और पढ़ने के लिए
ऐप डाउनलोड करें

अस्थायी भी हो सकता है योनि में सूखापन, जानिए इसके संभावित कारण और समाधान

Published on:9 September 2021, 20:30pm IST
एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट योनि के सूखेपन का मुख्य कारण है। यहां कुछ अन्य कारण दिए गए हैं, जो योनि में सूखेपन की वजह हो सकते हैं।
टीम हेल्‍थ शॉट्स
  • 90 Likes
vaginal itching kabhi bhi ho sakti hai
वेजाइनल इचिंग किसी को भी हो सकती है। चित्र: शटरस्टॉक

महिलायें अपने पूरे जीवन में स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से जूझती हैं। ज़रा सोचिए क्या? उन सभी में योनि का सूखापन सबसे आम है। लेडीज, हम जानते हैं कि इससे निपटना कितना असहज हो सकता है। इससे भी बड़ी समस्या है कि यदि इसका इलाज न किया जाए तो यह और भी अधिक मुश्किलें पैदा कर सकता है।

आपकी वेजाइना बहुत स्मार्ट है। अपनी सफाई खुद करने के साथ इसमें बेहतर संभोग के लिए नमी युक्त दीवार (moisture-coated wall) भी होती है। यह दीवार पतली हो सकती है या इसकी नमी कम हो सकती है। इन दोनों के कारण योनि में सूखापन हो सकता है जिसके कारण आप असुविधा महसूस कर सकती हैं।

सीके बिड़ला अस्पताल, गुरुग्राम में निदेशक, प्रसूति एवं स्त्री रोग डॉ अरुणा कालरा, कहती हैं, “योनि में खुजली, जलन,लाल होना, बेचैनी, पेशाब करने की इच्छा बढ़ना या पेशाब की तात्कालिकता या यहां तक ​​कि दर्दनाक संभोग योनि के सुखेपन के कारण हो सकता है। इस मामले में डिस्पेर्यूनिया (dyspareunia) जैसे मूत्र संबंधी लक्षणों का अनुभव हो सकता है। इसलिए, एक बार जब हम योनि के सूखने का कारण जान लेते हैं, तो हम इसे दूर करने के उपाय कर सकते हैं।

यहां हैं योनि में सूखेपन के मुख्य कारण

vaginal itching ke liye gharelu upaay
जानिए योनि में खुजली के कारण और उपाय. चित्र : शटरस्टॉक

1 एस्ट्रोजन (estrogen) की कमी या हार्मोनल कमी

योनि के सूखेपन के सबसे आम कारणों में से एक एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट है। लेकिन इस हार्मोनल कमी का कारण क्या हो सकता है? डॉ कालरा कहती हैं, “यह प्रसव के बाद या स्तनपान के दौरान हार्मोनल बदलाव हो सकता है। यह किसी ऐसे व्यक्ति को भी हो सकता है, जिसने किसी प्रकार के कैंसर के लिए रेडियोथेरेपी या कीमोथेरेपी कराई हो।

इसके अलावा, पोस्टमेनोपॉज़ल (post menopausal) या जिसका अंडाशय (ovaries) हटा दिया गया हो, उनमें भी यह आम बात है। हार्मोनल कमियों के पीछे के यह कुछ कारण हैं।”

यहां बताया गया है कि यह योनि के सूखेपन का कारण कैसे बनते हैं

स्तनपान: बच्चे को जन्म देने के बाद और स्तनपान के दौरान हार्मोन में बदलाव से योनि में सूखापन हो सकता है। हो सकता है कि बच्चे को जन्म देने के बाद या स्तनपान बंद करने के बाद आपके हार्मोन का स्तर वापस सामान्य हो जाए। यहां तक ​​कि आपकी योनि का सूखापन भी दूर हो सकता है।

मेनोपॉज़ (menopause):बढ़ती उम्र के साथ महिलाओं में कम एस्ट्रोजन का उत्पादन होता है। इससे मासिक धर्म समाप्त हो जाता है। मेनोपॉज़ जीवन का वह चरण है जिससे महिलाएं गुजरती हैं, जब उनका शरीर एस्ट्रोजन का उत्पादन बंद कर देता है। यह एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट लाता है जिसके कारण योनि पतली होती है और इसकी परत खत्म हो जाती है। यह बदले में, खुजली, सूखापन और साथ ही जलन का कारण बनता है।

कैंसर का इलाज: कीमोथेरेपी या कोई अन्य हार्मोनल थेरेपी और कैंसर के उपचार के समय योनि में सूखापन हो सकता है।

कुछ ऑटोइम्यून रोग जैसे Sjögren’s सिंड्रोम सूखी आंखें, मुंह और योनि जैसी समस्याओं का कारण बन सकते है।

