लॉग इन

झुर्रियों और अनईवन टोन का कारण हो सकती है कोलेजन की कमी, जानिए इसे बढ़ाने के 5 उपाय

उम्र बढ़ने के साथ आपके शरीर का प्राकृतिक उपचार तंत्र धीमा पड़ने लगता है। इसमें कोलेजन प्रोडक्शन भी शामिल है। इसलिए जरूरी है कि आप हेल्दी डाइट से इसे प्रोटेक्ट करें। 
एजिंग को कंट्रोल करने के लिए हानिकारक यूवी किरणों से बचाव जरूरी है। चित्र:शटरस्टॉक
स्मिता सिंह Published: 7 Oct 2022, 21:40 pm IST
ऐप खोलें

हमारी स्किन पर उम्र बढ़ने का प्रभाव सबसे पहले दिखता है। इसकी वजह से हमारी स्किन ढीली पड़ जाती है। चेहरे की स्किन पर झुर्रियां दिखने लगती हैं।  हम झुर्रियों को लाख छुपाने की कोशिश करें, वे दिख ही जाती हैं। एक्सपर्ट इसके पीछे की वजह कोलेजन को मानते हैं। कोलेजन के प्रोडक्शन में कमी आने पर स्किन पर झुर्रियां दिखने लगती हैं। हालांकि अब तो कोलेजन प्रोडक्शन बढाने के कई उपाय ब्यूटी मार्केट में आ चुके हैं, पर क्या इसे नेचुरल तरीके से भी बढ़ाया (increase collagen in face naturally) जा सकता है। यह जानने से पहले जानें कोलेजन को।   

कनेक्टिव टिश्यू में पाया जानेवाला प्रोटीन है कोलेजन (Collagen protein in Connective Tissue) 

कोलेजन एक प्रोटीन है, जो शरीर के संयोजी ऊतकों (Connective Tissue) में पाया जाता है। इसमें स्किन(Skin), टेंडन(Tendon) और बोन(Bones) शामिल हैं। यह ऊतकों को ताकत(Strength) और लोच (Elasticity) देता है। उम्र बढ़ने के साथ कोलेजन का स्तर स्वाभाविक रूप से कम हो जाता है। इससे चेहरे पर झुर्रियां और अन्य अंगों पर उम्र बढ़ने के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। सूर्य की यूवी किरणों, स्मोकिंग और वाइन से कोलेजन क्षतिग्रस्त हो सकता है।

कोलेजन कैसे बढ़ाएं? (How to increase Collagen Production) 

कोलेजन बढ़ाना आसान नहीं है। कोलेजन प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए कुछ प्राकृतिक उपाय किये जा सकते हैं।  

कोलेजन उत्पादन को बढ़ाने के लिए सबसे पहले सूर्य की हानिकारक किरणों से खुद का बचाव करना होगा। बाहर निकलने से पहले बढ़िया सनस्क्रीन जरूर लगाना होगा। 

पोषक तत्वों से भरपूर आहार खाकर भी कोलेजन प्रोडक्शन को बढ़ाया जा सकता है। ग्रीन लीफी वेजिटेबल, साइट्रस फ्रूट, ओमेगा 3 फैटी एसिड से भरपूर मछली के सेवन से इसे बढाया जा सकता है।

 1 एलोवेरा जेल(Aloe Vera Gel)

आप अक्सर सनबर्न होने या किसी स्किन समस्या पर एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करती होंगी, पर यह रिंकल को दूर करने में भी सक्षम है। एनालिसिस ऑफ़ डर्मेटोलॉजी जर्नल में प्रकाशित स्टडी आलेख के अनुसार, 45 वर्ष या उससे अधिक उम्र की महिलाओं को जब डाइटरी एलोवेरा दिया गया, तो न सिर्फ कोलेजन प्रोडक्शन बढा, बल्कि स्किन एलास्टिसिटी भी बढ़ी।   

2 जिनसेंग (Ginseng) 

जर्नल ऑफ़ एथनोफर्मेकोलोजी में प्रकाशित शोध आलेख के अनुसार भारतीय जिनसेंग (Panax Ginseng)  में फिब्रोनेक्टिन कंपाउंड मौजूद होते हैं। यह स्किन में कोलेजन प्रोडक्शन बढाने में कामयाब है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो स्किन पर उम्र के निशान दिखने से रोकते हैं। जिनसेंग ब्लड फ्लो में कोलेजन की मात्रा को बढ़ाता है।

 3 एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) 

एंटीऑक्सिडेंट शरीर को फ्री रेडिकल से बचाव करने में मदद करते हैं।  ये मेटाबोलिक एक्टिविटी के दौरान पैदा होता है। कई स्टडी बताती है कि विभिन्न एंटीऑक्सिडेंट कोलेजन प्रोडक्शन को बढ़ावा देकर स्किन केयर और क्योर करने में मदद करते हैं। कई प्लांट बेस्ड खाद्य पदार्थों में एंटीऑक्सीडेंट मौजूद होते हैं।

4 लाल अंगूर (Red Grapes) 

एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर लाल अंगूर को न सिर्फ खाने, बल्कि लगाने से भी कोलेजन प्रोडक्शन इमप्रूव होता है। इसे अपने आहार में शामिल करें। साथ ही, 1 टेबल स्पून लाल अंगूर को मैश कर लें।

एंटी ऑक्सीडेंट से भरपूर लाल अंगूर को लगाने से भी कोलेजन प्रोडक्शन इमप्रूव होता है। चित्र : शटरस्टॉक

इसमें 1 टी स्पून ओलिव आयल मिलाकर पेस्ट को चेहरे पर लगा लें। आधे घंटे बाद चेहरे को धो लें। नियमित रूप से ऐसा करने पर  कोलेजन प्रोडक्शन बढ़ेगा और स्किन में कसाव आएगा।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

5 अंडे का सफेद भाग (White Part of Egg) 

अंडा प्रोटीन से भरपूर होता है। इसलिए कोलेजन से भी। साथ ही यह प्रोलिन और लायसीन का स्रोत भी होता है, जो स्किन के लिए फायदेमंद है।

अंडे का सफ़ेद भाग कोलेजन बढाता है। चित्र: शटरस्टॉक

अंडे के सफ़ेद भाग में 2 टी स्पून नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगा लें। सूख जाने पर नार्मल पानी से धो लें। कुछ दिनों बाद फर्क दिखेगा।

यह भी पढ़ें :-हार्ट हेल्थ के लिए फायदेमंद हैं सी फूड पर सब नहीं, जानिए कौन सी मछली है दिल के लिए अच्छी

स्मिता सिंह

स्वास्थ्य, सौंदर्य, रिलेशनशिप, साहित्य और अध्यात्म संबंधी मुद्दों पर शोध परक पत्रकारिता का अनुभव। महिलाओं और बच्चों से जुड़े मुद्दों पर बातचीत करना और नए नजरिए से उन पर काम करना, यही लक्ष्य है। ...और पढ़ें

अगला लेख