पार्टनर की ओवरथिंकिंग हो सकती है आपके लिए इम्तिहान ! इन टिप्स को फॉलो कर समझदारी से करें डील

किसी भी रिश्ते में पजेसिव होना एक आम बात हैं लेकिन एक्स्ट्रा-पजेसिवनेस के कारण रिश्तों में अक्सर दरार भी आ जाती है और इसी पजेसिवनेस के कारण 'ओवरथिंकिंग' का भी जन्म होता है।
Overthinking kyu badhne lagti hai
पार्टनर की कही बातों पर ओवरथिकिंग (over thinking) से मेंटल बर्डन का सामना करना पड़ता है। छोटी छोटी बातों के बारे में ज्यादा सोचने से रिश्तों में बिखराव आने लगता है। चित्र : शटरस्टॉक

जब भी कोई व्यक्ति किसी रिलेशन में दाखिल होता है, तो उसे अपने पार्टनर से काफी ज्यादा प्यार होता है और उसकी काफी चिंता भी होती है। धीरे-धीरे जब उनके रिश्ते को समय बीतता जाता है और वे एक-दूसरे के बहुत करीब आ जाते हैं, तब दोनों में से कोई एक पार्टनर रिलेशन को लेकर काफी पजेसिव होने लगता है।

किसी भी रिश्ते में पजेसिव होना एक आम बात हैं लेकिन एक्स्ट्रा-पजेसिवनेस के कारण रिश्तों में अक्सर दरार भी आ जाती है और इसी पजेसिवनेस के कारण ‘ओवरथिंकिंग’ का भी जन्म होता है। ओवरथिंकिंग के कारण कई जगह दूसरे पार्टनर को घुटन होने लगती है और रिश्ता खत्म भी हो सकता है।

ओवरथिंकिंग ज्यादा प्यार की निशानी

‘ओवरथिंकर पार्टनर’ एक ऐसा व्यक्ति होता है जो किसी व्यक्ति के साथ रिश्ते में होता है लेकिन इस प्रयास में वो अधिक व्यवस्थित या ज़्यादा संवेदनशील हो जाता है, जिससे दूसरे व्यक्ति को परेशानी हो सकती है।

इस मामले पर डॉ. प्रवीण त्रिपाठी बतातें हैं कि ओवरथिंकिग से पीड़ित लोग अक्सर नेगेटिव ही सोचते रहते है। उनके अनुसार ओवरथिंकिंग के कारण उनके स्वास्थ्य पर भी गहरा असर पड़ता है।  साथ ही डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि ओवरथिंकर पार्टनर अक्सर अधिक चिंतित और जिज्ञासु होते हैं, जिससे उनसे संबंधित उनका पार्टनर या अन्य व्यक्ति परेशानी में पड़ सकते है।

वहीं रिलेशनशिप में ओवरथिंकिंग के बारे में बताते हुए डॉ. त्रिपाठी ने कहा कि ओवरथिंकिंग ऐसी परिस्थिति होती है जब कोई व्यक्ति अपने पार्टनर की हर छोटी से छोटी चीज़ों पर अनावश्यक बहुत ज्यादा सोचने लगता है।

ओवरथिंकिंग है बड़ी समस्या। चित्र: शटरस्टॉक

डॉ टोरंटो यूनिवर्सिटी की रिलेशनशिप एंड हेल्थ की एक रिपोर्ट के अनुसार अधिकतर ओवरथिंकिंग उन्हीं लोगों में देखी गई है, जो अपने पार्टनर के सुख-दुःख में उनके साथी होते हैं और अपने पार्टनर की छोटी-छोटी हरकतों से भी उन्हें फ़र्क़ पड़ता है।

इसके साथ ही हावर्ड हेल्थ की एक रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कई लोग ऐसे भी होते है, जो हमेशा अपने पार्टनर की हर चीज़ पर कुछ न कुछ सोचते ही रहते है। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया कि व्यक्ति घंटों तक इस मुद्दे पर सोचता रहता है, जिस कारण दूसरा पार्टनर इस चीज़ से अत्यधिक फ़्रस्टेट हो जाता है और कहीं-कहीं तो दोनों के बीच खटास भी आ जाती है।

ओवरथिंकर पार्टनर के साथ ‘एक्स्ट्रा केयर’ है जरूरी

रिश्ते में ओवरथिंकिंग लड़का या लड़की कोई भी कर सकता है। डॉ. त्रिपाठी ने बताया कि, अगर आपका पार्टनर भी हर चीज़ को ओवरथिंक करता है और आपसे तमाम तरह के सवाल पूछता है या किसी मामूली सी बात को बहुत बड़ा बना देता हैं, तो उनपर झुंझलाने या चिल्लाने की बजाय, एक अंडरस्टैंडिंग पार्टनर की तरह आपका ये फ़र्ज़ बनता हैं कि आप उनसे अच्छे तरह से डील करें और उनकी रिस्पेक्ट करें। ओवरथिंकिंग पार्टनर को आप इन तरहों से भी डील कर सकतीं हैं।