2 हार्मोनल गर्भनिरोधक गोलियां (Birth Control Pills)

जन्म नियंत्रण विधियों का एक हार्मोनल दुष्प्रभाव हो सकता है वेजाइनल ड्राइनेस।हार्मोनल गर्भनिरोधक गोलियों में एस्ट्रोजन या प्रोजेस्टेरोन रोकने की क्षमता होती हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि गर्भनिरोधक गोलियां अंडाशय द्वारा उत्पादित महिलाओं के टेस्टोस्टेरोन के स्तर को कम करती हैं, जिससे योनि में सूखापन होता है।

3 कुछ प्रकार की दवाओं का प्रयोग

“कुछ प्रकार की दवाएं योनि में सूखापन भी पैदा करती हैं। यदि आप यूटेरिन फाइब्रॉएड (uterine fibroids) के लिए एंटी-एस्ट्रोजन (anti-estrogen) क्रीम ले रहे हैं या आप सर्दी के लिए एंटी-एलर्जी दवाएं ले रहे हैं, तो आप योनि में सूखापन का अनुभव कर सकते हैं। योनि का सूखापन एंटीडिप्रेसेंट (anti-depressant) जैसी कई अन्य दवाओं के कारण भी हो सकता है, ”डॉ कालरा कहते हैं।

योनि का सूखापन कई प्रकार की परेशानी पैदा कर सकता है। उनमें से कुछ है:

जलन या खुजली
दर्द
संभोग में रुचि खोना
संभोग के बाद हल्का खून बहना
पेशाब के रास्ते में इन्फेक्शन
संभोग के वक्त दर्द

यहां बताया गया है कि आप इससे कैसे निपट सकते हैं:

डॉक्टर कालरा बताते है,”दर्दनाक संभोग से बचने के लिए पहली चीज है पर्याप्त फोरप्ले। यह आपको बेहतर प्राकृतिक चिकनाई देगा लेकिन अगर आप अभी भी योनि के सूखेपन से गुज़र रही हैं, चाहे वह मेनोपॉज़ और स्तनपान के कारण हो, तो पानी आधारित मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें। यदि वह प्रभावी नहीं है, तो एस्ट्रोजन क्रीम का उपयोग करें। एस्ट्रोजेन क्रीम सुरक्षित हैं लेकिन एस्ट्रोजन क्रीम के लिए कुछ मतभेद हैं।”

वह आगे कहती हैं, “यदि आपके स्तन कैंसर, गर्भाशय कैंसर, या किसी भी प्रकार की बीमारी से ग्रस्थ थे, तो आपको इसका उपयोग नहीं करना चाहिए। यदि आप एस्ट्रोजेन क्रीम का उपयोग करने के बाद स्तन दर्द या अन्य लक्षणों जैसे दुष्प्रभावों का सामना करते हैं, तो आपको उनका उपयोग नहीं करना चाहिए। यदि इसके उपयोग से कोई परेशानी नहीं हैं तो वे सुरक्षित हैं।”

aap iske liye vaginal cream ka istemal kar sakte hai
आप इससे बचने के लिए वेजाइनल क्रीम का इस्तेमाल कर सकते हैं। चित्र: शटरस्टॉक

वह निष्कर्ष निकलती है,”शुरुआत में, आपको इसे हर दिन इस्तेमाल करना होगा, उसके बाद वैकल्पिक दिन में एक बार और 2-3 दिनों के बाद।”

योनि के सूखेपन को प्रबंधित करने के लिए कुछ अन्य टिप्स हैं:

डूशिंग से बचें।
ज्यादा सुगंधित साबुन या लोशन के इस्तेमाल से बचें।
ऐसे योनि मॉइस्चराइज़र का प्रयोग करें जो थोड़ी देर के लिए नमी प्रदान करते हैं।

तो, जैसा कि आप जानते हैं, योनि का सूखापन ज्यादातर आपके शरीर में एस्ट्रोजन की मात्रा कम होने के कारण होता है और इसे सरल उपायों से ठीक किया जा सकता है। लेकिन अपने डॉक्टर से संपर्क करें, अगर योनि का सूखापन आपकी दैनिक गतिविधियों में बाधा डालता है या आपके यौन जीवन को प्रभावित करता है।

यह भी पढ़ें – क्या वेजाइनल ड्राईनेस पर किया जा सकता है बादाम के तेल का इस्तेमाल? यहां है सही जवाब

टीम हेल्‍थ शॉट्स टीम हेल्‍थ शॉट्स

ये हेल्‍थ शॉट्स के विविध लेखकों का समूह हैं, जो आपकी सेहत, सौंदर्य और तंदुरुस्ती के लिए हर बार कुछ खास लेकर आते हैं।