लॉन्ग वर्किंग आवर्स के कारण हो रहा नसों में दर्द, तो इससे छुटकारा पाने के लिए अपनाएं ये 4 तरीके

क्या आपको भी लंबे वक़्त तक काम करने की वजह से गर्दन और सिर के बीच की नसों में दर्द होने लगा है? यदि हां... तो जानिए कुछ घरेलू उपाय जो आपकी इस समस्या से निपटने में मदद कर सकते हैं।

nerve pain ka ilaaj
जानिए कैसे करना है नर्व पेन का उपचारद्ध। चित्र : शटरस्टॉक
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ Published on: 1 September 2022, 20:00 pm IST
  • 127

कई स्वास्थ्य स्थितियों और खराब लाइफस्टाइल के कारण आपकी नसों में दर्द हो सकता है। यह दर्द आपको तब महसूस हो सकता है जब आप एक लंबे समय से लगातार काम कर रही हों। कभी – कभी पढ़ाई करते, मोबाइल चलाते है या खेलते खूदते समय भी गर्दन और सिर के बीच की नसों में दर्द हो सकता है। यह ज़्यादा स्ट्रेन पढ़ने या स्ट्रेस लेने की वजह से हो सकता है। तो यदि आपकी भी आजकल नसों में दर्द रहने लगा है तो इस लेख के माध्यम से हम आपको बताएंगे कि आप इस समस्या को कैसे ठीक (how to treat nerve pain) कर सकती हैं। क्या इसे किसी घरेलू उपाय से ठीक किया जा सकता है? क्या यह एक मेडिकल कंडिशन है? चलिये पता करते हैं।

डेली रुटीन बाधित कर सकता है नर्व पेन

क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार सर्वाइकल रेडिकुलोपैथी (जिसे “पिंचेड नर्व” भी कहा जाता है) एक ऐसी स्थिति है जिसके परिणामस्वरूप आपकी गर्दन की किसी भी तंत्रिका जड़ों के संपीड़न और सूजन के कारण न्यूरोलॉजिकल डिसफंक्शन होता है। न्यूरोलॉजिकल डिसफंक्शन में दर्द, मांसपेशियों में कमजोरी या सुन्नता शामिल हो सकते हैं।

“सर्वाइकल” लैटिन शब्द “सर्विक्स” से आया है, जिसका अर्थ है “गर्दन।” सर्वाइकल रेडिकुलोपैथी के मामले में, समस्या आपकी गर्दन में है, आपके गर्भाशय ग्रीवा में नहीं। (गर्भाशय ग्रीवा, गर्भाशय के निचले सिरे को बनाने वाले संकीर्ण मार्ग को इसलिए कहा जाता है क्योंकि यह एक गर्दन जैसा मार्ग है।)

क्या है पिंच्ड नर्व के संकेत

चोट लगना
इंटेस एक्सरसाइज़
लंबे समय तक काम करना
सुन्न होना
मांसपेशी में कमज़ोरी।
झुनझुनी (“पिन और सुई” जैसी सनसनी)।
ऐसा महसूस होना कि आपका हाथ या पैर सो गया है।

कैसे करें पिंच्ड नर्व का इलाज

मेयो क्लीनिक के अनुसार जानें आप कैसे खुद को दिला सकती हैं इस समस्या से राहत

Neck pain se raahat dete hai
आइस से सिकाई करें। चित्र शटरस्टॉक।

1 आराम करें

कई लोगों को आराम करने नस में दर्द से राहत मिल सकती है। इसके लिए उपचार की आवश्यकता नहीं होती है। दर्द कुछ दिनों या हफ्तों में दूर हो जाता है।

2 कोल्ड प्रेस

राहत के लिए किसी भी सूजन वाले क्षेत्र पर बर्फ लगाएं। इससे दर्द को कम करें एमिन तुरंत राहत मिल सकती है, जिससे दर्द भी कम हो जाएगा।

3 ऑयल मसाज

आयुर्वेद में तेल मालिश से कई तरह के दर्द को ठीक किया जा सकता है। ऐसे में यदि आपको लग रहा है कि आपकी गर्दन की नसों में दर्द है तो आप सरसों के तेल को गरम करके इसपर हल्के से मसाज कर सकती हैं।

4 एक्सरसाइज़

स्ट्रेच और हल्का व्यायाम आपकी नसों पर दबाव को कम करने और मामूली दर्द से राहत दिलाने में मदद कर सकता है। आप इस बारे में अपने चिकित्सक से बात करें कि आप जिस प्रकार की पिंच की हुई तंत्रिका का अनुभव कर रहे हैं, उसके लिए किस प्रकार के व्यायाम सर्वोत्तम हैं।

यदि इन उपायों के बाद भी आपका दर्द ठीक होने का नाम नहीं ले रहा है, तो इसे डॉक्टर को दिखाएं। इलाज में देरी न करें।

यह भी पढ़ें : World coconut day: फल, मेवा और बीज तीनों है नारियल, पर इन दो स्थितियों में सोच-समझकर खाएं 

  • 127
लेखक के बारे में
ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ ऐश्‍वर्या कुलश्रेष्‍ठ

प्रकृति में गंभीर और ख्‍यालों में आज़ाद। किताबें पढ़ने और कविता लिखने की शौकीन हूं और जीवन के प्रति सकारात्‍मक दृष्टिकोण रखती हूं।

स्वास्थ्य राशिफल

स्वस्थ जीवनशैली के लिए ज्योतिष विशेषज्ञों से जानिए अपना स्वास्थ्य राशिफल

सब्स्क्राइब
nextstory

हेल्थशॉट्स पीरियड ट्रैकर का उपयोग करके अपने
मासिक धर्म के स्वास्थ्य को ट्रैक करें

ट्रैक करें