और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

जानिए 4 कारण कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं को ज्यादा क्यों होता है यूटीआई होने का खतरा

Published on:29 June 2021, 13:52pm IST
यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (यूटीआई) तब होता है जब बैक्टीरिया मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्र पथ में प्रवेश करते हैं और मूत्राशय में बढ़ना शुरू कर देते हैं। महिलाएं इसकी चपेट में ज्यादा आती हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 82 Likes
यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन. चित्र : शटरस्टॉक
यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन. चित्र : शटरस्टॉक

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (UTI) आपके यूरिनरी सिस्टम में एक इन्फेक्शन है, जिसमें किडनी, यूरेटर्स, ब्लैडर और यूरेथ्रा शामिल हैं। यूटीआई तब होता है जब बैक्टीरिया मूत्रमार्ग के माध्यम से मूत्र पथ में प्रवेश करते हैं और मूत्राशय में तेजी से अपनी संख्या बढ़ना शुरू कर देते हैं। मूत्र प्रणाली, डिजाइन द्वारा, ऐसे बैक्टीरिया को बाहर रखती है, कुछ मामलों में बैक्टीरिया मूत्र पथ में प्रवेश कर सकते हैं और संक्रमण का कारण बन सकते हैं।

अधिकांश लोग जानते हैं कि यूटीआई होने से क्या होता है, लेकिन बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि पुरुषों की तुलना में महिलाओं में इस बीमारी का खतरा अधिक होता है। इसका मतलब है कि एक महिला को यूटीआई होने की संभावना अधिक होती है।

यही कारण है कि महिलाओं को यूटीआई होने का अधिक खतरा होता है

महिलाओं में मूत्र पथ के संक्रमण अधिक आम हैं, कुछ खास कारक इसके लिए जिम्मेदार हैं:

1. एनाटॉमी (Anatomy)

पुरुषों की तुलना में महिलाओं का मूत्रमार्ग छोटा होता है, जिससे मूत्राशय तक पहुंचने के लिए बैक्टीरिया की दूरी कम हो जाती है। इसके अलावा, मूत्रमार्ग का उद्घाटन मलाशय के करीब होता है, जहां बैक्टीरिया रहता है, जिससे संक्रमण होने की संभावना बढ़ जाती है।

यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक
यूरिनरी ट्रेक्‍ट इंफेक्‍शन के कई कारण हो सकते हैं। चित्र: शटरस्‍टॉक

2. यौन गतिविधि और गर्भनिरोधक (Sexual activity and contraceptive)

जो महिलाएं यौन रूप से सक्रिय होती हैं, उनमें यूटीआई विकसित होने का खतरा होता है और इसलिए कुछ प्रकार के गर्भनिरोधक का उपयोग करना ज़रूरी है। जन्म नियंत्रण के लिए डायाफ्राम और शुक्राणुनाशक एजेंटों का उपयोग करने वाली महिलाओं को संक्रमित होने का अधिक खतरा हो सकता है।

3. मासिक धर्म स्वास्थ्य (Menstrual health)

मेनोपॉज के बाद एस्ट्रोजन सर्कुलेशन में गिरावट आती है। यह मूत्र पथ में परिवर्तन का कारण बन सकता है, जिससे महिलाएं संक्रमण की चपेट में आ सकती हैं।

4. त्वचा संवेदनशीलता (Skin sensitivity)

महिलाओं में बाहरी मूत्रमार्ग का मांस ज्यादातर म्यूकोसा (mucosa) होता है, जो योनि के अंदर का ऊतक होता है। त्वचा का यह हिस्सा शरीर के अन्य क्षेत्रों की तुलना में पतला और अधिक संवेदनशील होता है, जिससे महिला का मूत्रमार्ग अतिसंवेदनशील हो जाता है।

इर्रीटेबल और संवेदनशील त्वचा बैक्टीरिया के संभावित रूप से बढ़ने और यूटीआई का कारण बनने के लिए एक वातावरण बना सकती है।

खुद को हायड्रेटेड रखें. चित्र : शटरस्टॉक
खुद को हायड्रेटेड रखें. चित्र : शटरस्टॉक

आप इसे रोकने के लिए क्या कर सकती हैं

हाइड्रेटेड रहने जैसी सरल टिप्स को अपनाकर यूटीआई विकसित होने के जोखिम को कम किया जा सकता है, क्योंकि पानी मूत्र को पतला करने में मदद करता है। पर्याप्त पानी पीने से आप बार-बार पेशाब करती हैं, जो बदले में मूत्र पथ से बैक्टीरिया को बाहर निकाल देता है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि आप अपने पेशाब को लंबे समय तक न रोकें क्योंकि ऐसा करने से बैक्टीरिया को बढ़ने का समय मिलेगा। पेशाब करने के बाद अच्छी तरह से सफाई करने से भी बैक्टीरिया को फैलने से रोकने में मदद मिलती है।

इसके अलावा, अपने जननांग क्षेत्र पर सिंथेटिक उत्पादों का उपयोग करने से बचें, क्योंकि यह मूत्रमार्ग में जलन पैदा कर सकता है।

तो लेडीज, अपने स्वास्थ्य की जिम्मेदारी लें और अपनी योनि की स्वच्छता और यूटीआई के प्रबंधन के मामले में एक कदम आगे बढ़ें।

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।