अपनी रुचि के विषय चुनें और फ़ीड कस्टमाइज़ करें

कस्टमाइज़ करें

1 उनसे खुलकर बातें करें

अगर आपका पार्टनर भी ओवरथिंक करता है तो, सबसे पहले आप अपने पार्टनर के साथ तमाम तरह की बातें करें और उनसे जानें की आखिर आपकी कौनसी आदत से वे बहुत ज्यादा परेशान होने लगते है या बहुत ज्यादा ओवरथिंक करने लगते है।

 इसके साथ ही उनकी बातों को सुनें और उनके भीतर की बातों को समझने का प्रयास करें। उनकी चिंताओं को समझने के लिए उनसे अधिक प्रश्न पूछें और सहानुभूति दिखाएं।

dont waste life
पार्टनर की बातों को समझने का प्रयास करें। चित्र: शटरस्‍टॉक

2 पार्टनर की बातों का मज़ाक न बनाएं

डॉ. त्रिपाठी के अनुसार, अपने पार्टनर की ओवरथिंकिंग समस्या का समाधान करने के लिए, यह महत्वपूर्ण है कि आप उनकी बातों का मजाक न बनाएं और उनके संवाद को सराहें, समझें, और साहस दें। इसके साथ ही याद रखें कि जब आप उनसे बात करते हैं, तो ध्यान दें कि आप उनके साथ आदरपूर्ण रूप से व्यवहार कर रहे हैं। किसी की भावनाओं का मजाक न उड़ाएं और सभी बातें सावधानीपूर्वक और सहज तरीके से व्यक्त करें।

इसी के साथ जब आपके पार्टनर बात कर रहे हैं, तो उनकी बातों को ध्यान से सुनें और समझें। उनके दिल की बातें महत्वपूर्ण हैं, और आपके समर्थन और समझने से वे अधिक खुल कर बात कर सकते हैं।

3 पार्टनर की इंसेक्योरिटी को समझें

आपके पार्टनर की इंसेक्योरिटी को समझने के बाद, उनकी ओवरथिंकिंग समस्या को समाधान करने के लिए आपके पार्टनर को समझाएं कि आप उनके साथ हैं, उनके साथ खड़े हैं और उनके साथ होने पर गर्व महसूस करते हैं। 

उन्हें यह भरपूर यकीन दिलाएं कि वे आपके लिए महत्वपूर्ण हैं । इसके साथ ही अपने पार्टनर के साथ विश्वास का मजबूती से निर्माण करें। उन्हें यह भी महसूस करने दें कि आप उन पर पूरी तरह से भरोसा करते हैं और उनके साथ होने में खुद को सुरक्षित महसूस करते हैं।

आपके पार्टनर को उनकी इंसेक्योरिटी को पार करने में मदद करने के लिए साहस दें। उन्हें यह समझाएं कि वे किसी भी समस्या का समाधान कर सकते हैं और उनकी क्षमता का भरोसा करें। इसके साथ ही जब आपका पार्टनर सफलता प्राप्त करता हैं या कुछ पॉजिटिव करता हैं, तो उन्हें सकारात्मक प्रतिक्रिया दें। यह उन्हें और भी स्वस्थ और सुरक्षित महसूस कराएगा।

4 एक्सपर्ट से कंसल्ट करें

अगर इन तमाम टिप्स को अपनाने के बाद भी आपको लगता है कि उनकी ओवरथिंकिंग एक्स्ट्रा ही है तो तुरंत किसी मनोचिकित्सक से संपर्क करें। मनोचिकित्सक आपकी परेशानी को अच्छी तरह से समझेगा और उसके लिए उचित मार्गदर्शन देगा।

 

यह भी पढ़े: प्रोडक्टिविटी और रिलेशनशिप के लिए खतरनाक हो सकती है पार्टनर के लिए ऑब्सेशन, जानिए इससे कैसे बाहर आना है

  • 123
लेखक के बारे में

पिछले कई वर्षों से मीडिया में सक्रिय कार्तिकेय हेल्थ और वेलनेस पर गहन रिसर्च के साथ स्पेशल स्टोरीज करना पसंद करते हैं। इसके अलावा उन्हें घूमना, पढ़ना-लिखना और कुकिंग में नए एक्सपेरिमेंट करना पसंद है। जिंदगी में ये तीनों चीजें हैं, तो फिजिकल और मेंटल हेल्थ हमेशा बूस्ट रहती है, ऐसा उनका मानना है। ...और पढ़ें

अगला लेख