकते हैं। कई बार ये बदलाव हार्मोनल परिवर्तन के कारण भी हो सकते हैं। 

5.भावनात्मक प्रभाव 

 योनि का सूखापन महिलाओं को अलग तरह से भावनात्‍मक दबाव में ला देता है। शरीर में परिवर्तन को स्वीकार करना मुश्किल हो सकता है और स्थिति के कारण होने वाले दर्द और परेशानी से आत्मविश्वास और यौन आत्मविश्वास में कमी हो सकती है।

वेजाइनल ड्रायनेस से बचने के उपाय

वेजाइनल ड्रायनेस के यह संकेत अगर आप में दिख रहे तो सबसे पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें। बिना डॉक्टर की सलाह के किसी भी तरह का उपचार स्वयं न करें। तब तक सुगंधित साबुन से बचें। 

जलन से बचने के लिए जरूरी है वेजाइनल एरिया को साफ और सूखा रखें। 

सेक्‍स के दौरान वेजाइनल ड्रायनेस से होने वाली परेशानी से बचने के लिए आप ल्‍युब का इस्‍तेमाल कर सकती हैं। 

तेज मसालों और प्रोसेस्‍ड फूड से बचें, ये आपकी योनि के पीएच लेवल को डिस्‍टर्ब करते हैं। 

योनि मे खुजली,जलन जैसी परेशानी का कारण योनि में ड्राइनेस हो सकती है।चित्र: शट्टरस्टॉक

डियल लेडीज़, आपकी इंटीमेट समस्‍याएं आपके आपकी डेली लाइफ और आत्‍मविश्‍वास दोनों को प्रभावित करती हैं। इन पर झिझकने और इन्‍हें छुपाने की बजाए इन पर बात करना और समाधान तलाशना ज्‍यादा जरूरी है। 

यह भी देखे: डियर लेडीज, वेजाइनल डिस्‍चार्ज को लेकर परेशान हैं, तो इसे ध्‍यान से पढ़ें 

लेखक के बारे में
प्रेरणा मिश्रा

हेल्‍दी फूड, एक्‍सरसाइज और कविता - मेरे ये तीन दोस्‍त मुझे तनाव से बचाए रखते हैं।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story