आंखों में गए धूलकण या गंदगी को हटाने के लिए आजमा सकती हैं ये 4 घरेलू उपाय

Published on: 4 July 2022, 20:07 pm IST

बारिश के मौसम में जब तेज हवाएं चलती हैं तो उनके साथ कई बार धूल के कण आपकी आंखों में चले जाते हैं। इस दर्दनाक स्थिति से राहत दिलाने में ये उपाय आपकी मदद कर सकते हैं।

aankhon se dhool kaise hataen
आंखों में पड़ी धूल और गंदगी को हटाने में मदद करेंगे ये 5 घरेलू उपाय। चित्र : शटरस्टॉक

आंख में पड़ी किरकिरी कितनी तकलीफदेह होती है, इसे वही समझ सकता है, जिसकी आंखों में यह गई होती है। एक छोटा सा धूल का कण भी आपकी आंखों में आंसू ला दाने के लिए काफी है। खासतौर से उस सुहावने मौसम में जब हवा चलती है, तब आपको इस समस्या का बहुत सामना करना पड़ता है। और तब समझ नहीं आता कि इस समस्या से कैसे निजात पाएं। इसलिए आज हेल्थ शॉट्स में हम बता रहे हैं वे आसान ट्रिक्स जिन्हें अपनाकर आंख में पड़ी धूल या गंदगी (How to remove dust from eyes) को निकाल सकती हैं।

इस मौसम में ज्यादा होती है ये समस्या

बारिश के मौसम में कभी-कभी तेज हवा चलने लगती है। इसकी वजह से धूल या कोई कण आपकी आंखों में चला जाता है। जब इसे निकालने की कोशिश करती हैं तो आंखों में और भी ज्यादा जलन होने लगती है और आंख से पानी भी आने लगता है। ज्यादातर लोग इस दौरान आंखों को रगड़ने की गलती करते हैं। जबकि कुछ अपनी उंगलियों को आंखों के अंदर डालकर डस्ट पार्टिकल को निकालने लगते हैं।

यह काफी नुकसानदेह साबित हो सकता है। इससे न सिर्फ आंखों में इन्फेक्शन हो सकता है, बल्कि कॉर्निया को खरोंच भी लग सकती है। आइए जानते हैं कि आंखों में गए रेत या डस्ट पार्टिकल को कैसे निकाला जा सकता है। (How to remove sand or dust particles stuck in your eyes)।

eye care
मानसून में आंखों का धूल, मिट्टी और तेज हवा से बचाव करें। चित्र :शटरस्टॉक

यहां हैं आंखों से धूलकण हटाने वाले 5 घरेलू उपाय

1 अपनी आंखों का निरीक्षण करें

सबसे पहले तो आंखाें में उंगली डालने की बजाए अपनी आंख को ठीक से चेक करें। यह सबसे अधिक महत्वपूर्ण है। ध्यान रहे कि आपकी उंगलियां धुली हुई और साफ होनी चाहिए। यदि आपकी उंगलियां गंदी होंगी या आपने कुछ देर पहले अपने हाथों से खाना खाया होगा, तो उंगलियों पर मौजूद तेल-मसाले न सिर्फ आंखों में जलन पैदा कर सकते हैं, बल्कि आंखें भी संक्रमित हो सकती हैं।

आंखों को कभी भी रगड़ें नहीं। इससे कॉर्निया को खरोंच लग सकती है। कोई भी ऐसी चीज से अपनी आंखों को न थपथपाएं, जिसके सिरे नुकीले हों। किसी भी प्रकार की चिमटी या कॉटन के गोले या फाहे से दूर रहें। अपनी पलकों, कॉर्निया या कंजंक्टिवा ( ऊपरी और निचली पलकों के अंदरूनी हिस्से) की जांच करते हुए धूल कण का पता लगाने की कोशिश करें। इसमें आप किसी और की भी मदद ले सकती हैं। अगर आपके साथ कोई नहीं है तो आप शीशे या मोबाइल के फ्रंट कैमरे में अपनी आंखों काे चेक कर सकती हैं।

2 आंखों को पानी से धाेएं

अपनी आंखों को धीरे-धीरे पानी से धोएं। यह आंखों से धूल और गंदगी को हटाने का सबसे अच्छा और आसान तरीका है। हथेली में पानी लें और फिर आंख को उसमें डुबोएं। एक बार पलक झपकने की कोशिश करें। पानी आपकी आंख में चला जाएगा और गंदगी उसमें तैरकर बाहर आ जाएगी।

कभी-भी पानी के छींटे आंखों पर न मारें, इससे आंखों को नुकसान हो सकता है। धूलकण साफ करने के लिए आंखों में आईड्रॉप भी डाल सकती हैं।

apni ankhon ka khyaal rakhein
अपनी आँखों का ख्याल रखें: चित्र : शटरस्टॉक

3 कपड़े से आंख की सिकाई

यह घरेलू उपाय सदियों से आजमाया जा रहा है। आंखों से धूल और गंदगी को हटाने के लिए गर्म कपड़े का उपयोग करना चाहिए। गर्म, नम, साफ वॉशक्लॉथ लें और इसे अपनी आंखों के ऊपर रखें। वॉशक्लॉथ की गर्मी और नमी दोनों ही आंखों को स्वाभाविक रूप से आंसू निकालने के लिए प्रेरित करती है। इससे आंखों से धूल या गंदगी आसानी से बाहर निकल सकती है। किसी साफ तौलिये या सूती कपड़े को मुंह से भाप देकर गर्म किया जाता है। इसे आंखों पर रखने से भी गंदगी बाहर निकल सकती है।

4 अपनी पलकों को इधर-उधर घुमाएं

अपनी आंखों और पलकों को भी इधर-उधर घुमाने का प्रयास करें। अपनी ऊपरी पलक को निचली पलक के ऊपर खींचें और अपनी आंख को ऊपर की ओर घुमाएं। आंखों से ऊपर की ओर देखें और पलकों को रिलीज करें। ऐसा करने पर आंखों से गंदगी बाहर निकल जाती है।

नोट : इन सभी उपायों के बावजूद यदि धूलकण या गंदगी आंखों से बाहर नहीं निकल पाई है, तो किसी भी और उपाय को आजमाने की बजाय तुरंत आई केयर सेंटर जाएं और आई एक्सपर्ट की मदद लें।

यह भी पढ़ें : डायबिटीज है और आलू खाने की शौकीन हैं, तो जानिए इसे आहार में शामिल करने का सही तरीका 

स्मिता सिंह स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है।