बेहतरीन हीलर है अच्छी नींद, यहां हैं वे 7 टिप्स जो आपको गहरी नींद लेने में मदद करेंगे 

एक अच्छी नींद न केवल आपके मन को शांत करती है, बल्कि आपकी दिन भर की थकान और चिंताओं को दूर कर आपको ऊर्जावन भी बनाती है, जानिए कैसे आप अच्छी नींद पा सकती हैं

healthy sex ke liye good sleep
हेल्दी स्लीप के लिए अपनाएं ये तरीके। चित्र : शटरस्टॉक
शालिनी पाण्डेय Updated on: 3 September 2022, 21:03 pm IST
  • 111

सोना न सिर्फ आपके मस्तिष्क को बल्कि आपके पूरे शरीर को रिलैक्स करता है। यही वजह है कि बीमार होने या तकलीफ में होने पर चिकित्सक सोने की सलाह देते हैं। चोट बाहरी हो या अंदरूनी नींद आपके शरीर के हर हिस्से को आराम देकर उसे दुरुस्त बनाने में सहायक होती है। पर अच्छी और गहरी नींद इतनी भी आसान नहीं। अगर आप भी रात भर बिस्तर में करवटें बदलती रहती हैं, तो ये 7 टिप्स (How to get deep sleep) आपकी मदद कर सकते हैं। 

एनसीबीआई के एक शोध के अनुसार सो जाने के एक मिनट के भीतर ही, मस्तिष्क और शरीर दोनों में महत्वपूर्ण परिवर्तन होने लगते हैं। शरीर का तापमान गिर जाता है, मस्तिष्क की गतिविधि कम हो जाती है, और हृदय गति और श्वसन गति भी धीमी हो जाती है। यही वजह है कि सोने के दौरान शरीर की ऊर्जा बहुत कम खर्च होती है।

समझिए नींद की प्रक्रिया?

नींद एक मानसिक अवस्था है जिसमें हमारी दृष्टि और ध्वनियों के प्रति हमारी जागरूकता व प्रतिक्रिया कम हो जाती है। सोने में 10 से 15 मिनट का समय लगता है और इसमें 5 से 6 नींद चक्र होते हैं, जिनमें से प्रत्येक लगभग 90 मिनट तक रहता है। 

इन चक्रों को दो सामान्य चरणों में विभाजित किया जा सकता है: रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) और नॉन-रैपिड आई मूवमेंट (एनआरईएम) चरण। NREM नींद में उत्तरोत्तर गहरी नींद के चार चरण होते हैं। आरईएम नींद के दौरान शरीर लकवाग्रस्त हो जाता है और मस्तिष्क मस्तिष्क (ईईजी) की विद्युत रिकॉर्डिंग के साथ सक्रिय हो जाता है जो कि जब हम जागते हैं तो सामान्य होता है। 

क्यों ज़रूरी है नींद 

उपचार और बेहतर सेहत के लिए नींद महत्वपूर्ण है। जब हम आरईएम नींद की अवस्था में होते हैं तो शरीर में एक हार्मोन का रिसाव होता है जो यकृत को इंसुलिन बनाने से लेकर हड्डी के बढ़ने तक में मदद करता है। 

yoga nidra ke fayde
तनाव दूर कर माइंड को रिलैक्स करती है नींद। चित्र:शटरस्टॉक

यही नहीं  एमिनो एसिड और प्रोटीन संश्लेषण में सहायक बन मांसपेशियों को बढ़ाने का कारण बनता है। साथ ही, इस समय, हमारा शरीर वायरस और बैक्टीरिया पर हमला करने के लिए अधिक सफेद रक्त कोशिकाओं (WBC) का निर्माण करते हैं और भूख नियंत्रण को प्रभावित करने वाले हार्मोन को भी नियंत्रित करते हैं।  जर्नल ऑफ एप्लाइड फिजियोलॉजी में 2018 के एक अध्ययन में पाया गया कि भरपूर नींद न लेने से घाव भरने में देरी होती है। 

खराब नींद हृदय संबंधी विकारों, टाइप II मधुमेह, डाइलेक्सिया, अवसाद, निर्णय लेने और आवेग नियंत्रण में आने वाली कठिनाइयों के जोखिम की भी वजह बन सकती है।

अच्छी नींद के लिए फॉलो करें ये जरूरी टिप्स 

रात को अच्छी नींद लेने के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है हेल्दी स्लीप। विभिन्न आदतें नींद की गुणवत्ता में सुधार करती हैं। जिन्हें  दो अलग-अलग श्रेणियों में बांटा जा सकता है क्रियाएं और पर्यावरणीय कारक। 

बेहतर नींद के लिए किए जा सकने वाले कुछ सबसे महत्वपूर्ण काम ये हो सकते हैं:

1 एक रेगुलर स्लीपिंग पैटर्न निर्धारित करना

2 सोने से कम से कम 3 घंटे पहले शराब, कैफीन, कॉफी, शीतल पेय और गरिष्ठ भोजन से बचना

3 दैनिक व्यायाम (लेकिन सोने से ठीक पहले नहीं) को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाएं।

4 अपनी नींद/जागने के चक्र को नियंत्रित करने में मदद के लिए दिन के समय सूरज की रोशनी प्राप्त करना

5 30 मिनट से अधिक की दिन की झपकी से बचना

6 हेल्दी लाइफस्टाइल को फॉलों करें। सुबह जल्दी उठना, रात में अच्छी नींद सुनिश्चित कर सकता है। इसी तरह देर रात पार्टी, बिंज वाॅचिंग और बेडरूम में सोशल मीडिया स्क्रॉल को प्रतिबंधित करें।

7 हेल्दी स्लीपिंग का दूसरा पहलू आपके आसपास के  वातावरण को अनुकूल बनाना है। इसमें सोने से 90 मिनट पहले और सोते समय तेज रोशनी और इलेक्ट्रॉनिक्स के संपर्क में आने से बचना शामिल है।

यह भी पढ़ें: इम्युनिटी ही नहीं, त्चचा के लिए भी शानदार है तुलसी, हम बता रहे हैं तुलसी के 5 DIY हैक्स

  • 111
लेखक के बारे में
शालिनी पाण्डेय शालिनी पाण्डेय

स्वास्थ्य राशिफल

ज्योतिष विशेषज्ञ से जानिए क्या कहते हैं आपकी,
सेहत के सितारे

यहाँ पढ़ें
nextstory