डियर लेडीज, वेजाइना को जलने और रैशेज से बचाना है, तो इन फूड्स पर दें ध्यान 

जब आप अनहेल्दी फूड्स को लगातार खाती हैं, तो इसका खामियाजा आपके योनि स्वास्थ्य को भी भुगतना पड़ता है। इसलिए हेल्दी वेजाइना के लिए हेल्दी  फूड्स पर ध्यान देना जरूरी है। 
पोषक तत्वों से भरपूर खाद्य पदार्थ योनि स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं। चित्र: शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published on: 12 August 2022, 22:00 pm IST
ऐप खोलें

हम जो खाते हैं, उसका प्रभाव शरीर के सभी अंगों पर पड़ता है। जाहिर है, आहार में जितने भी खाद्य-पदार्थ हम लेते हैं, उन सभी का प्रभाव हमारे योनि स्वास्थ्य (Vaginal health) पर भी पड़ता है। यह सच है कि योनि को साफ करने की कोई जरूरत नहीं है। कुदरती तौर पर गुड बैक्टीरिया की वजह से योनि क्षेत्र का पीएच बैलेंस हो जाता है और सफाई भी हो जाती है। पर जब आहार में पोषक तत्वों की कमी होती है, तो इसके कारण योनि स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे इंफेक्शंस, फंकी स्मेल जैसी समस्याओं से जूझना पड़ता है। आइए जानते हैं कि योनि स्वास्थ्य के लिए हमें किन-किन फूड्स को अपनी डाइट में शामिल (Foods for healthy vagina) करना चाहिए।

क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट डाॅ. लवनीत बत्रा हेल्थ शॉट्स (Nutri Bytes Video) से कहती हैं, हमें अपने आहार में विटामिन, मिनरल्स से भरपूर खाद्य पदार्थों को शामिल करना चाहिए। इससे फिजिकल, मेंटल हेल्थ के साथ-साथ वेजाइनल हेल्थ प्रॉब्लम्स से भी बचाव होता है।

यहां हैं योनि को स्वस्थ रखने वाले 5 फूड्स

1 कोकोनट ऑयल (Coconut Oil)

एंटी फंगल और एंटी बैक्टीरियल कोकोनट ऑयल वेजाइनल हेल्थ के लिए सुपरफूड के समान है। यदि योनि क्षेत्र में ड्रायनेस और इचिंग महसूस हो रही है, तो कोकोनल ऑयल को डेली रूटीन में शामिल करें।

कैसे करें प्रयोग

ऑयल पुलिंग करें।

मुंह में एक टेबलस्पून कोकानट ऑयल डालें।

तेल को मुंह में इधर-उधर घुमाते हुए 15 मिनट बाद फेंक दें।

इसके बाद साफ और गुनगुने पानी से कुल्ला कर लें।

यह गट हेल्थ के साथ-साथ वेजाइनल हेल्थ के लिए भी प्रभावी है।

इसके अलावा, रोज सुबह खाली पेट 1 टीस्पून कोकोनट ऑयल पी भी सकती हैं।

2 लहसुन (Garlic)

जिंक, मैग्नीशियम, सेलेनियम से भरपूर लहसुन का एंटी-माइक्रोबियल गुण यीस्ट इंफेक्शन से लड़ने में मदद करता है।

कैसे करें प्रयोग

यदि आप कच्चे लहसुन का सेवन कर सकती हैं, तो रोज इसकी 3-4 कली खाली पेट चबाएं।

कम से कम 2 दिन अलग-अलग सब्जी, दाल में लहसुन का इस्तेमाल करें।

3 विटामिन ए और विटामिन सी के स्रोत फल और सब्जी (Vitamin A & Vitamin C food)

विटामिन ए और विटामिन सी से भरपूर फल और सब्जियां जैसे कि गाजर-मूली, पपीता, संतरा, स्ट्रॉबेरी खाने से बैक्टीरियल इंफेक्शन होने की संभावना नहीं रह जाती है।

कैसे करें प्रयोग

गाजर, पपीता, मूली, संतरा, स्ट्रॉबेरी आदि को कच्चे रूप में खाएं।

कच्चा पपीता और गाजर को स्टीम कर भी खा सकती हैं।

स्ट्रॉबेरी, ऑरेंज, पपीता से तैयार स्मूदी ले सकती हैं।

4 हरी सब्जियां (Green Vegetables) 

विटामिन ए, पोटैशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम से भरपूर हरी सब्जियां जैसे कि पालक, भिंडी, परवल, कुंदरु, बीन्स आदि योनि क्षेत्र को डिहाइड्रेटेड नहीं होने देती हैं। यह हर तरह के इंफेक्शंस से भी दूर रखती हैं।

हरी सब्जियां योनि स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती हैं। चित्र: शटरस्टॉक

कैसे करें प्रयोग

आप हरी सब्जियों को स्टीम करके अपने आहार में शामिल कर सकती हैं। 

हल्के तेल और मसाले में पकाकर भी सब्जियां खाने का सही तरीका है।

5 जिंक रिच फूड खाएं (Zinc Rich Food) 

बादाम, तिल, काला चना, मशरूम आदि जिंक रिच फूड हैं। इन सभी के सेवन से न सिर्फ आपका वजन कंट्रोल होगा, बल्कि वेजाइना भी हेल्दी होगी। इससे मेंटल हेल्थ में भी सुधार होगा।

कैसे करें प्रयोग

पानी में भिगोए हुए 4-5 बादाम को नियमित रूप से स्नैक्स के रूप में लें। इससे क्विक एनर्जी मिलेगी।

वेजाइना को इन्फेक्शन फ्री रखना चाहती हैं, तो अपनी डाइट में बादाम शामिल करें। चित्र: शटरस्टॉक

काला चना, मशरूम आदि को स्टीम कर या सब्जी रूप में खाया जा सकता है।

तिल को भी पानी में भिगोकर, रोटी-पराठे सिंकते समय एड कर खाया जा सकता है।

तिल को चटनी रूप में भी खाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें:-इम्युनिटी ही नहीं पार्टनर का स्पर्म काउंट भी बढ़ा सकता है कद्दू के पत्तों का साग, नोट कीजिए रेसिपी 

लेखक के बारे में
स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
Next Story