अपने रिश्ते में थकने लगे हैं, जो जानिए रिलशेनशिप बर्नआउट से कैसे बचना है

सब जोड़ियां फिल्मों जैसी नहीं होती, जहां दोनों एक-दूसरे पर मर-मिटने को तैयार हों। काम का बोझ, घरेलू जिम्मेदारियों और अलग स्वभाव के व्यक्ति के साथ रिश्ते में होने पर आप दोनों में से कोई भी थकान का अनुभव कर सकता है। जरूरी है इस पर काम करना।
relationship-anxiety
तनाव को कम करके रिश्ते के तनाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है। चित्र : एडॉबीस्टॉक
संध्या सिंह Published: 23 May 2024, 17:00 pm IST
  • 134

क्या आप पार्टियों में कपल की भीड़ के बीच में खुद को अकेला पाते हैं, क्या आप रिश्ते में होने के बावजूद अकेलेपन महसूस करते हैं, क्या आपको लगता है कि आपको वह प्यार और केयर नहीं मिल रही जिसके आप हकदार हैं? क्या आपका पार्टनर आपसे ज़्यादा हर चीज़ में दिलचस्पी रखता है। यदि यह सब आपको लगता है तो आप रिलेशनशिप बर्नआउट का शिकार हो सकते है।

रिलेशनशिप बर्नआउट तब होता है जब दोनों में से किसी एक या दोनों को लगता है कि वे अपने रिश्ते में बहुत अधिक ऊर्जा लगा रहे हैं लेकिन बदले में उन्हें पर्याप्त ऊर्जा नहीं मिल रही है। सामान्य तौर पर भी जब आपको लगता है कि आप किसी चीज में बहुत अधिक प्रयास और भावनाएं दे रहे हैं और बदले में आपको पर्याप्त आउटपुट नहीं मिल रहा है तो आप थकावट महसूस करने लगते हैं।

रिलेशनशिप में बर्नआउट के संकेत

शारीरिक और भावनात्मक थकावट

जहां पहले आप लंबी वॉक, लंबी ड्राइव, देर रात की डेट, फिल्में और मजे के लिए एक साथ जाया करते थे, एक साथ कुछ तरोताजा करने वाला लगता था, अब आपके पास अपने पार्टनर के लिए कुछ अतिरिक्त करने की कोई इच्छा या प्रेरणा नहीं है। अब आप दोनों के लिए कुछ भी करने के लिए आपके पास मुश्किल से ही प्रेरणा है, इसका मतलब है कि आप थक चुके हैं। अगर जन्मदिन का कार्ड बनाना भी आपके लिए मुश्किल हो गया है तो आपके रिश्ते में तनाव का दौर शुरू हो गया है।

rishte mei vishwas kaise banaye
भावनात्मक रूप से किसी से जुड़ाव महसूस करना कठिन लगने लगता है। चित्र- अडोबी स्टॉक

सकारात्मक व्यवहार का कमी

अपने प्यार को दर्शाने के लिए कुछ प्रयासों के अलावा एक समृद्ध रिश्ते के लिए सकारात्मक माहौल बनाए रखने की भी आवश्यकता है। रिश्ते खराब होने की स्थिति में आप आमतौर पर जीवन के बारे में इतने थके हुए और निराशावादी होते हैं कि कोई भी एक्साइटमेंट वाली प्रतिक्रिया या व्यवहार बहुत दूर की संभावना लग सकती है। वास्तव में, आपके साथी की ओर से छोटे-छोटे प्रश्नों का सकारात्मक या सही उत्तर आपको मजबूरी में दिया हुआ लग सकता है।

एक- दूसरे से दूर रहने में अधिक आनंद

जब आप पूरी तरह से अपने पार्टनर के होते हैं और एक-दूसरे के प्यार में डूबे होते हैं, तो दूर रहने के बारे में सोचना भी कठिन होता है। लेकिन जब आपका भावनात्मक प्रयास के बदले कुछ नहीं मिलता और आपको भावनात्मक रूप से थका देता है तो उस स्थिति में आप अपने साथी से दूर रहने में अधिक आनंद लेते हैं। चाहे

कुछ भी शेयर करने की इच्छा न होना

लेकिन जब आप भावनात्मक रूप से थक जाते हैं और आपको लगता है कि या तो आपके साथी को आपके जीवन की घटनाओं के बारे में जानने में कोई दिलचस्पी नहीं होगी या उसे उतनी परवाह नहीं होगी। इससे आप कुछ भी शेयर नहीं करना चाहते हैं और धीरे-धीरे उन चीज़ों का अनुपात जो आप साझा नहीं करते हैं, उनकी तुलना में बढ़ जाता है जो चीजें आप शेयर करते है।

रिलेशनशिप में बर्नआउट से कैसे बचें

हर चीज में परफेक्ट होना बंद करें

हमें ऐसा महसूस हो सकता है कि हम सब कुछ पूरी तरह से कर रहे हैं और यह केवल हमारा पार्टनक है जो गलत है, लेकिन एक कदम पीछे हटना और फिर से सोचना महत्वपूर्ण है कि हम जिस व्यक्ति से प्यार करते हैं उसे इतने संकीर्ण दायरे में फिट करने की कोशिश क्यों कर रहे हैं। परफेक्टिजम को त्यागने से असंभव मानकों को पूरा करने और मापने की कोशिश के तनाव को कम करके रिश्ते के तनाव को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

Partner mei intrest kum kyu hota hai
जानते हैं वो संकेत जो इस ओर इशारा करते हैं कि आपके पार्टनर को स्पेस की आवश्यकता है । चित्र एडॉबीस्टॉक।

उत्सुक होना न भूलें

जब आप पार्टनर से पहली बार मिल थे तब वह जैसा था जरूरी नहीं कि वो अभी भी वैसा ही हो। एक-दूसरे के बारे में फिर से उत्सुक होने और नए प्रश्न पूछने से न केवल मज़ा वापस आ सकता है, बल्कि आपको यह पता लगाने में मदद मिलेगी कि आप रिलेशनशिप में बर्नआउट क्यों हो गाए। ये सोचना बंद करें कि आपका पार्टनर बदल गया है।

एक दूसरे को जीवन में उनकी अहमियत बताएं

कृतज्ञता साझा करने से हमारे मस्तिष्क में सक्रिय रूप से रसायन बदलते हैं और तनाव से जूझ रहे रिश्ते में, एकत्रित होने वाली कुछ नकारात्मकता और संघर्ष को कम करने का अतिरिक्त लाभ होता है। जिन तरीकों से आप अपने साथी के प्रति आभारी हैं, उन्हें स्वीकार करने के लिए समय निकालने से, यहां तक ​​​​कि छोटे तरीकों से भी, रिश्ते के तनाव को कम करने में मदद मिल सकती है।

ये भी पढ़े- Morning depression : सुबह आंख खुलते ही डिप्रेशन हिट करता है, तो जानें इसका कारण और इससे बाहर आने के उपाय

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

  • 134
लेखक के बारे में

दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज़्म ग्रेजुएट संध्या सिंह महिलाओं की सेहत, फिटनेस, ब्यूटी और जीवनशैली मुद्दों की अध्येता हैं। विभिन्न विशेषज्ञों और शोध संस्थानों से संपर्क कर वे  शोधपूर्ण-तथ्यात्मक सामग्री पाठकों के लिए मुहैया करवा रहीं हैं। संध्या बॉडी पॉजिटिविटी और महिला अधिकारों की समर्थक हैं। ...और पढ़ें

अगला लेख