3 योगासन जो आपके गर्भाशय को मजबूत बनाकर हेल्दी प्रेगनेंसी में मदद करते हैं

प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियों का हेल्दी होना आवश्यक है। जानते हैं वो 3 योगासन जिनकी मदद से यूटर्स को हेल्दी बनाकर प्रजनन क्षमता को इंप्रूव किया जा सकता है (Yoga poses to strengthen Uterus) ।
योनि मुद्रा महिला प्रजनन अंग या गर्भाशय की सेहत के लिए फायदेमंद है। चित्र : अडोबी स्टॉक
ज्योति सोही Published: 16 Jan 2024, 08:00 pm IST
  • 140

मेंटल हेल्थ को बूस्ट करने के साथ शारीरिक समस्याओं को दूर करने के लिए योग बेहद मददगार साबित होता है। अनियमित लाइफस्टाइल के चलते महिलाओं की प्रजनन क्षमता प्रभावित होने लगती है। ऐसे में महिलाओं को प्रेगनेंसी के लिए कई समस्याओं से होकर गुज़रना पड़ता है। ऐसे में योग की मदद से यूटरिन फाइब्रॉएड, पॉलीप्स और एंडोमेट्रियोसिस जैसी स्थितियों को इंप्रूव करने में मदद मिलती है है। इससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन उचित बना रहता है, जिससे यूटर्स को मज़बूती मिलती है (Yoga poses to strengthen Uterus) ।

इस बारे में योग एक्सपर्ट भावना जपत्यानी का कहना है कि प्रजनन क्षमता को बढ़ाने के लिए शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियों का हेल्दी होना आवश्यक है। इससे शरीर में बल्ड सर्कुलेशन उचित बना रहता है। योनि मुद्रा की मदद से एबडोमिनल मसल्स रिलैक्स हो जाते हैं, जिससे यूटर्स और ओवरी अपना कार्य उचित तरीके से कर पाते हैं। मालासन से फर्टिलिटी बूस्ट होने लगती है और पेल्विक व स्पाइन मसल्स में मज़बूती बढ़ती है।

यूटर्स को हेल्दी बनाने के लिए इन 3 योगासनों का करें अभ्यास

1. योनि मुद्रा

गर्भाशय को हेल्दी बनाए रखने से लेकर प्रजनन क्षमता में सुधार लाने तक योनि मुद्रा का अभ्यास ज़रूरी है। इसे करने से मन को शांति मिलती है और शरीर में ऊर्जा का उच्च स्तर बना रहता है।

जानते हैं कैसे करें योनि मुद्रा

इसे करने के लिए मैट पर बैठ जाएं और गहरी सांस लें। आंखे बंद कर लें और पीठ को एकदम सीधा रखें।

अब दोनों हाथों के अंगूठों के सिरों को मिला दें और इंडैक्स फिंगर को जोड़कर वूम्ब एरिया के पास त्रिकोण का आकार बनाएं।

गहरी सांस लें और छोड़ें। कुछ देर तक इसी मुद्रा में बैठें और अपनी सांस पर अपना ध्यान केंद्रित करें।

त्रिकोण में इंडैक्स फिंगर को छोड़कर बाकी मुड़ी हुई उंगलियों को भी खोले और आंखे बंद करके 1 से 2 मिनट तक बैठें।

रोज़ाना सुबह उठकर इस योगासन का अभ्यास करने से शरीर को फायदा मिलता है।

Uterus ko healthy banayenge yeh yogasan
यूटर्स को हेल्दी बनाने के लिए इन 3 योगासनों का करें अभ्यास । चित्र- अडोबी स्टॉक

2. मालासन (Garland pose)

शरीर के निचले हिस्से की मांसपेशियों को मज़बूत करने के लिए मालासन को दिनचर्या का हिस्सा बनाएं। इससे पेल्विक एरिया हेल्दी बना रहता है और प्रजनन क्षमता में सुधार आता है। इससे शरीर में लचीलापन भी बढ़ने लगता है।

मालासन करने की विधि

इस योगासन को करने के लिए मैट पर सीधा खड़े हो जाएं और अब दोनों पैरों के मध्य दूरी बनाकर रखें।

पंजों को बाहर की ओर निकालें और दोनों हाथों को आपस में जोड़का नमस्कार की मुद्रा को बनाएं

धीरे धीरे घुटनों को मोड़ते हुए पैरों के बल बैठ जाएं। इस मुद्रा में 30 सेकण्ड से 1 मिनट तक बैठे रहे और फिर उठ जाएं।

योगासन के दौरान पीठ को सीधा रखें और गहरी सांस लें व छोड़ें। आप चाहें तो इस दौरान दीवार का सहारा लें।

Iss yogasan ko regular karein garbhashay ko milti hai majbooti
इस योगासन को नियमित तौर पर करने से पोश्चर में सुधार आने लगता है और गर्भाशय भी स्वस्थ बना रहता है।

3 बितिलासन (Cat Cow pose)

इस योगासन को नियमित तौर पर करने से पोश्चर में सुधार आने लगता है और एनर्जी का स्तर बढ़ जाता है। इसके अलावा अनियमित पीरियड और हिप्स पर जमा अतिरिक्त चर्बी की समस्या हल होती है। इसे रोज़ाना करने से गर्भाशय भी स्वस्थ बना रहता है।

बितिलासन करने की विधि

इस योगासन को करने के लिए मैट पर घुटनों के बल बैठ जाएं। कमर को सीधा रखें और हथेलियों को थाइज़ पर टिकाएं।

अब कमर को आगे की ओर झुकाते हुए दोनों हाथों को ज़मीन पर चिपका दें और दोनों पैरों को मैट से छूएं।

गर्दन को उपर उठाएं और सामने की ओर देखें। सांस पर ध्यान केंद्रित करके रखें गहरी सांस लें और छोड़ें।

शरीर को ढ़ीला छोड़ दें और वज्रासन में बैठ जाएं। अब थोड़ी देर बार फिर से इसी योगासन का अभ्यास करें।

ये भी पढ़ें- Surya Namaskar Ke Fayde: सूर्य नमस्कार के साथ मनाएं मकर संक्रांति का त्योहार, योगाचार्य बता रहीं हैं इसके फायदे

  • 140
लेखक के बारे में

लंबे समय तक प्रिंट और टीवी के लिए काम कर चुकी ज्योति सोही अब डिजिटल कंटेंट राइटिंग में सक्रिय हैं। ब्यूटी, फूड्स, वेलनेस और रिलेशनशिप उनके पसंदीदा ज़ोनर हैं। ...और पढ़ें

पीरियड ट्रैकर

अपनी माहवारी को ट्रैक करें हेल्थशॉट्स, पीरियड ट्रैकर
के साथ।

ट्रैक करें
अगला लेख